कोरोना से जंग लड़ने के लिए लोनिवि के 1532 इंजीनियर्स करेंगे अंशदान

Shimla News - देश में काेराेना वायरस से लड़ने के लिए प्रदेश प्रदेश के विभिन्न संगठन अागे अाने लगे हैं। कर्मचारी संगठनाें अाैर...

Mar 27, 2020, 07:20 AM IST

देश में काेराेना वायरस से लड़ने के लिए प्रदेश प्रदेश के विभिन्न संगठन अागे अाने लगे हैं। कर्मचारी संगठनाें अाैर सामाजिक संगठन काेविड 19 रिस्पांस फंड और मुख्यमंत्री राहत कोष में जमकर अंशदान कर रहे हैं। प्रदेश के लोक निर्माण विभाग के इंजीनियर भी साथ आए हैं। इस विभाग के 1532 इंजीनियर सीएम रिलीफ फंड में अंशदान करेंगे। इंजीनियरों ने इसकी शुरूआत कर भी दी है। इन इंजीनियरों ने सीएम रिलीफ फंड में ऑनलाइन अंशदान करना शुरू कर दिया है। ये इंजीनियर स्वेच्छा से दान कर रहे हैं। ये इंजीनियर दो हजार रुपए से लेकर 51 हजार रुपए तक अंशदान के रूप में देंगे। विधानसभा में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अपील से प्रेरित होकर लोकनिर्माण विभाग के इंजीनियर आगे आए हैं और अंशदान करने लगे हैं। उनका यह क्रम जारी है और आने वाले दिनों में भी चलेगा। इनमें दो प्रमुख अभियंताओं समेत, छह चीफ इंजीनियर, 35 एसई, 117 एक्सईएन, 370  सहायक अभियंता और 1081 जेई समेत 11 सहायक वास्तुकार शामिल हैं।

प्रमुख अभियंता (प्रोजेक्ट) ललित भूषण ने बताया कि करोना वायरस से निपटने के लिए अपने सभी अभियंताओं को सीएम रिलीफ फंड में अधिक से अधिक अंशदान करने की अपील की गई है। गौर हो कि राज्य के चारों लोकसभा सांसदों ने सांसद निधि से इस रोग से लड़ने के लिए अंशदान किया है। वहीं, राजनीतिक दलों के नेताओं ने भी आगे आते हुए अंशदान शुरू किया है। भाजपा विधायकों ने एक-एक माह की सैलरी इसमें दान की है। वहीं कुछ पूर्व विधायकों ने अपनी पेंशन इसमें दी है। उधर, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने भी व्यक्तिगत रूप से सीएम रिलीफ फंड में 50 हजार रुपए देने का ऐलान किया है।

रिलीफ फंड को दिए 11 लाख...बिलासपुर से एसीसी की बरमाणा सीमेंट फैक्टरी से ढुलान कार्य करने के साथ ही सामाजिक कार्यों में बढ़चढ़ कर योगदान देने वाली ट्रक आॅपरेटर परिवहन सहकारी सभा बीडीटीएस कोरोना वायरस से उपजे संकट के बीच जरूरतमंदों की मदद के लिए भी आगे आई है। सभा ने 11 लाख रुपये सीएम रिलीफ फंड में दिए हैं। वीरवार को यह राशि सभा के बैंक अकाउंट से सीएम रिलीफ फंड के अकाउंट में ट्रांसफर की गई। सभा के अध्यक्ष जीतराम गौतम व महासचिव रजनीश ठाकुर ने कहा कि कोरोना वायरस के खतरे को टालने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा देश भर में लाॅकडाउन लागू करना स्वागतयोग्य फैसला है। लोगों को इस वायरस की चपेट में आने से बचाने का केवल यही एक रास्ता है। हालांकि इससे कामकाज पूरी तरह से ठप हो गया है, जिसका सबसे अधिक असर दिहाड़ी लगाकर गुजर-बसर करने वालों पर पड़ रहा है। जरूरतमंदों की मदद के लिए बीडीटीएस भी सरकार के साथ है। इसी के मद्देनजर सीएम रिलीफ फंड में 11 लाख रुपये का अंशदान दिया है।

अनुबंध नियमित कर्मचारी संगठन काेविड 19 रिस्पांस फंड में देगा अपने एक दिन का वेतन

मंडी. हिमाचल अनुबंध नियमित कर्मचारी संगठन के प्रदेश अध्यक्ष मनीष गर्ग, प्रदेश महासचिव अनिल सेन, संरक्षक राजेश जय सिंह पुरिया सलाहकार राजेश वर्मा, संगठन सचिव अशोक वालिया, आईटी सेल प्रमुख संदीप चंदेल, वित्त सचिव विजय शर्मा, प्रदेश प्रवक्ता संजय कुमार, सचिव मोहन ठाकुर, प्रेस सचिव राकेश चौहान और प्रेमपाल पठानिया ने सामूहिक बयान में कहा कि उनका संगठन नियुक्ति की तिथि से वरिष्ठता व अनुबंध काल को कुल सेवाकाल में जोड़ने के संदर्भ में कई वर्षों से संघर्षरत है, परंतु इस संकट की घड़ी में कोरोना वायरस से फैली भीषण महामारी से लड़ने के लिए प्रदेश सरकार के साथ कंधे से कंधा मिला कर खड़ा है। प्रदेश के हर विभाग में कार्यरत 60 हजार अनुबंध और अनुबंध से नियमित कर्मचारी अपनी स्वेच्छा से काेविड 19 रिस्पांस फंड में अपने 1 दिन का वेतन देने के लिए तैयार हैं। ताकि उस पैसे का इस्तेमाल जरूरतमंदों के लिए दवाइयां, सैनिटाइजर और बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए किया जा सके। इसके अतिरिक्त हिमाचल अनुबंध अनियमित कर्मचारी संगठन के पदाधिकारी और संगठन से जुड़े सक्रिय कार्यकर्ता अपने स्तर पर प्रदेश भर में स्थानीय जनता को सोशल मीडिया और फोन के माध्यम से भी भी प्रदेश सरकार द्वारा लगाए गए कर्फ्यू का सख्ती से पालन करने, और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मोदी और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी द्वारा इस महामारी से निपटने हेतु कारगर उपाय सामाजिक दूरी का महत्व व अन्य उपाय बारे भी लोगों को जागरूक कर रहा है। संगठन के प्रदेश महासचिव अनिल सेन ने कहा कि संगठन के पदाधिकारी और सक्रिय कार्यकर्ता इस महामारी से उन्मूलन के लिए अगर प्रदेश सरकार इसकी इजाजत दे दो वालंटियर के तौर पर कार्य करने के लिए भी तैयार हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना