Hindi News »Chandigarh Zilla »Panchkula »Kalka» शराब, अफीम, हेरोइन व स्मैक के बाद मेडिकल नशा तस्करी

शराब, अफीम, हेरोइन व स्मैक के बाद मेडिकल नशा तस्करी

पंचकूला में अवैध शराब, अफीम, हेरोइन, स्मैक तस्करी के मामले बढ़ते जा रहे हैं। पंचकूला में अब मेडिकल नशा बेचे जाने का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:00 AM IST

शराब, अफीम, हेरोइन व स्मैक के बाद मेडिकल नशा तस्करी
पंचकूला में अवैध शराब, अफीम, हेरोइन, स्मैक तस्करी के मामले बढ़ते जा रहे हैं। पंचकूला में अब मेडिकल नशा बेचे जाने का भी मामला सामने आया है। युवाओं और स्टूडेंट्स को ये नशा सप्लाई किया जाता है। पुलिस ने एमडीसी एरिया में 29 हजार 820 नशे वाली टैबलेट्स पकड़ी हैं। इन टेबलेट्स में नशा इतना है कि एक भी खा ली जाए तो पूरा शरीर बेजान सा हो जाता है और इस नशे की लत पड़ जाती है। पुलिस ने एमडीसी के सकेतड़ी रोड पर एक स्कूटर को माता मनसा देवी की ओर आते हुए देखा। पुलिस ने उसे रोकने की कोशिश की तो वापस जाने लगा। पुलिस ने पीछा कर स्कूटर को रुकवाया। तलाशी ली तो नशीली दवाइयां बरामद हुई। यहां पकड़े गए आरोपियों में सकेतड़ी का रहने वाला हंसराज उर्फ हैप्पी और बिजनौर का रहने वाला अब्दुल कादिर शामिल हैं। हैप्पी स्कूटर चला रहा था और अब्दुल इस ड्रग्स को बीच में रखकर बैठा हुआ था। पुलिस को पहले तो इन दवाइयों के बारे में पता ही नहीं चला। कुछ समझ ही नहीं आ रहा था। जब दवाइयों की मात्रा ज्यादा देखी तो ड्रग्स कंट्रोल डिपार्टमेंट से बात की गई और वहां से टीम को बुलाया गया। पुलिस ने हैप्पी और अब्दुल के खिलाफ ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट 1940 के तहत एक्ट 18 (9), नारकोटिक्स ड्रग्स एंड कोटपा एक्ट, सीडीसी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। पंचकूला ड्रग्स कंट्रोल अधिकारी प्रवीण कुमार ने सैंपल भरकर लैब में भेजे हैं।

ये दवाइयां स्मैक से भी खतरनाक..

ये नशीली दवाइयां बरामद...

1. इस बैग में लोमोफीट टेबलेट्स के 891 पत्ते मिले। हर पत्ते में 20 टैबलेट्स हैं। कुल टैबलेट्स 17 हजार 820 थी।

तीन महीने में ये केस भी आए...

1. तीन महीने के दौरान दो बार पिंजौर एरिया में शराब की बड़ी खेप है। कालका-पिंजौर में कई बार लोगों से शराब पकड़ी गई है।

अमित शर्मा | पंचकूला

पंचकूला में अवैध शराब, अफीम, हेरोइन, स्मैक तस्करी के मामले बढ़ते जा रहे हैं। पंचकूला में अब मेडिकल नशा बेचे जाने का भी मामला सामने आया है। युवाओं और स्टूडेंट्स को ये नशा सप्लाई किया जाता है। पुलिस ने एमडीसी एरिया में 29 हजार 820 नशे वाली टैबलेट्स पकड़ी हैं। इन टेबलेट्स में नशा इतना है कि एक भी खा ली जाए तो पूरा शरीर बेजान सा हो जाता है और इस नशे की लत पड़ जाती है। पुलिस ने एमडीसी के सकेतड़ी रोड पर एक स्कूटर को माता मनसा देवी की ओर आते हुए देखा। पुलिस ने उसे रोकने की कोशिश की तो वापस जाने लगा। पुलिस ने पीछा कर स्कूटर को रुकवाया। तलाशी ली तो नशीली दवाइयां बरामद हुई। यहां पकड़े गए आरोपियों में सकेतड़ी का रहने वाला हंसराज उर्फ हैप्पी और बिजनौर का रहने वाला अब्दुल कादिर शामिल हैं। हैप्पी स्कूटर चला रहा था और अब्दुल इस ड्रग्स को बीच में रखकर बैठा हुआ था। पुलिस को पहले तो इन दवाइयों के बारे में पता ही नहीं चला। कुछ समझ ही नहीं आ रहा था। जब दवाइयों की मात्रा ज्यादा देखी तो ड्रग्स कंट्रोल डिपार्टमेंट से बात की गई और वहां से टीम को बुलाया गया। पुलिस ने हैप्पी और अब्दुल के खिलाफ ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट 1940 के तहत एक्ट 18 (9), नारकोटिक्स ड्रग्स एंड कोटपा एक्ट, सीडीसी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। पंचकूला ड्रग्स कंट्रोल अधिकारी प्रवीण कुमार ने सैंपल भरकर लैब में भेजे हैं।

2. फोर्टिज़ रिफाइडीड आयोडाइज्ड सॉल्ट की टेबलेट्स मिली। 600 पत्ते बैग में थे। ये कुल 12 हजार गोलियां थी। कुल 29 हजार 820 गोलियां मिली।

2. सेक्टर 20 के एरिया में, पिंजौर एरिया में पुलिस ने 6 लोगों को स्मैक के साथ पकड़ा है। इनसे 30 से 80 ग्राम तक स्मैक मिली है।

3. इस दौरान यहां लोमोफीट 2.5 एमजी और एटरोपीन सल्फाक 0.025 एमजी थी। इन सभी दवाइयों का कुल वजन दो किलो था।

3. सेक्टर-20 और हाईवे के एरिया से भी एक आरोपी को हेरोइन के साथ पकड़ा था। इससे पहले भी कई नशा तस्कर पकड़े हैं।

एक्सपर्ट कमेंट्स...

डॉक्टर अमरजीत के अनुसार जो नशीली दवाइयां बरामद हुई हैं वे अफीम, स्मैक, हेरोइन से भी खतरनाक हैं। इनका सेवन करने से युवाओं को कुछ भी पता नहीं चलता है। ये बहुत ही जल्दी इफेक्ट करती हैं। एक टेबलेट लेने के बाद पूरा शरीर बेजान सा हो जाता है। कुछ भी पता नहीं चलता। इनका इफेक्ट 8 से 10 घंटे रहता है। ज्यादा डोज लेने पर मौत भी हो सकती है। अगर कुछ ही दिनों तक इन्हें लिया जाए तो इनकी लत पड़ जाती है।

युवाओं और स्टूडेंट्स को होता है नशा सप्लाई

सूत्रों के अनुसार इस मेडिकल ड्रग्स को पंचकूला के साथ-साथ चंडीगढ़, मोहाली में युवाओं को सप्लाई किया जाता है। इसे हैप्पी और उसका साथी सप्लाई करते थे। इनका कुछ स्टॉक सकेतड़ी में रखा जाता था, बाकी ऑर्डर पर मंगलवाया जाता था।

मेडिकल ड्रग्स को स्टूडेंट्स को सप्लाई किया जाता है। युवाओं और स्टूडेंट्स को ये नशा दिया जा रहा है, ताकि परिवार के लोगों को इस बारे में पता भी न चले।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kalka

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×