--Advertisement--

चारा घोटाला:सवा करोड़ में हुआ था ममता कुलकर्णी का डांस,जानें रोचक बातें!

वर्ष 1996 से चले आ रहे मुकदमे की तार्किक परिणति पर पहले से ही राजनीतिक नजरें गड़ी थीं।

Danik Bhaskar | Oct 01, 2013, 10:31 AM IST
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद चारा घोटाला में सोमवार को दोषी करार देकर जेल भेजे गए तो बिहार की सियासी हलचल तेज हो गई। वर्ष 1996 से चले आ रहे मुकदमे की तार्किक परिणति पर पहले से ही राजनीतिक नजरें गड़ी थीं। तीन अक्टूबर को सजा का एलान होना है, लेकिन सियासी हल्कों में नफा-नुकसान के गुणा-गणित परवान चढ़ने लगे हैं। वैसे, लालू प्रसाद ने इस चिरप्रतीक्षित फैसले के लिए अपनी तैयारी पहले से ही कर रखी थी। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि चारा घोटाले के पैसे का इन्वेस्टमेंट कहां-कहां किया गया? कहां लुटाए गए ये पैसे?
आइए हम आपको बताते हैं चारा घोटाले से जुड़े कुछ रोचक तथ्य...
लालू यादव से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें पढ़ें
फिल्मों में भी लगाया पैसा
 
पशुपालन विभाग के तत्कालीन सहायक निदेशक (प्लानिंग) डॉ. कृष्ण मोहन प्रसाद सहित अन्य आरोपियों ने मुंबई में उन दिनों कुछ फिल्मों में भी पैसे लगाए थे। जब छापा पड़ा तो 60 लाख रुपए फिल्म में लगाने के कागजी सबूत मिले थे।
 
लालू यादव से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें पढ़ें 

 

सवा करोड़ में ममता कुलकर्णी का डांस
 
घोटालेबाजों ने 1995 में पटना के एक गुप्त स्थान पर फिल्म अभिनेत्री ममता कुलकर्णी को नचवाया। सीबीआई ने मुंबई जाकर इस संबंध में ममता से पूछताछ भी की। एक अपुष्ट सूचना के अनुसार इस कार्यक्रम पर करीब सवा करोड़ रुपए घोटालेबाजों ने लुटाए।
 
 
लालू यादव से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें पढ़ें 

 

177 किलो सोना खरीदा
 
डॉ. कृष्ण मोहन प्रसाद ने 85 किलोग्राम सोना खरीदा था। इसी प्रकार विभाग के संयुक्त क्षेत्रीय निदेशक डॉ. श्याम बिहारी सिन्हा (अब मृत) ने 32 किलोग्राम, आपूर्तिकर्ता दयानंद प्रसाद कश्यप और त्रिपुरारी मोहन प्रसाद ने 30-30 किलोग्राम सोना खरीदा।
 
 
लालू यादव से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें पढ़ें 

 

179 साल की सजा एक अभियुक्त को
 
चारा घोटाला में प्रमोद कुमार जायसवाल को कोर्ट ने कुल 179 साल की सजा सुनाई थी। इनकी मौत हो चुकी है। उन्हें 32 मामलों में नामजद अभियुक्त बनाया गया था। जायसवाल ने कोर्ट में आवेदन देकर खुद अपना जुर्म स्वीकार कर लिया था।
 
 
लालू यादव से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें पढ़ें 

 

टेंपो-मोपेड से ढोई गईं गायें और भैंसें
 
घोटालेबाजों के हैरतअंगेज कारनामों में था टेंपो-मोपेड से गाय-भैंस ढोना। लखनऊ से कई भैंसें मोपेड से रांची लाई गईं। दरअसल, ट्रेजरी से पैसा निकालने के लिए ट्रांसपोर्टेशन फाइल में जिन गाड़ियों के नंबर डाले गए, जांच में वे टेंपो और मोपेड के निकले।
 
 
लालू यादव से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें पढ़ें