--Advertisement--

वीरता व धीरता दिलाती हैं बड़ी सफलता

शेर की जितनी खूबियां होती हैं उनमें से एक है उसका बेफिक्र होना।

Dainik Bhaskar

Dec 19, 2017, 06:47 AM IST
Heroism and endurance give great success
शेर की जितनी खूबियां होती हैं उनमें से एक है उसका बेफिक्र होना। वह जंगल का राजा होने के कारण निश्चिंत रहता है, ऐसा नहीं है। देखा जा रहा है कि आजकल तो राजा ही सबसे ज्यादा चिंता में डूबे हुए हैं। शेर भी यदि डरता है तो मनुष्य से नहीं, उसके धोखे से भयभीत होता है। अंगद रावण के दरबार में पहुंच चुके थे और उनके हाव-भाव पर तुलसीदासजी ने दोहा लिखकर हमें संदेश दिया है, ‘गयउ सभा दरबार तब सुमिरि राम पद कंज। सिंह ठवनि इत उत चितव धीर बीर बल पुंज।। श्रीराम के चरण कमलों का स्मरण कर अंगद रावण की सभा के द्वार पर पहुंचे और शेर सी शान से इधर-उधर देखने लगे। यहां अंगद के लिए दो शब्द लिखे हैं- धीर और वीर। धीरता और वीरता जब एक साथ मिलती है तो आदमी बल का पुंज बन जाता है। वीर यदि धैर्य न रखे तो उसकी सारी ऊर्जा आवेश और आक्रोश में व्यर्थ चली जाएगी। लंका में अंगद जो निर्णय ले रहे थे उसमें पूरी तरह से जागरूक थे, क्योंकि वीर होकर धैर्य से काम ले रहे थे। वरना वीर में प्राय: धीरज का अभाव देखा गया है। अंगद वीरता और धीरता के लक्षण उस समय दिखा रहे थे जब पहली बार कोई बड़ा काम करने गए थे। जीवन में यदि कोई ऐसी चुनौती, ऐसा अभियान आए जिसमें हम पहली बार जा रहे हों और बहुत अधिक अनुभव न हो तो कम से कम वीरता और धीरता, ये दो चीजें बचाए रखिए। पहली बार में ही बड़े से बड़े काम में भी सफल हो जाएंगे।
X
Heroism and endurance give great success
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..