--Advertisement--

जिद धरोहर बचाने की : गया के कुर्किहार के घर-घर में है धरोहर, विदेशों से था संबंध

यहां के वजीरगंज के निकट के बौद्ध पुरातात्विक स्थल कुर्किहार के व्यवस्थित खुदाई की जरूरत है।

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2017, 03:56 AM IST
Buddhist archaeological site Kurkihar
गया. यहां के वजीरगंज के निकट के बौद्ध पुरातात्विक स्थल कुर्किहार के व्यवस्थित खुदाई की जरूरत है। अभी तक मिली मूर्तियों और टीलों को देखकर लगता है कि यह बोधगया से राजगीर के रास्ते का महत्वपूर्ण बौद्ध केंद्र है। इसकी खुदाई से निश्चित रूप से बौद्ध इतिहास के एक नए अध्याय की शुरुआत होगी। यहां घर-घर में धरोहर को संजो कर रखा गया है।
ग्रामीणों की यह जिद अपने धरोहरों को मूर्ति तस्करों के हाथों से बचाने की है। इसके लिए उन्होंने अपने घरों की दीवारों में उन्हें चुनवा दिया है। यही कारण है कि केंद्र सरकार ने 2016 में कुर्किहार को नेशनली प्रोटेक्टेड मॉन्यूमेंट घोषित किया है। स्थानीय गौरी सिंह के मकान में बुद्ध की मूर्ति, सूबेदार सिंह के गेट के खंभे पर वोटिव स्तूप, बद्री सिंह के दरवाजे पर वोटिव स्तूप, राजेंद्र सिंह के मकान की दीवार पर बुद्ध की मूर्ति को चुनवा दिया गया है। मकसद तस्करों से बचाना है।
1847 में मिली पहली जानकारी: कुर्किहार के बार में पहली जानकारी 1847 में मिली, जब मेजर किट्टो वहां दो बार पहुंचे थे और तीन दिन रुक कर 10 गाड़ी कांस्य बौद्ध मूर्तियों को उठाकर ले गए। नेशनल म्यूजियम कोलकाता व कई को विदेशी संग्रहालयों में रखा गया।
25 फीट ऊंचे व छह सौ वर्गफीट में है टीला
कुर्किहार का ऐतिहासिक टीला काफी विस्तृत है। छह सौ वर्गफुट में इसका विस्तार है। कनिंघम ने इसका प्लान दिया है। यहां स्तूप का अवशेष था, जिसे ईंटों के लिए स्थानीय ग्रामीणों ने तोड़ डाला। इस टीला के नीचे रहे भवन का पता नहीं, क्योंकि काफी पहले ही इसे तोड़ डाला गया था। यहां से मिली ईंटें अपेक्षाकृत आकार में बड़ा है। ईंटों का आकार सवा 16 इंच गुने साढ़े 10 इंच गुने ढ़ाई इंच है। कई वोटिव स्तूप व चैत्य के प्रमाण आज भी मिलते हैं। इस टीला के दक्षिण में एक तालाब भी है।
विदेशों से था संबंध
भगवान बुद्ध को सुगत भी कहते हैं। यहां भगवान बुद्ध को समर्पित एक मंदिर भी है, जो गांव के उत्तर में टीला में दबा है। अभिलेख के अनुसार इसका निर्माण केरल के एक श्रद्धालु अभयचंद्रमुनि ने करवाया था। इसे सुगतगंध-कुटी भी कहते हैं। प्राप्त अभिलेखों से पता चलता है कि इसका विदेशों के अलावा दक्षिण भारतीय राज्यों के साथ संबंध था। वहां से मिले कई अभिलेखों से इसकी पुष्टि होती है। पंजाब के साकल वर्तमान पाकिस्तान के स्यालकोट, केरल, कांची के अलावा बाली द्वीप और मलय देश के साथ कुर्किहार का संबंध था व इन जगहों से श्रद्धालु यहां पहुंचते थे।
देवी स्थान में प्राचीन मूर्ति
गांव के उत्तर-पूर्व में एक पुरानी मंदिर है, जिसका उल्लेख 1861 में कनिंघम ने भी किया था। महिषासुर मर्दिनी दुर्गा, नवाग्रह, गणेश, आकृतियुक्त शिवलिंग और बौद्धों में अवलोकितेश्वर, बुद्ध, मंजूश्री, तारा, जांभल हैं।
बौद्ध मठ के दबे रहने की संभावना
कुर्किहार का वास्तविक नाम कुक्कुटपाद विहार था। यहां मिले एक अभिलेख में आपणक-महाविहार का उल्लेख है, जो संभवतः यहां टीले में दबा है। यहां मिले अवशेषों से पता चलता है कि यह बोधगया व राजगीर के बीच का एक महत्वपूर्ण बौद्ध स्थल रहा होगा।
Buddhist archaeological site Kurkihar
Buddhist archaeological site Kurkihar
X
Buddhist archaeological site Kurkihar
Buddhist archaeological site Kurkihar
Buddhist archaeological site Kurkihar
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..