पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बुद्ध ने फटेहाल को सबसे सुखी बताया

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

एक बार भगवान बुद्ध अपने शिष्यों के साथ पाटलिपुत्र पहुंचे। सभी लोग विहार में रुके। भोजन के बाद बुद्ध ने आनंद से अगले दिन से प्रवचन आरंभ करने को कहा। अगले दिन बुद्ध के प्रवचन सुनने बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे। बुद्ध प्रवचन देने के बाद लोगों से मिलते, उनकी समस्याएं सुनते और नेक सलाह देते।

एक दिन प्रवचन के समय बुद्ध के शिष्य आनंद ने उनसे पूछा- भंते! आपके सामने हजारों लोग बैठे हैं। बताइए कि इनमें सबसे सुखी कौन है? बुद्ध ने एक विहंगम दृष्टि भीड़ पर डालते हुए कहा- वह देखो, सबसे पीछे एक दुबला-पतला फटे वस्त्र पहने जो आदमी बैठा है, वह सर्वाधिक सुखी है। आनंद सहमत नहीं हुआ। वह बोला- यह कैसे संभव है? वह तो बहुत दयनीय जान पड़ता है।

बुद्ध ने अपनी बात सिद्ध करने के लिए बारी-बारी से सामने बैठे लोगों से पूछा- तुम्हें क्या चाहिए? किसी ने संतान मांगी, तो किसी ने मकान। कोई रोगमुक्ति चाहता था, तो कोई अपने शत्रु पर विजय। ऐसा एक भी व्यक्ति नहीं था, जिसे कोई इच्छा न हो। अंत में बुद्ध ने उस फटेहाल आदमी को बुलाकर पूछा- तुम्हें क्या चाहिए? उसने हाथ जोड़कर जवाब दिया- Rकुछ नहीं। यदि ईश्वर को मुझे कुछ देना ही है तो बस इतना कर दे कि मेरे अंदर कभी कोई चाह पैदा न हो। मैं ऐसे ही स्वयं को सबसे बड़ा सुखी मानता हूं।ञ्ज उसकी बात सुनकर आनंद से बुद्ध ने कहा-आनंद!

जहां चाह है वहां सुख नहीं हो सकता। आनंद ने बुद्ध की इस शिक्षा को सदा के लिए गांठ बांध लिया। सार यह है कि लालसा से लोभ बढ़ता है, जो असंतोष का जनक होता है। यदि सही अर्थो में सुख पाना है तो लालसा के स्थान पर उपलब्ध स्थितियों में संतुष्ट रहना चाहिए।