पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • जिला परिषद का बजट साढ़े नौ करोड़ घाटे का

जिला परिषद का बजट साढ़े नौ करोड़ घाटे का

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिलापरिषद के वर्ष 2014-15 का बजट गुरुवार को आम बैठक में पास कर दिया गया। करीब साढ़े नौ करोड़ रुपए घाटे का बजट पास हुआ। घाटे को पाटने के लिए प्रशासन ने राज्य सरकार से अनुदान मांगने और राजस्व बढ़ाने पर जोर दिया है। बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिला परिषद अध्यक्ष नूतन पासवान ने भी कहा कि ग्रामीण इलाकों में विकास कार्य तेज किया जाएगा।

बैठक में पेश किए गए बजट में 208 करोड़ 92 लाख 73 हजार रुपए आय होने की संभावना जताई गई है। वहीं, 209 करोड़ दो लाख 26 हजार रुपए खर्च का प्रावधान किया गया है। बैठक में डीडीसी डॉ. राजीव कुमार ने कहा कि 13वें वित्त आयोग जिला परिषद की संपत्ति की बंदोबस्ती से आय होगी। पार्षदों ने कहा कि जो बजट फरवरी-मार्च में पास होना चाहिए था, उसे नवंबर में पास किया जा रहा है। इससे क्षेत्र का विकास कैसे हो सकेगा। बजट अप्रैल से लागू होना था, अब वह नवंबर से लागू होगा और मार्च में समाप्त हो जाएगा। इस पर प्रशासनिक पदाधिकारियों ने चुनाव बाद की समस्याओं को गिनाना शुरू कर दिया।

विकास कार्यक्रमों में गड़बड़ी के आरोपों की होगी जांच

जिलापरिषद अध्यक्ष ने केंद्र राज्य सरकार की योजनाओं के संचालन में गड़बड़ी की जांच के निर्देश जारी किए हैं। बैठक के दौरान पार्षदों ने आरोप लगाया कि मनरेगा के तहत चलने वाली योजनाओं में लापरवाही बरती जा रही है। योजनाओं के चयन से लेकर उसको जमीन पर उतारने तक में बड़े पैमाने पर धांधली हो रही है। प्रशासनिक स्वीकृति के बिना ही योजनाएं शुरू कर दी गई हैं। दुलहिन बाजार में मनरेगा के तहत 322 योजनाओं के चयन पर भी पार्षदों ने सवाल किया। अध्यक्ष ने इसकी जांच कराने का आश्वासन दिया है। इसके अलावा पार्षदों ने चापाकल गाड़ने, ग्रामीण विद्युतीकरण, सोलर लाइट लगाने, शिक्षा स्वास्थ्य विभाग की योजनाओं के संचालन में भी गड़बड़ी का आरोप लगाकर बैठक में हंगामा किया।

जिला परिषद की बैठक में पैक्स चुनाव को लेकर पार्षदों ने हंगामा किया। पार्षदों ने आरोप लगाया कि जिला सहकारिता पदाधिकारी ने बिना जांच किए ही मतदाता सूची को अंतिम रूप दे दिया है। इससे काफी लोग मताधिकार से वंचित रह जाएंगे। सहकारिता पदाधिकारी से वर्ष 2009 के चुनाव के दौरान की मतदाता सूची दिखाने को कहा गया। उन्होंने कहा कि अभी उनके पास यह वोटर लिस्ट नहीं है। इस पर जिला पार्षदों ने कहा कि बिना 2009 की मतदाता सूची की जांच किए