जब भगतसिंह ने किया कर्ज माफ / जब भगतसिंह ने किया कर्ज माफ

विख्यात क्रांतिकारी भगतसिंह अपनी दयालुता के कारण भी जाने जाते हैं।

Oct 27, 2014, 05:55 AM IST
Bhaskar editorial on jeevan darshan
विख्यात क्रांतिकारी भगतसिंह अपनी दयालुता के कारण भी जाने जाते हैं। निर्धनों के प्रति उनके हृदय में अपार दया थी और यदि कोई गरीब मदद के लिए उनके पास आता तो वे मदद करने का यह मौका कभई नहीं छोड़ते थे। उन्होंने स्वयं भी गरीबी को भोगा था, इसलिए अपनी आर्थिक स्थिति में सुधार आने के बाद वे गरीबों की मदद करने लगे। भगतसिंह के परिवार के पास कुछ खेत थे। उनमें काम करने वाले मजदूर निर्धन थे। भगतसिंह उनसे मालिक-नौकर वाला व्यवहार नहीं रखते थे। उनके साथ बराबरी का व्यवहार करते और उनके संकट की घड़ी में उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े होते थे। जब वे मजदूर भोजन करने बैठते, तो भगतसिंह को उनका खाना देखकर बहुत दु:ख होता था। वे देखते थे कि मजदूर रुखी-सूखी रोटी खा रहे हैं। तब भगतसिंह उनके भोजन में कुछ चिकनाई वाली व स्वादिष्ट वस्तुएं मंगवाकर शामिल कर देते थे। गाहे-बगाहे रुपए-पैसे से भी यथाशक्ति उनकी सहायता करते थे। एक बार मंगलसिंह नामक मजदूर के विषय में भगतसिंह को मालूम पड़ा कि उस पर तीन हजार रुपए का कर्ज हो गया है और वह कर्ज भगतसिंह से ही लिया गया था। इस कर्ज का अधिकांश हिस्सा उसने परिवार में होने वाली शादियों में लिया था। मंगलसिंह की निर्धनता को देखते हुए भगतसिंह ने उसका सारा कर्ज माफ कर दिया और उसे समझाया कि भविष्य में वह कर्ज लेकर झूठी शान दिखाने का प्रयास न करे। मंगलसिंह जीवन भर के लिए भगतसिंह का ऋणी हो गया। भगतसिंह के जीवन के इस प्रसंग का सार यह है कि यदि हम अपनी आय का एक छोटा-सा हिस्सा भी निर्धनों के लिए व्यय करें तो देश का बड़ा तबका निर्धनता से मुक्त हो सकता है।
X
Bhaskar editorial on jeevan darshan
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना