• Hindi News
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • शहर से सटे गांवों में अवैध निर्माण हटाने की कार्रवाई 9 अप्रैल से
--Advertisement--

शहर से सटे गांवों में अवैध निर्माण हटाने की कार्रवाई 9 अप्रैल से

नगर निगम मोहाली के अंतर्गत अाने वाले गांवों में अवैध कंस्ट्रक्शन को नियमों के अनुसार रेगुलर करने को लेकर अभियान...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 02:00 AM IST
शहर से सटे गांवों में अवैध निर्माण हटाने की कार्रवाई 9 अप्रैल से
नगर निगम मोहाली के अंतर्गत अाने वाले गांवों में अवैध कंस्ट्रक्शन को नियमों के अनुसार रेगुलर करने को लेकर अभियान शुरू किया गया है। इसके तहत मटौर, सोहाना, कुंभड़ा, मोहाली, शाहीमाजरा गांवों मंे अब तक जो भी अवैध निर्माण बने हैं। उन्हें गिराया जाएगा। नगर निगम बनने के बाद बिना नक्शा पास बनाए गए ऐसे करीब 72 निर्माणों को गिराने के लिए नोटिस भी भेजे गए हैं। निगम ने पुलिस फोर्स व ड्यूटी मजिस्ट्रेट की भी मांग की है। 9 अप्रैल को निगम डिमॉलिश अभियान चलाने की तैयारी में है, लेकिन लोगों के विरोध के चलते शहर के सभी गांवों में कोई भी अवैध निर्माण गिराए जाने की संभावना कम दिखाई दे रही है। हालांकि सेाहाना में कुछ अवैध निर्माण जरूर गिराए जा सकते हैं। यहां पर अवैध निर्माण को लेकर लंबे समय से कार्रवाई चल रही है।

बिना नक्शा पास निर्माण अवैध कैटेगरी में: वर्ष 2014 में शहर को नगर निगम का दर्जा मिलने के बाद से उक्त गांवों मंे जो भी निमार्ण कार्य बिना नक्शे के किए गए हैं वे अवैध निर्माण की श्रेणी में आते हैं। इन अवैध निर्माणों को गिराने का निगम ने फैसला लिया है। करीब चार सालों से किए गए सर्वे के अनुसार कार्रवाई की जानी है। इस कार्रवाई का मकसद गांवों मंे भी निर्माण कार्यों को नियमों के अनुसार रेगुलेशन में लाना है।


अवैध निर्माण गिराने को लेकर लंबे समय से कार्रवाई चल रही है। पहले भी नगर निगम की ओर से म्यूनिसिपल एक्ट के तहत इन निर्माणों को गिराने के नोटिस भेजे गए थे। साथ ही मकान मालिकों को एक्ट के तहत दिए गए प्रावधान के अनुसार अपने अवैध निर्माण खुद ही गिराने को कहा गया था। जिन लोगों ने अपने निर्माणों को नहीं गिराया है, उन 72 लोगों पर अब कार्रवाई निगम की ओर से की जाएगी।


गांवों में बिना नक्शा बनाए गए अवैध निर्माण गिराने जाने को लेकर पेंडू संघर्ष कमेटी लंबे समय से प्रदर्शन कर रही है। कमेटी के अध्यक्ष परमदीप सिंह बैदवान ने कहा कि निगम का यह फरमान पूरी तरह से न्यायसंगत नहीं है। जिन लेागों ने अवैध निर्माण किए हैं वो उनकी जद्दी जमीन है। निर्माण गिराने के लिए तो निगम आ रहा है लेकिन विकास कार्यों की ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इसी प्रकार निगम के मेयर कुलवंत सिंह के नजदीकी पार्षद हरपाल सिंह चन्ना भी इन अवैध निर्माणों को गिराने के खिलाफ हैं।




X
शहर से सटे गांवों में अवैध निर्माण हटाने की कार्रवाई 9 अप्रैल से
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..