पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • आज से 12 दिन बोलेंगी किताबें, सुनेगा पटना

आज से 12 दिन बोलेंगी किताबें, सुनेगा पटना

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
युवा कवि सम्मेलन आज

सेंटरफॉर रीडरशिप डेवलपमेंट द्वारा 21वां पटना पुस्तक मेला की तैयारियां पूरी हो गई हैं। शुक्रवार से शुरू हो रहे इस मेले का उद्घाटन दोपहर एक बजे मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी करेंगे। इस बार मेले की थीम बाल चेतना और महिला प्रतिनिधित्व रखी गई है। आयोजन समिति ने मेले को अनोखा बनाने के लिए कई उपाय किए हैं। इसमें सभी भवनों परिसरों का नामकरण अलग-अलग किया गया है। इसमें प्रशासनिक भवन और मुख्य मंच का नाम चंदामामा रखा गया है। सभागार का नाम धर्मयुग सभागार रखा गया है। मेला परिसर का नाम चुन्नू-मुन्नू परिसर रखा गया है। मेला 18 नवंबर तक चलेगा।

सीसीटीवीकैमरे से रखी जाएगी नजर

सीआरडीके अध्यक्ष र|ेश्वर ने बताया कि इस बार पटना पुस्तक मेला लेखक रॉबिन शॉ पुष्प और मधुकर सिंह को समर्पित है। इस बार भी सुरक्षा को लेकर खास इंतजाम रखे गए हैं। गार्ड के साथ अत्याधुनिक उपकरण भी मौजूद रहेंगे। मेटल डिटेक्टर के साथ क्लोज्ड सर्किट टीवी कैमरा के जरिए मेले पर नजर रखी जाएगी। मेले में स्कूली बच्चों को मुफ्त प्रवेश मिलेगा। सोमवार से शुक्रवार तक कॉलेज के विद्यार्थियों को उनके आईकार्ड पर एक टिकट मुफ्त दिया जाएगा।

इस वर्ष पुस्तक मेले में लगभग 900 स्टॉल लगाए गए हैं। 700 स्टॉल प्रकाशकों के लिए हैं। 200 स्टॉल सरकारी विभागों, शिक्षण संस्थानों और गैर-सरकारी संगठनों के लिए हैं। इस बार मेले में \\\"देशज\\\' कार्यक्रम होगा, जिसमें तीजन बाई, पुरूसाई कनप्पा, नादिराग, मंजूर मीर की प्रस्तुति सहित अन्य कई कार्यक्रम आयोजित होंगे। इस दौरान 07 से 18 नवंबर तक संगीत नाटक अकादमी, नई दिल्ली द्वारा पुस्तक मेला परिसर के साथ कालिदास रंगालय में दर्जनों कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

गांधी मैदान में लगे राष्ट्रीय पुस्तक मेले में गुरुवार को खरीदारी करती छात्रा।

पटना|गांधी मैदान में भारतीय क्षेत्रीय पत्रकार संघ द्वारा आयोजित राष्ट्रीय पुस्तक मेला में शुक्रवार को युवा कवि सम्मेलन और चित्रकला प्रतियोगिता होगी। गुरुवार को भी मेले में पुस्तक प्रेमियों की भीड़ लगी रही। इस संबंध में संघ के अध्यक्ष चंद्रभूषण ने बताया कि लोग व्यक्तित्व विकास, प्रतियोगिता संबंधी साहित्य की ओर झुके हैं। नई पीढ़ी बदलावों से जुड़ी पुस्तकें खोज रही है। पुरानी पीढ़ी कालजयी रचनाकारों की पुस्तकें अभी भी पढ़ना चाहती है। पुस्तकों के लिए लंबे समय से क