पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • मोक्ष की कामना को पहुंचे 10 लाख श्रद्धालु, संगम में लगाई डुबकी

मोक्ष की कामना को पहुंचे 10 लाख श्रद्धालु, संगम में लगाई डुबकी

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कार्तिकपूर्णिमा पर संगम स्नान के लिए लगभग दस लाख श्रद्धालु पहुंचे और गंगा गंडक के संगम पर डुबकी लगाई। हाजीपुर के कोनहारा घाट सोनपुर के काली घाट समेत विभिन्न घाटों पर मन्नत उतारने वालों की भी जबरदस्त भीड़ उमड़ी। ओझा-गुणी और साधु-संत भी पीछे नहीं रहे। कोनहारा घाट पर ओझा-गुनी लोगों का अपने तरीके से इलाज करते भी दिखे।

बुधवार से ही कार्तिक पूर्णिमा को लेकर श्रद्धालुओं की भीड़ शुरू हो गई थी। रात के बारह बजे से पूर्णिमा का मुहूर्त शुरू होते ही लाखों की संख्या में पहुंचे श्रद्धालुओं ने संगम में डुबकी लगानी शुरू कर दी।

बिहार के कोने-कोने से श्रद्धालु यहां पहुंचे। नेपाल से भी भारी संख्या में मोक्ष की कामना लिए श्रद्धालुओं ने कोनहारा घाट पर आस्था की डुबकी लगाई। कोनहारा घाट पर शाही स्नान की परंपरा को देखने आए श्रद्धालुओं को इस बार निराश होना पड़ा। शंकराचार्य के नहीं आने से शाही स्नान नहीं हुआ।

मंदिर परिसर में उमड़े श्रद्धालु बाबा हरिहरनाथ की प्रतिमा।

सोनपुर के पुल घाट के समीप हाथी स्नान मेलार्थियों के लिए आकर्षण का केंद्र रहा। 35 हाथियों को बारी-बारी से स्नान कराया गया। कार्तिक पूर्णिमा पर गंडक नदी में हाथी स्नान की परंपरा है।

कार्तिक पूर्णिमा पर हाजीपुर के काेनहारा घाट पर मन्नत उतारने जा रहे एक परिवार के आठ सदस्यों पर पुलिस ने कहर बरपाया। ड्राइवर की गलती से इनकी गाड़ी गलत रूट में चली गई, जिस पर मेले में ड्यूटी पर तैनात रैपिड एक्शन फोर्स के जवानों ने इस परिवार के सदस्यों पर जम कर लाठियां बरसाईं। मुजफ्फरपुर जिले के कोकिलबारा गांव का एक परिवार जा रहा था। लोगों ने सड़क जाम की।

पर्यटन विभाग के प्रयासों से मेले की जबरदस्त धमक विदेशों में पहुंची है। अरसे बाद सोनपुर मेले में सात समंदर पार से आए विदेशी मेहमानों की अच्छी-खासी संख्या दिख रही है। विदेशी मेहमानों से पर्यटन ग्राम भर चुका है। राजस्थान के पुष्कर मेला के बाद विदेशी सैलानियों का जत्था सीधे एशिया फेम सोनपुर मेले में पहुंचा। इस जत्थे में इंग्लैंड, यूएसए, जापान, हालैंड, ऑस्ट्रिया, जर्मनी,नीदरलैँड स्वीट्जरलैंड के पर्यटक शामिल हैं। चालीस बेड वाले नये स्विस टेंट मे जगह नहीं रहने के कारण एक दर्जन से अधिक विदेशी पर्यटक पटना के विभिन्न होटलों में ठहरे हुए हैं। पिछले साल सोनपुर मेले में महज तीन दर्जन विदेशी मेहमानों ने हरिहरक्षेत