बंगले पर दंगल: आक्रामक हुई भाजपा, कहा- मनमाना आवंटन कर रही सरकार

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पटना। विधायकों के सरकारी बंगले को लेकर भाजपा ने नीतीश सरकार पर पक्षपात के आरोप लगाए हैं। प्रदेश अध्यक्ष मंगल पांडे ने सोमवार को पार्टी प्रदेश कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि नीतीश सरकार सुनियोजित तरीके से भाजपा कोटे के पूर्व मंत्रियों को अपमानित कर रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा कोटे के मंत्रियों को हटाने के बाद उन्हें उनकी वरीयता के मुताबिक आवास आवंटित किए जाने चाहिए थे। लेकिन सरकार ने ऐसा करने की बजाय कांग्रेस विधायक को मंत्री का बंगला दे दिया।
मंगल पांडे ने कहा कि कांग्रेस विधायक तौसीफ आलम को नीतीश सरकार के विश्वासमत के दिन 18 जून को बड़ा बंगला आवंटित कर दिया गया। एक महीने बाद जदयू नेता और पूर्व एमएलसी संजय झा और संजय सिंह को मंत्री का दर्जा देकर उन्हें मंत्री वाला बंगला आवंटित कर दिया गया। विधान पार्षद के रूप में मिले उनके बंगले को केंद्रीय पुल में स्थानांतरित कर दिया गया। जबकि विधान परिषद सदस्य से मंत्री बने सुशील मोदी और गिरिराज सिंह को मंत्री पद से हटने के तुरंत बाद यह मौका मिलना चाहिए था। प्रेस कांफ्रेंस में भाजपा के प्रदेश मुख्य प्रवक्ता विनोद नारायण झा और विधायक अरूण कुमार सिंह भी मौजूद थे।
बिना योग्यता के आवंटन
मंगल पांडे ने कहा कि सरकार ने ऐसे कई विधान परिषद सदस्यों और विधायकों को पूर्व मंत्री वाला बंगला आवंटित किया है जो इसके लिए योग्यता नहीं रखते हैं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने मोकामा विधायक अनंत सिंह, घोसी विधायक राहुल शर्मा, तरारी विधायक सुनील पांडे, एमएलसी सलमान रागीब, विधायक अनिरूद्ध प्रसाद यादव, वीरेंद्र कुमार सिंह, केदारनाथ सिंह, रंधीर कुमार सोनी, पूर्व मंत्री रामसेवक हजारी समेत कई ऐसे उदाहरण दिए।
विधानसभा की जवाबदेही
मंगल पांडे ने कहा कि पूर्व मंत्री विधायकों को वैकल्पिक आवास देना विधानसभा की जवाबदेही है। लेकिन भाजपा कोटे के पूर्व मंत्री विधायकों को वैकल्पिक आवास देने की बजाय बंगला खाली करने का नोटिस भेजकर उन्हें अपमानित किया जा रहा है।