Hindi News »Breaking News» 'मेजबान को दिन-रात टेस्ट मैच करवाने की अधिक आजादी मिलनी चाहिए'

'मेजबान को दिन-रात टेस्ट मैच करवाने की अधिक आजादी मिलनी चाहिए'

'मेजबान को दिन-रात टेस्ट मैच करवाने की अधिक आजादी मिलनी चाहिए'

IANS | Last Modified - May 02, 2018, 04:30 PM IST

'मेजबान को दिन-रात टेस्ट मैच करवाने की अधिक आजादी मिलनी चाहिए'
'मेजबान को दिन-रात टेस्ट मैच करवाने की अधिक आजादी मिलनी चाहिए'

सदरलैंड का यह बयान तब आया है जब हाल ही के दिनों में कुछ देशों में गुलाबी गेंद से दिन-रात प्रारूप टेस्ट मैच खेलने के प्रति अनिच्छा जाहिर की थी।
भारत को इसी साल के अंत में आस्ट्रेलिया का दौरा करना है। सीए चाहता है कि भारत छह दिसंबर को एडिलेड में दिन-रात प्रारूप का टेस्ट मैच खेले लेकिन भारतीय बोर्ड ने इसके लिए अभी तक हामी नहीं भरी है और वह इसके लिए तैयार भी नहीं लग रहा है।
सदरलैंड ने एसईएन रेडियो से मंगलवार को कहा, ""मेरा निजी तौर पर मानना है कि मेजबान देश को अपनी सहूलियत के हिसाब से कार्यक्रम तय करने का हक होना चाहिए।""
उन्होंने कहा, ""एडिलेड में दिन-रात प्रारूप का टेस्ट मैच सफल रहा है। दर्शकों की तादाद के हिसाब से यह अच्छा रहा है। साथ ही टेलीविजन पर भी लोगों ने इसे काफी हद तक देखा। यह भविष्य का रास्ता बताता है।""
आस्ट्रेलिया ने अभी तक अपने सभी दिन-रात प्रारूप के टेस्ट मैचों में जीत हासिल की है। उसने एडिलेड ओवल पर न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड को मात दी है।
सदरलैंड को लगता है कि गुलाबी गेंद से आस्ट्रेलिया का शानदार फॉर्म भारत के न करने की वजह हो सकता है।
उन्होंने कहा, ""भारत हो सकता है कि इस बार इस पर राजी न हो लेकिन मुझे अभी भी भरोसा है कि यह प्रारूप भविष्य है। विश्व क्रिकेट में सभी लोग यह बात जानते हैं।""
उन्होंने कहा, ""साफ तौर पर कहूं तो वह यहां आकर हमें हरा सकते हैं। यह सच्चाई है कि आस्ट्रेलिया ने अभी तक दिन-रात प्रारूप में कोई भी टेस्ट मैच नहीं हारा है। हो सकता है कि इससे उन्हें लगता हो कि यह हमारे लिए एक बढ़त वाली बात है।""
भारतीय टीम इसी साल के अंत में 21 नवंबर से 19 जनवरी के बीच आस्ट्रेलिया के दौरे पर रहेगी जहां वो तीन टी-20 मैच, चार टेस्ट और तीन वनडे मैचों की सीरीज खेलेगी।
--आईएएनएस
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Breaking News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×