पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

'देश के पहले राष्ट्रपति की भूमि पर आने से हो रहा है गर्व'

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

पटना। रायसीना हिल्स के घमासान में भाजपा समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार पूर्णो अगीटोक संगमा ने दावा किया है कि राष्ट्रपति चुनाव से बदलाव के आंदोलन की शुरुआत होगी। अपने हाथों खड़ी की गई एनसीपी छोड़ भाजपा का साथ मिलने पर उन्होंने कहा कि इस दोस्ती को अंत तक निभाएंगे। 64 वर्षीय संगमा ने देश में दूसरे जेपी मूवमेंट की जरूरत बताई।





शनिवार को अपने प्रचार अभियान के क्रम में वे पटना में थे। पत्रकारों के साथ बातचीत में उन्होंने कहा कि देश के पहले राष्ट्रपति की भूमि पर उन्हें गर्व हो रहा है। इससे पहले पटना हवाई अड्डे पर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर सीपी ठाकुर, सांसद रविशंकर प्रसाद, शाहनवाज हुसैन, राधामोहन सिंह आदि नेताओं ने गर्मजोशी से उनका स्वागत किया। पार्टी नेता विजय गोयल उनके साथ पहुंचे थे। इन नेताओं की मौजूदगी में प्रेस कांफ्रेंस के बाद संगमा गांधी मैदान पहुंचे। जेपी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। फिर पांच सितारा होटल में भाजपा विधायकों के साथ बैठक की।





खुर्शीद ने सच कहा





सलमान खुर्शीद के बयान को सच बताते हुए पीए संगमा ने कहा कि भ्रष्टाचार, महंगाई, जीडीपी ग्रोथ सभी मोर्चो पर केंद्र सरकार विफल है।





चमत्कार की उम्मीद





संगमा ने कहा कि चुनाव में उन्हें 17 राजनीतिक दलों का समर्थन है। उन्हें उम्मीद है कि पार्टी लाइन से हटकर भी वोट मिलेंगे। पत्रकारों से उन्होंने कहा-मुझे चमत्कार की उम्मीद है, आप देखेंगे।





नीतीश अच्छे दोस्त





संगमा ने एनडीए के घटक दलों खासकर जदयू और शिवसेना से समर्थन की अपील की। उन्होंने इन दलों के सांसदों से पार्टी लाइन से हटकर मतदान की अपील की। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को अच्छा मित्र बताते हुए उन्होंने कहा कि राजनीति दोस्ती के आड़े नहीं आएगी।





ट्राइबल को दें मौका





ट्राइबल फोरम से उनके प्रचार पर पीए संगमा ने कहा कि आजादी को 60 साल से ज्यादा हो गए। एक ट्राइबल राष्ट्रपति नहीं हुआ। सभी वर्ग, दलों से अपील है, एक बार ट्राइबल को मौका दें।





चुनाव बाद जाएंगे कोर्ट





भारतीय सांख्यिकी निदेशालय से प्रणव मुखर्जी के इस्तीफे को फर्जी बताते हुए संगमा ने कहा कि चुनाव बाद वे कोर्ट जाएंगे। इसके लिए कानूनविदों की टीम तैयार है।





सांसद, मंत्री, मुख्यमंत्री स्पीकर, विधायक..





मेघालय के वेस्ट गारो हिल्स के चपाहटी गांव में जन्मे संगमा ने राजनीति के कैरियर युवा कांग्रेस से किया। तूरा की ट्राइबल रिजर्व सीट से 1977 से 2006 तक सांसद रहे। 1980 से 1996 तक केंद्र में मंत्री रहे। 1988 से 90 तक मेघालय के सीएम और 90-91 में विपक्ष के नेता रहे। 1996 से 1998 तक लोकसभा स्पीकर रहे। दिलचस्प यह है कि मार्च 2008 में वे तूरा लोस सीट से इस्तीफा देकर वहीं से विधानसभा चुनाव लड़े और जीते। 20 जून को उन्होंने एनसीपी व विस से इस्तीफा दे दिया।



आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

और पढ़ें