इस भारतीय शख्स ने दी थी आइंस्टीन के सिद्धांत को चुनौती, जानें पूरी कहानी / इस भारतीय शख्स ने दी थी आइंस्टीन के सिद्धांत को चुनौती, जानें पूरी कहानी

देश में कई ऐसे दिग्गज हुए, जिन्होंने अपने सिद्धांतों के जरिए पूरी दुनिया को नई राहें दिखाई।

Niranjan Dubay/Dainikbhaskar.com

Mar 14, 2013, 12:01 AM IST
Dr Vashishth Narayan Singh Dr Vashishth Narayan Singh
14 मार्च को मैथ डे के रूप में मनाया जाता है। मैथ डे मूल रूप से एक ऑनलाइन कम्प्टीशन था, जिसकी शुरुआत 2007 से हुई थी। इसी दिन पाई डे (Pi) भी मनाया जाता है, जिसका उपयोग हम मैथ में करते हैं। मैथ डे पर हम आपको बता रहे हैं एक ऐसे गणितज्ञ के बारे में, जिनका लोहा पूरी अमेरिका मानती है। इन्होंने कई ऐसे रिसर्च किए, जिनका अध्ययन आज भी अमेरिकी छात्र कर रहे हैं। हाल-फिलहाल डा वशिष्ठ नारायण सिंह मानसिक बीमारी सीजोफ्रेनिया से ग्रसित हैं। इसके बावजूद वे मैथ के फॉर्मूलों को सॉल्व करते रहते हैं।
देश में कई ऐसे दिग्गज हुए, जिन्होंने अपने सिद्धांतों के जरिए पूरी दुनिया को नई राहें दिखाई। चाहे वे कामसूत्र ग्रंथ के लेखक वात्स्यायन हो या फिर फादर ऑफ सर्जरी के नाम से विख्यात ऋषि सुश्रुत। या फिर नोबेल प्राइज विजेता सीवी रमण और हरगोविंद खुराना। इन सबने अपने अपने तरीके से दुनिया के विकास में मदद की।
ऐसे ही कई और दिग्गज भी हैं, उनमें से एक हैं बिहार के भोजपुर जिले के रहने वाले महान गणितज्ञ डा वशिष्ठ नारायण सिंह। वशिष्ठ नारायण सिंह वर्षों से सीजोफ्रेनिया नामक मानसिक बीमारी की वजह से कुछ भी कर पाने में असमर्थ हैं, लेकिन एक जमाना था जब इनका नाम गणित के क्षेत्र में पूरी दुनिया में गूंजता था। ऐसा कहा जाता है कि डा सिंह ने आइंस्टीन के सिद्धांत E= MC2( इ= एमसी स्क्वायर) को चुनौती दी थी।
आगे की स्लाइड्स में जानें इस महान गणितज्ञ के नीजी जिंदगी की कहानी, कैसे एक फौजी का बेटा बना गणितज्ञ, अमेरिका पहुंचा तो कैसे वहां इनके नाम का बजने लगा डंका...
सभी तस्वीरें आरा बिहार की सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्था यवनिका के सचिव संजय शाश्वत द्वारा ली गई हैं...

Dr Vashishth Narayan Singh Dr Vashishth Narayan Singh
वशिष्ठ नारायण सिंह का जन्म बिहार के भोजपुर जिले के बसंतपुर गांव में एक गरीब किसान परिवार में हुआ था। यह गांव जिला मुख्यालय आरा से 12 किलोमीटर की दूरी पर है।
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

 

Dr Vashishth Narayan Singh Dr Vashishth Narayan Singh
वशिष्ठ नारायण सिंह ने छठवीं क्लास में नेतरहाट स्कूल में एडमिशन लिया। इसी स्कूल से उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की और पूरे बिहार में टॉप किया। इंटर की पढ़ाई के लिए डा सिंह ने पटना साइंस कॉलेज में एडमिशन लिया। इंटर में भी इन्होंने पूरे बिहार में टॉप किया। 
 
 
 
 

PICS: जानिए, पूरी दुनिया को 'जीरो' देने वाले इस शख्स से जुड़ी कुछ खास बातें!

Dr Vashishth Narayan Singh Dr Vashishth Narayan Singh
1960 के आस-पास बिहार कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग का नाम पूरी दुनिया में था। तब देश-विदेश के दिग्गज भी यहां आते थे। उसी दौरान कॉलेज में एक मैथमेटिक्स कांफ्रेंस का आयोजन किया गया। इस कांफ्रेंस में यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, बार्कले के एचओडी प्रो जॉन एल केली भी मौजूद थे।
 

देश का एक नामी गणितज्ञ जो खो गया गुमनामियों में, साथ में खो गए कई रहस्य!

Dr Vashishth Narayan Singh Dr Vashishth Narayan Singh
कांफ्रेंस में मैथ के पांच सबसे कठिन प्रॉब्लम्स दिए गए, जिसे दिग्गज स्टूडेंट्स भी करने में असफल हो गए, लेकिन वशिष्ठ नारायण सिंह ने पांचों सवालों के सटिक जवाब दिए। उनके इस जवाब से प्रो केली काफी प्रभावित हुए और उन्हें आगे की पढ़ाई के लिए अमेरिका आने को कहा।
 

 

 

PICS: ऐश्वर्या राय और सचिन तेंडुलकर भी थे हैरान, जब सुना इस होनहार का नाम!

Dr Vashishth Narayan Singh Dr Vashishth Narayan Singh
डा वशिष्ठ नाराय़ण सिंह ने अपनी परिस्थितियों से अवगत कराते हुए कहा कि वे एक गरीब परिवार से हैं और अमेरिका में आकर पढ़ाई करना उनके लिए काफी मुश्किल है। ऐसे में प्रो केली ने उनके लिए विजा और फ्लाइट टिकट का इंतजाम किया। इस तरह डा वशिष्ठ अमेरिका पहुंच गए।
 

 

 

PICS: सचिन और ऐश्वर्या जब पहुंच गये बिहार के बखोरापुर, सब थे हैरान!

Dr Vashishth Narayan Singh Dr Vashishth Narayan Singh
वशिष्ठ नारायण सिंह काफी शर्मिले थे, इसके बावजूद अमेरिका के कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में उनकी काफी अच्छे से देखरेख की गई। यही से उन्होंने PhD करके डॉक्टरेट की उपाधी पाई। डा सिंह ने ‘साइकिल वेक्टर स्पेश थ्योरी’ पर शोध कार्य किया और पूरे दुनिया में छा गए।
 

 

 

 

 

PIX: इस महान शख्स की कहानी है दमदार, पढ़कर दांतों तले उंगली दबा लेंगे आप!

Dr Vashishth Narayan Singh Dr Vashishth Narayan Singh
इस शोध कार्य के बाद डा सिंह वापस भारत आए और फिर दोबारा अमेरिका चले गए। तब इन्हें वाशिंगटन में एसोसिएट प्रोफेसर बनाया गया।
 

 

 

 

PICS: जानिए, पूरी दुनिया को 'जीरो' देने वाले इस शख्स से जुड़ी कुछ खास बातें!

देश का एक नामी गणितज्ञ जो खो गया गुमनामियों में, साथ में खो गए कई रहस्य!

 

क्या आप भी मैथ से डरते हैं, अगर हां तो पढ़ें इसे, शायद दूर हो जाए आपका डर!

Dr Vashishth Narayan Singh Dr Vashishth Narayan Singh
इधर, घर वाले उनकी शादी का दबाव डालने लगे। दबाव की वजह से वे वापस भारत लौट आए। तब उन्हें खुद यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के प्रोफेसर डा केली और नासा ने रोकना चाहा, लेकिन वे नहीं माने और भारत वापस आ गए।
 

 

 

 

 

PICS: जानिए, पूरी दुनिया को 'जीरो' देने वाले इस शख्स से जुड़ी कुछ खास बातें!

देश का एक नामी गणितज्ञ जो खो गया गुमनामियों में, साथ में खो गए कई रहस्य!

 

क्या आप भी मैथ से डरते हैं, अगर हां तो पढ़ें इसे, शायद दूर हो जाए आपका डर!

Dr Vashishth Narayan Singh Dr Vashishth Narayan Singh
1971 में वापस आने के बाद इन्हें आईआईटी कानपुर में प्राध्यापक बनाया गया। महज 8 महिने काम करने के बाद इन्होंने बतौर गणित प्राध्यापक ‘टाटा इंस्टीच्युट ऑफ फण्डामेंटल रिसर्च’ ज्वाइन कर लिया। एक साल बाद 1973 में वे कोलकाता स्थित आईएसआई मे स्थायी प्राध्यापक नियुक्त किए गए।
 

 

 

 

 

 

PICS: जानिए, पूरी दुनिया को 'जीरो' देने वाले इस शख्स से जुड़ी कुछ खास बातें!

देश का एक नामी गणितज्ञ जो खो गया गुमनामियों में, साथ में खो गए कई रहस्य!

 

क्या आप भी मैथ से डरते हैं, अगर हां तो पढ़ें इसे, शायद दूर हो जाए आपका डर!

Dr Vashishth Narayan Singh Dr Vashishth Narayan Singh
1973 में ही उनकी शादी बिहार के छपरा की रहने वाली वंदना रानी से हुई। शादी के तीन दिन बाद वंदना ग्रेजुएशन की परीक्षा देने अपने मायके गईं और फिर लौट कर नहीं आईं। इधर, डा सिंह कोलकाता अपने जॉब पर चले गए। 1974 में इन्हें पहली बार दौरा पड़ा, तब वे अपना खुद इलाज कराने गए। बाद में नेतरहाट ओल्ड ब्वॉय्ज एसोसिएशन के पहल पर इन्हें रांची स्थित मानसिक आरोग्यशाला में भर्ती कराया गया। 
 
 
 
 
 
 

 

Dr Vashishth Narayan Singh Dr Vashishth Narayan Singh

मानसिक बीमारी से जूझ रहे वशिष्ठ नारायण सिंह को तब और झटका लगा, जब उनकी पत्नी ने उन्हें छोड़ दिया। जब पत्नी के सपोर्ट की जरूरत थी तब उन्हें तलाक मिल गया, ऐसे में उनकी बीमारी और बढ़ती गई। हाल-फिलहाल डा सिंह अपनी बीमारी से जूझ रहे हैं। गाहे-बगाहे इनकी मदद के लिए कुछ लोग सामने आते हैं, लेकिन निरंतरता नहीं बने रहने की वजह से उनकी बीमारी जस की तस बनी हुई है। 

 

 

 

 
 
 

 

 

 

FBI को परेशान करने वाला ये मोस्ट वांटेड छुपा है बिहार में, जानें इसके कारनामे!

X
Dr Vashishth Narayan SinghDr Vashishth Narayan Singh
Dr Vashishth Narayan SinghDr Vashishth Narayan Singh
Dr Vashishth Narayan SinghDr Vashishth Narayan Singh
Dr Vashishth Narayan SinghDr Vashishth Narayan Singh
Dr Vashishth Narayan SinghDr Vashishth Narayan Singh
Dr Vashishth Narayan SinghDr Vashishth Narayan Singh
Dr Vashishth Narayan SinghDr Vashishth Narayan Singh
Dr Vashishth Narayan SinghDr Vashishth Narayan Singh
Dr Vashishth Narayan SinghDr Vashishth Narayan Singh
Dr Vashishth Narayan SinghDr Vashishth Narayan Singh
Dr Vashishth Narayan SinghDr Vashishth Narayan Singh
Dr Vashishth Narayan SinghDr Vashishth Narayan Singh
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना