--Advertisement--

इस एक वजह से बैंक आपका अकाउंट खोलने से मना नहीं कर सकता, जानें ऐसे ही 6 अधिकार

कई ग्राहकों को इन अधिकारों की जानकारी नहीं होती है। इसके कारण वे अपने अधिकारों का फायदा नहीं उठा पाते हैं।

Dainik Bhaskar

Dec 14, 2017, 12:05 AM IST
Six basic rights for bank customers

यूटिलिटी डेस्क। ज्यादातर लोगों का बैंक में अकाउंट होता है। यहां पर अकाउंट खुलवाने वाले हर व्यक्ति को बैंक कुछ अधिकार देता है। लेकिन कई ग्राहकों को इन अधिकारों की जानकारी नहीं होती है। इसके कारण वे अपने अधिकारों का फायदा नहीं उठा पाते हैं। इस के जरिए हम आपको बता रहे हैं बैंक कस्टमर्स के ऐसे अधिकार जो हर व्यक्ति को पता होना चाहिए...

> चेक कलेक्शन में देरी होती है तो कस्टमर को बैंक से मुआवजा पाने का अधिकार है।

> कस्टमर के अकाउंट से हुए अनऑथराइज्ड ट्रांजेक्शन के लिए बैंक ग्राहक को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते।

> सिर्फ परमानेंट एड्रेस न होने के चलते कोई भी बैंक आपका अकाउंट ओपन करने से मना नहीं कर सकता।

> कस्टमर्स की निजी जानकारी को गुप्त रखना बैंक की जिम्मेदारी है। बैंक इसे किसी अन्य से शेयर नहीं कर सकता।

> जाति, धर्म, लिंग वगैरह के आधार पर बैंक किसी के साथ भेदभाव नहीं कर सकता।

> कोई भी व्यक्ति NEFT के जरिए 50 हजार रुपए तक की रकम ट्रांसफर कर सकता है।

X
Six basic rights for bank customers
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..