• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Zirakpur
  • गाजीपुर में मोना ग्रीन के अपार्टमेंट में फ्लैट में सो रहे परिवार पर रात 4 बजे हमला नाकाम
--Advertisement--

गाजीपुर में मोना ग्रीन के अपार्टमेंट में फ्लैट में सो रहे परिवार पर रात 4 बजे हमला नाकाम

अगर आप अपने परिवार की सुरक्षा को देखकर जीरकपुर के किसी अपार्टमेंट में फ्लैट ले रहे हैं तो सुरक्षा के इंतजामों को...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:10 AM IST
अगर आप अपने परिवार की सुरक्षा को देखकर जीरकपुर के किसी अपार्टमेंट में फ्लैट ले रहे हैं तो सुरक्षा के इंतजामों को पहले ही अच्छी तरह से चेक कर लें। क्योंकि अधिकतर अपार्टमेंट्स बनाने वाले बिल्डर्स ग्राहकों को जो ब्रोशर देते हैं, वे नाकाम ही साबित हो रहे हैं। ऐसा न हो कि आप अपनी ड्यूटी पर चले जाएं और पीछे से आपके फ्लैट में प|ी, बच्चे और बूढ़ मां बाप के साथ कोई अनहोनी हो जाए। गाजीपुर में मोना ग्रीन अपार्टमेंट में सुरक्षा के इंतजामों को लेकर लोगों में बेहद चिंता है। ऐसे कई अपार्टमेंट्स है। इनमें चोरी की वारदातें हो रही हैं।

रविवार तड़के यहां मोना ग्रीन में 802 नंबर के फ्लैट में परिवार अंदर सो रहा था। फ्लैट के मेन डोर पर दो दरवाजे लगे हैं। एक जाली वाला व दूसरा मेन डोर। इसमें रहने वाले घनश्याम ने बताया कि रात करीब पौने चार बजे दरवाजे पर आवाज आई। यह आवाज मेरी प|ी ने सुनी। बाद में मैं भी जाग गया। आवाज ऐसी थी जैसा कोई किसी चीज पर जोर से चोट मार रहा हो। मैंने आराम से अंदर का मेन डोर खोला। सामने जाली वाला डोर भी लॉक था। मेरे दरवाजा खोलते ही बाहर जो भी लोग थे, वे भाग गए। वे हमारा जाली वाला डोर लॉक कर चले गए।

बाद में मैने अपने पड़ोसी को आवाज देकर दरवाजा खुलवाया तब हम बाहर आए। मैं सोलन में जॉब करता हूं, परिवार की चिंता है। जो यहां 8वीं फ्लोर पर पहुंच सकते हैं। वे किसी के साथ कुछ भी कर सकते हैं। जब सुबह अपार्टमेंट में लगे सीसीटीवी चेक किए तो सभी बंद पड़े थे। इसलिए पता नहीं चला कि कौन यहां रात किस मकसद से आया था। हमला करने आया था या फिर चोरी करने आया थे। वे मेन गेट पर सिक्योरिटी होने के बाद भी अंदर कैसे आ गए। इस पर सिक्योरिटी को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं।




तोड़ा गया दरवाजा।

मैं यहां दो साल से रह रहा हूं। बिल्डर्स को कह कह कर थक चुका हूं। दावा किया था कि 24 घंटे सिक्योरिटी मिलेगी। पर यहां तो सिक्योरिटी के नाम पर एकाध गार्ड ही रखा है। कहीं सीसीटीवी काम नहीं कर रहे हैं। लोगों ने साथ धोखा हो रहा है। - सुधांशु, निवासी मोना ग्रीन गाजीपुर