विज्ञापन

बाढ़ : देखते ही देखते डूबे 12 गांव, बुजुर्गों ने कहा-60 साल बाद ऐसा देखा मंजर

Dainik Bhaskar

Aug 17, 2017, 06:44 AM IST

पानापुर के इलाके में अचानक बराज से पानी छोड़े जाने के बाद तबाही मच गई है।आस-पास के 12 गांवों में बाढ़ का पानी घेर लिया है।

bijar: patna, Ground report of flood in Chhapra of Bihar
  • comment
छपरा. पानापुर के इलाके में अचानक बराज से पानी छोड़े जाने के बाद तबाही मच गई है।आस-पास के 12 गांवों में बाढ़ का पानी घेर लिया है। जिससे तबाही का मंजर आ गया है। स्थानीय बुजुर्गों ने बताया कि वैसे तो हर साल गंडक नदी में पानी बढ़ता है। और तटीय इलाके में बसे लोगों को बाढ़ झेलनी पड़ती है। लेकिन ऐसी बाढ़ दशकों बाद आई है। रामपुररुद्र निवासी 75 वर्षीय आंदेव राय ने बताया कि लगभग 60 वर्षों बाद ऐसी बाढ़ आई है। क्योंकि जब हमलोगों बच्चे थे। तभी नदी का इतना पानी बढ़ा था।
गंडक नदी के जलस्तर में लगातार वृद्धि होने से तटीय इलाके में बसे एक दर्जन गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। जिससे हजारों लोगों के रहने, खाने-पीने की समस्या उत्पन्न हो गई है। प्रखंड के रामपुररुद्र, सारंगपुर, उभवां, मड़वा, बसहियां, सलेमपुर, सोनबरसा, फतेहपुर, पृथ्वीपुर, सरौंजा, भगवानपुर, रामपुररुद्र गांव बाढ़ से प्रभावित हो गए है।
इस गांव के करीब डेढ़ हजार लोग बाढ़ की पानी से घिरे है।वहीं तरैया में बाढ़ का पानी 14 गांवों में प्रवेश कर गया है।जिसमें करीब डेढ़ हजार से अधिक लोग प्रभावित हुए है।जो धीरे-धीरे पलायन हो रहे है। पानापुर में प्रशासन व जनप्रतिनिधियों द्वारा पहले से बाढ़ पीडितों की सुधि नहीं लेने से ग्रामीण आक्रोशित हैं।थाना क्षेत्र के कोंध भगवानपुर गांव में बुधवार को बाढ़ के पानी में डूबने से भगवानपुर गांव निवासी प्रमोद साह के 18 वर्षीय पुत्र प्रेम कुमार की मौत हो गई। जानकारी के अनुसार युवक मवेशी को खिलाने के लिए चारा लेकर आ रहा था। इसी दौरान वह गहरे पानी में चला गया। जिससे उसकी मौत हो गया। मौत की खबर मिलते ही पूरे परिवार में कोहराम मच गया। वहीं घटना के बाद सारण तटबंध पर हजारों लोगों की भीड़ जुट गई।काफी तलाशी के बाद शव बरामद किया गया।
ये कैसी थी तैयारी कि नाव तक नहीं था उपलब्ध
प्रखंड में आई बाढ़ ने अंचल कार्यालय के बाढ़ से पूर्व की जाने वाली तैयारियों की पोल खोलकर रख दी है। बाढ़ पीडितों को नाव भी उपलब्ध नहीं कराया गया है। जिससे वे अपने घर से जरूरत के सामान निकालकर सुरक्षित जगह पर जा सकें। कुछ लोग टूटे-फूटे निजी नाव का उपयोग कर घर से सामान के साथ बाढ़ से निकलकर सारण तटबंध पर शरण ले रहे हैं। पानापुर बीडीओ सह प्रभारी सीओ शशिभूषण साहू ने बताया कि बाढ़ पीडितों को आठ नावें उपलब्ध करा दी गई है। सूखा राशन पैकेट बांटने की तैयारी चल रही है। प्रभावित इलाकों के नजदीक स्थित सरकारी स्कूलों को राहत कैम्प बनाया गया है। कल बाढ़ पीडितों को पॉलिथीन उपलब्ध करा दी जायेगी।
पीडि़त बोले-अफसर आए थे, कहा-पानी बढ़ रहा है
बाढ़ पीडितों ने बताया कि 13 अगस्त की शाम अधिकारियों की फौज आई थी। वे लोग सिर्फ यह कहकर चले गए कि गंडक नदी में पानी छोड़ा गया है। जिससे बाढ़ आने की संभावना है। आपलोग अपना घर छोड़कर ऊंचे स्थान पर चले जाएं। उसके बाद कोई पूछने भी नहीं आया।
तरैया: 14 गांवों में घुसा बाढ़ का पानी, कई घर डूबे
तरैया| प्रखण्ड के 14 गांवों में बाढ़ का पानी घुसने से कई घर डूब गए हंै। अधिकांश लोग ऊंचे स्थानों पर शरण लिए हुए है। माधोपुर, सगुनी, अरदेवा, जिमदहा, शामपुर, शीतलपुर, फरीदनपुर, चंचलिया, भलुआ, बनिया हसनपुर, डुमरी दियरा आदि गांवों में बाढ़ है। ये सभी गांव सारण तटबंध के पूर्वी क्षेत्र का गांव है। गंडक में हुए उफान से उक्त गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है। जिससे कई घर डूब गये है। बनिया हसनपुर और चंचलिया और सगुनी गांव पूर्णतः डूब गए है।इन गांवों में आवागमन भंग हो गया है।बीडीओ राकेश कुमार सिंह व सीओ वीरेंद्र मोहन ने दौरा किया। सीओ ने बताया कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में आवागमन के लिए 10 नाव उपलब्ध करा दिए गए है।बीडीओ ने सभी बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लोगों से अपना घर छोड़ कर आवश्यक सामग्री के साथ उंचे स्थानों पर शरण लेने की अपील की है।

bijar: patna, Ground report of flood in Chhapra of Bihar
  • comment
bijar: patna, Ground report of flood in Chhapra of Bihar
  • comment
X
bijar: patna, Ground report of flood in Chhapra of Bihar
bijar: patna, Ground report of flood in Chhapra of Bihar
bijar: patna, Ground report of flood in Chhapra of Bihar
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन