Hindi News »Abhivyakti »Editorial» Campaigning Essential Like Polio To Remove Tb

टीबी से मुक्ति के लिए पोलियो जैसा अभियान चलाना होगा

दुनिया में तपेदिक के जो एक करोड़ से ज्यादा मामले सामने आए, उनमें 27 लाख से ज्यादा भारत में दर्ज किए गए।

कैलाश बिश्नोई | Last Modified - Mar 21, 2018, 04:18 AM IST

टीबी से मुक्ति के लिए पोलियो जैसा अभियान चलाना होगा
भारत से 2025 तक टीबी खत्म करने के महत्वाकांक्षी लक्ष्य के साथ ‘टीबी मुक्त भारत अभियान’ की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारा लक्ष्य विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की समय सीमा वर्ष 2030 से पांच साल पहले टीबी के खात्मे का है। किंतु इस कठिन मुकाम को हासिल करने के लिए सरकार को एक्टिव केस, निगरानी, शोध, नि:शुल्क दवाएं और निजी स्वास्थ्य क्षेत्र पर खास तौर पर जोर देना होगा।
आज भारत टीबी रोग से सर्वाधिक प्रभावित देश है। डब्ल्यूएचओ की ग्लोबल टीबी रिपोर्ट 2016 पर नज़र डालें तो पता चलता है दुनिया में तपेदिक के जो एक करोड़ से ज्यादा मामले सामने आए, उनमें 27 लाख से ज्यादा भारत में दर्ज किए गए यानी विश्व में इसका हर चौथा मरीज भारतीय है। यही नहीं विश्व में प्रतिवर्ष 14 लाख मौतें टीबी से होती हैं। इनमें से चार लाख बीस हजार मौतें अकेले भारत में होती हैं। एक कड़वी सच्चाई यह है कि जब तक हम युद्धस्तर पर कुपोषण, एनीमिया तथा भुखमरी से नही निपटेंगे तब तक टीबी को जड़ से मिटाना संभव नहीं है, क्योंकि टीबी एक ऐसी बीमारी है जो ठीक पोषण न मिलने से इंसान को जकड़ती है। जब तक सार्वजनिक चिकित्सा व्यवस्था की बदहाली दूर नहीं होगी, तब तक टीबी से आधी-अधूरी लड़ाई ही लड़ी जा सकती है, कस्बों-गांवों की हालत बेहद खस्ता है। वहां न तो पर्याप्त डॉक्टर हैं और न ही अस्पताल।
इसके अलावा टीबी मरीजों का नोटिफिकेशन अनिवार्य किया जाए ताकि मरीज निजी डॉक्टर के पास पहुंचे तो डॉक्टर उसका नोटिफिकेशन सरकार तक कराए। अब जरूरत इस बात की भी है कि तपेदिक नियंत्रण की जिम्मेदारी सिर्फ डॉक्टरों तक सीमित नहीं रहे, बल्कि चिकित्सा प्रशासकों, राजनीतिज्ञों तथा गैर-सरकारी संगठनों को भी इस मुहिम में बढ़-चढ़कर के हिस्सेदारी करनी होगी। साथ ही अगर भारत सरकार पल्स पोलियो अभियान की सफलता को टीबी मुक्त भारत के रूप में दोहराना चाहती है तो सरकारी और निजी दोनों प्रकार के अस्पतालों में भर्ती होने वाले सभी तपेदिक रोगियों को नि:शुल्क निदान एवं इलाज की व्यवस्था मुहैया करवानी होगी,तभी टीबी हारेगा और देश जीतेगा।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Editorial

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×