पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • मांझी पर धोखाधड़ी का दर्ज हो मामला

मांझी पर धोखाधड़ी का दर्ज हो मामला

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मुख्यमंत्रीजीतन राम मांझी पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज हो और उन्हें नैतिकता के अाधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्होंने जान-बूझकर तथ्यों को छुपाते हुए अपने दामाद को निजी सहायक रखा, जबकि नियमानुसार उन्हें सगे-संबंधियों को निजी कर्मी के रूप में नहीं रखना चाहिए। ये बातें पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने पत्रकार वार्ता में कहीं।

उन्होंने इस भ्रष्ट आचरण के लिए मांझी के साथ नीतीश कुमार को भी समान रूप से दोषी ठहराया। कहा- वे मुख्य सचिव को पत्र लिखकर यह जानकारी मांगेंगे कि मुख्यमंत्री ने आप्त सचिव की नियुक्ति के लिए प्रस्ताव भेजते समय जो घोषणापत्र दिया था, उसमें इसका उल्लेख था या नहीं। यदि ऐसा नहीं किया था तो कैबिनेट के प्रभारी मंत्री होने के नाते नीतीश कुमार ने नियुक्ति का आदेश कैसे दिया? अगर मांझी ने घोषणा में तथ्यों को छिपाया है, तो उनके खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया जाए और जो अधिकारी नियुक्त किए गए हैं, उनके वेतन राशि की कटौती की जाए। उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद के मंत्रिमंडल में जब मांझी शिक्षा मंत्री थे, तब उनका प्राइवेट सेक्रेटरी लालबत्ती लेकर अफसरों से घूस लेते पकड़ा गया था। दरअसल, मुख्यमंत्री मांझी को लेकर जदयू में घमासान मचा है। चार-पांच महीने में ही नीतीश समर्थक उन्हें दोबारा मुख्यमंत्री बनाने के लिए बेचैन हैं। इस कारण नीतीश कुमार का खेमा इस खबर को फैला रहा है।

कहा- सीएम पर दबाव बनाने के लिए नीतीश के खेमे ने लीक की खबर