Hindi News »Abhivyakti »Editorial» Number System School Students Life

नंबर गेम छोड़कर छात्रों को मानसिक रूप से दृढ़ बनाना होगा

दुर्भाग्य से हमारे देश में मानसिकता यह है कि केवल अच्छे अंक लाने वाले ही सफल हैं।

कैलाश बिश्नोई | Last Modified - Feb 22, 2018, 10:03 AM IST

नंबर गेम छोड़कर छात्रों को मानसिक रूप से दृढ़ बनाना होगा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले दिनों दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में छात्रों से ‘परीक्षा पर चर्चा’ करते हुए कहा कि मार्क्स जिं़दगी नहीं होती तथा किसी बच्चे की योग्यता, क्षमता और बुद्धिमत्ता का पैमाना महज अंकों का प्रतिशत नहीं होता, क्योंकि हर बच्चे के पास अपनी विशिष्ट प्रतिभा होती है। उन्हें भीतर छिपी क्षमताओं को जगाना चाहिए। प्रधानमंत्री की इन बातों का महत्व इसलिए ज्यादा है, क्योंकि बोर्ड परीक्षाओं में 95 से 100 प्रतिशत हासिल करने की अंधी दौड़ मची है तथा 95 प्रतिशत से कम अंक पाने वाले छात्र औसत कहलाने लगे हैं।

कई बार विद्यार्थी परीक्षा में अपनी उम्मीदों से कुछ कम अंक आने पर निराश तथा हताश हो जाते हैं और अपनी जिं़दगी ही दांव पर लगा देते हैं। दुर्भाग्य से हमारे देश में मानसिकता यह है कि केवल अच्छे अंक लाने वाले ही सफल हैं, जबकि वास्तविकता में ज्ञान का अंकों से कोई खास लेना-देना नहीं होता है। सबसे अव्वल दर्जे के अंक के आधार पर इस बात की कतई गारंटी नहीं दी जा सकती कि इन अंकों के साथ पास बच्चा व्यावहारिकता में उतना ही योग्य भी होगा। लेकिन आज शिक्षा का मुख्य उद्देश्य अंकों की इस दौड़ में कहीं गुम होकर रह गया है।

देशभर से हर दिन किसी न किसी छात्र के आत्महत्या करने की खबर आती है। छात्रों को डॉक्टर, इंजीनियर या आईएएस अफसर बनने के लिए खूब प्रेरित किया जाता है परंतु जीवन के संघर्षों के प्रति संवेदनशील,मजबूत, सुदृढ़ इन्सान बनने के लिए न के बराबर प्रेरित किया जाता है। ऐसे में पढ़ने-पढ़ाने की पूरी प्रक्रिया और उसके बाद के नतीजों को तौलने-परखने का वक्त आ गया है।

बढ़ते तनाव को कम करने के लिए स्कूलों में भी समय- समय पर बच्चों की काउंसलिंग होनी चाहिए, ताकि वे मानसिक रूप से धैर्यवान, सबल और इस हद तक मजबूत बन सकें कि जीवन की सम्भावित कठिनाइयों, परेशानियों के समक्ष सहज रह सकें। अभिभावकों को भी चाहिए कि नंबर गेम की बजाय बच्चे की प्रतिभा को समझें। तथा उन्हें अपनी रुचि के अनुरूप पढ़ने और कॅरियर का चुनाव करने की आज़ादी दें।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Editorial

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×