• Hindi News
  • चीन की दीवार से 588 गुना छोटी है भारत की दीवार, फिर भी विश्व में दूसरा स्थान

चीन की दीवार से 588 गुना छोटी है भारत की दीवार, फिर भी विश्व में दूसरा स्थान

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
उदयपुर. आपने 'The Great Wall Of China' के बारे में तो सुना ही होगा जो कि विश्व कि सबसे बड़ी दीवार है। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि भारत में भी एक ऐसी दीवार है जो सीधे तौर पर चीन के दीवार को टक्कर देती है। जिसे भेदने की कोशिश महान राजा अकबर ने भी किया लेकिन भेद न सके।
राजस्थान के किले पूरी दुनिया में मशहूर हैं। dainikbhaskar.com 'किले की कहानी' सीरीज में आज आपको बताएगा कि ऐसे कई सारे अद्भुत रहस्यों से भरी है इस किले के दीवार की कहानी।
एक तरफ जहां 'The Great Wall Of China' की लंबाई 21,196 किमी है वहीं एक अंग्रेजी अखबार के अनुसार इस दीवार की लंबाई 36 किमी है। यही नहीं भारत की इस दीवार की मोटाई इतनी है कि उस पर 10 घोड़े एक साथ दौड़ सकते हैं। दरअसल इस दीवार का निर्माण कुंभलगढ़ फोर्ट की सुरक्षा के लिए किया गया था। इस किले के निर्माण में 15 साल (1443-1458) लगे थे। शत्रुओं से रक्षा के लिए इस किले के चारों ओर दीवार का निर्माण किया गया था।
ऐसा कहा जाता है कि चीन की महान दीवार के बाद यह एक सबसे लंबी दीवार है। यह किला 1,914 मीटर की ऊंचाई पर समुद्र स्तर से परे क्रेस्ट शिखर पर बनाया गया है। दुर्ग की विशालता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि यह किसी एक पहाड़ी पर बना हुआ नहीं है, बल्कि इसे कई घाटियों और पहाड़ियों को मिलाकर गढ़ा गया है।
आगे की स्लाइड्स में पढ़ें कैसे बनी ये 36 किलोमीटर लंबी दीवार। साथ ही, पढ़ें आखिर क्यों इसके निर्माण में दी गई थी नरबली