• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • वंचितों को मुख्यधारा में लाने के लिए आरक्षण जरूरी

वंचितों को मुख्यधारा में लाने के लिए आरक्षण जरूरी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पटना| बिहारविधानसभा के पूर्व अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी ने कहा कि समाज की मुख्यधारा में वंचित वर्गों के लोगों को लाने के लिए आरक्षण जरूरी है। लेकिन, देश में आरक्षण समाप्त करने की बहस चल रही है। दलित उत्पीड़न की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं। इन चुनौतियों से निपटने के लिए वंचित वर्गों यानी दलित, आदिवासी, पिछड़े, अल्पसंख्यक समाज के लोग पटना में मंथन करेंगे। राजधानी के एएन सिन्हा इंस्टीट्यूट सभागार में रविवार सुबह 10 बजे से संगोष्ठी की शुरुआत होगी, जो शाम 4 बजे तक चलेगी। वे शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस कर रहे थे। उन्होंने कहा कि संविधान के दृष्टिकोण से आरक्षण कितना जरूरी है, इस पर संवैधानिक विचार सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति केजी बालाकृष्णन रखेंगे। देश में दलित उत्पीड़न पर वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश अपनी बात रखेंगे। सामाजिक कार्यकर्ता मीना आम खरे भी विचार रखेंगे। इस संगोष्ठी में बिहार के अलावा उत्तर प्रदेश, झारखंड से वंचित वर्गों के प्रतिनिधि भाग लेंगे।

खबरें और भी हैं...