पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Engineers Accused Of Corruption And Embezzlement Sentenced To Three Years

भ्रष्टाचार और गबन के आरोपी इंजीनियरों को तीन साल की सजा

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक


पटना . निगरानी कोर्ट ने भ्रष्टाचार और सरकारी राशि के गबन के आरोप में सात इंजीनियरों को तीन साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। निगरानी की ओर से केस की पैरवी कर रहे अधिवक्ता महेंद्र प्रसाद सिंह ने बताया कि भारतीय दंड संहिता और भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की विभिन्न धाराओं में कोर्ट ने सजा सुनाई है।

इस मामले में पथ निर्माण विभाग दरभंगा के चीफ इंजीनियर अवध शरण सिंह, किशनगंज के एग्जिक्यूटिव इंजीनियर अभियंता शेखर विश्वास, लोकेश्वर प्रसाद, सीतापति शरण, त्रिभुवन प्रसाद सिंह और पूर्णिया के एग्जिक्यूटिव इंजीनियर सुधीर कुमार और भोला नाथ पूरब को सजा हुई है।


इंजीनियरों पर कनकई नदी पर बांध मरम्मत, संपर्क सड़क और पुल निर्माण की राशि 66 लाख 68 हजार के गबन का आरोप लगा था। मामले की सुनवाई निगरानी के विशेष न्यायधीश दानपाल सिंह कर रहे थे। इस मामले में हाईकोर्ट के निर्देश पर 2 जुलाई 2010 को निगरानी में प्राथमिकी दर्ज हुई थी।

वर्ष 1990 से 2000 के बीच हुए इस धांधली के लिए आठ इंजीनियरों को आरोपी बनाया गया था। सुनवाई के दौरान एक आरोपी का निधन हो गया।