पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रक्सौल में गिरफ्तार जर्मन नागरिक का हैदराबाद ब्लास्ट से कोई संबंध नही: एसपी

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

मुजफ्फरपुर. रक्सौल बॉर्डर से माइग्रेशन अधिकारियों के हत्थे चढ़े जर्मन नागरिक अब्दुला उमर मकरान का हैदराबाद विस्फोट से कोई संबंध नहीं है। वह इंटरनेट पर हुए हैदराबाद की लड़की नईमा से प्यार के बाद निकाह रचाने के लिए भारत आया हुआ था। मोतिहारी मुफस्सिल थाना में एनआईए और जिला पुलिस की लंबी पूछताछ के बाद पूर्वी चम्पारण के एसपी गणेश कुमार बताया कि शादी के बाद शहर घूमने के क्रम में उसने अपने कैमरे में हैदराबाद की तस्वीरें कैद की थीं।

एसपी ने बताया कि वह सोमालिया मूल का रिफ्यूजी नागरिक है। काठमांडू में नईमा के पूर्व प्रेमीमी मो. आदम के साथ हैदराबाद गया जहां 22 जनवरी को उससे निकाह किया। जर्मनी सरकार ने उसे रिफ्यूजी वीजा दिया हुआ है, लेकिन साथ में नहीं होने के कारण उसे गिरफ्तार किया गया था। एसपी ने बताया कि पूछताछ के बाद दोनों को जेल भेज दिया गया है। उधर, मंगलवार को पूछताछ के दौरान ही जर्मन नागरिक अब्दुला उमर मकरान की तबीयत अचानक खराब हो गई। रक्सौल डीएसपी जीतेन्द्र पाण्डेय ने मकरान को मोतिहारी सदर अस्पताल में भर्ती करवाया। जहां उसका इलाज हुआ। सोमवार को केन्द्रीय गृह मत्रांलय के आदेश पर उसे रिमांड पर लिया गया था। जिला पुलिस और एनआईए की टीम संयुक्त रुप से मुफस्सिल थाने में पूछताछ कर रही थी।

आतंकी नहीं मेरा शौहर है मकरान: नईमा

अब्दुला उमर मकरान की नई नवेली दुल्हन नईमा ने हैदराबाद से फोन पर बताया कि उससे निकाह रचाने के लिए वह जर्मनी से हैदराबाद आया था। मकरान आंतकी नही बल्कि उसका शौहर है। वह गुरुवार को मोतिहारी पहुचेगी और यह साबित करेगी की वह उससे निकाह करने के लिए ही आया हुआ था। शादी के कैसेट समेत कई सबूत उसके पास मौजूद है। नईमा ने कहा कि उसने ही अपने पूर्व प्रेमी मो. आमद को फोनकर काठमांडू से हैदराबाद लाने की आग्रह की थी। गौरतलब है कि 23 फरवरी की रात नेपाल जाने के क्रम में रक्सौल बॉर्डर से उक्त जर्मन नागरिक समेत दो लोगों को आव्रजन अधिकारियों ने आवश्यक कागजात नहीं होने के कारण गिरफ्तार कर लिया था। जांच के क्रम में उसके लैपटॉप और कैमरे में हैदराबाद के कई फोटो मिले थे, जिससे अधिकारियों को आतंकी होने का शक हुआ था।