• Defence Preparedness is necessary of country Despite the claim

दावे के बावजूद जरूरी है देश की रक्षा तैयारियां / दावे के बावजूद जरूरी है देश की रक्षा तैयारियां

निश्चित तौर पर वह रिपोर्ट 2015 की स्थिति पर है और संभव है कि तबसे सेना की स्थिति में सुधार हुआ हो।

Sep 12, 2017, 05:40 AM IST
देश की दूसरी महिला रक्षामंत्री निर्मला सीतारमन ने बाड़मेर के उत्तरलाई हवाई अड्डे पर यह दावा करके देश को आश्वस्त करने की कोशिश की है कि सेना के पास पर्याप्त हथियार और गोला बारूद हैं, इसके बावजूद देश की रक्षा तैयारियों में किसी प्रकार की ढील दिए जाने की गुंजाइश नहीं है। निर्मला सीतारमन ने नियंत्रक और लेखा महापरीक्षक(सीएजी) की उस रिपोर्ट को गलत बताया है, जिसमें दावा किया गया था कि सेना के पास सिर्फ 20 दिन लड़ने का गोला बारूद है जबकि किसी भी हालत में यह तैयारी 40 दिन के लिए होना आवश्यक है। सीएजी की उस रिपोर्ट पर पूर्व रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने भी कहा था कि वह किसी एक समय के आकलन पर आधारित है और अब स्थितियां बदल चुकी हैं। निश्चित तौर पर वह रिपोर्ट 2015 की स्थिति पर है और संभव है कि तबसे सेना की स्थिति में सुधार हुआ हो। इसके बावजूद उस रिपोर्ट में जितनी तैयारियों की जरूरत बताई गई थी वह इतनी जल्दी पूरी हो गई होगी ऐसा लगता नहीं है। सेना ने हाल में 40,000 लाइट मशीनगन का सौदा रद्द किया था जो सेना की जरूरत थी और वह कमी अभी पूरी नहीं हुई है। इसी तरह सेना को चार हजार हॉवित्जर तोपों की जरूरत है। सेना को नए हेलिकॉप्टर चाहिए, क्योंकि चीता और चेतक का मॉडल पुराना हो चुका है और उन्हें बदलने की जरूरत है। इसी तरह वायुसेना में मिग विमानों की पीढ़ी काफी पुरानी हो चुकी है और उनके हादसों की बढ़ती संख्या के कारण उन्हें चलता-फिरता ताबूत तक कहा जाता है। अभी वायुसेना को 126 लड़ाकू विमानों की जरूरत है और इस दिशा में फ्रांस से 36 रैफल विमान का सौदा हुआ है। सेना को 2027 तक 200 जहाज चाहिए और अभी उसके पास 145 हैं जिनमें बदलाव करना पड़ेगा। सवाल यह है कि यह सारी रक्षा तैयारी होगी कैसे? सरकार इसके लिए ‘मेक इन इंडिया’ योजना के माध्यम से अपना लक्ष्य पाना चाहती है। इस क्षेत्र में रिलायंस डिफेंस जैसी कंपनी ने फ्रांस की डसाल्ट एविएशन के साथ सौदा किया है। लेकिन रिलायंस जैसी कंपनी इस क्षेत्र में एकदम नई है और उसे रक्षा उपकरणों के निर्माण का कोई अनुभव नहीं है। इसलिए चुनौती यह है कि किस तरह से तेजी से हथियार और गोला बारूद की आवश्यकता पूरी की जाए और साथ ही उनकी उच्च गुणवत्ता कायम की जाए।
X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना