--Advertisement--

हरी मिर्च वाली चाय राघव वर्मा के साथ: Chayoss की सक्सेस स्टोरी DB SPOTLIGHT में

Dainik Bhaskar

Nov 28, 2015, 10:56 AM IST

DB SPOTLIGHT on Chaayos Co founder Raghav Verma with Preeti Hoon

DB SPOTLIGHT on Chaayos Co founder Raghav Verma
नेटिव कंटेंट डेस्क । इंडिया में गरमागरम और महकती चाय का एक कप सिर्फ ताजगी नहीं लाता! चाय एक ऐसी चीज है जो बॉन्डिंग के साथ बिजनेस भी बढ़ाती है। इसी सच्चाई को समझा है IIT से इंजीनियरिंग करके निकले दो युवाओं ने । dainikbhaskar.com के स्पेशल वीडियो इंटरव्यू शो DB Spotlight में प्रीति हून के साथ इस बार हम बता रहे हैं तेजी से उभरते स्टार्टअप Chaayos की सक्सेस स्टोरी जिसे शेयर किया है इसके को-फाउंडर राघव वर्मा ने ।
Chaayos ब्रांड नेम के साथ इनोवेटिव टी-आउटलेट बिजनेस के को-फाउंडर नितिन सलूजा और राघव वर्मा के लिए आज 'चाय' नींद उड़ाने वाली नहीं, बल्कि बड़े सपनों को पूरा करने वाली हॉट बेवरेज बन गई है। चाय अड्डा पर मिलने वाली गरमागरम चाय को एक कदम आगे ले जाते हुए इन दोनों ने 'मेरी वाली चाय' का कॉन्सेप्ट अडॉप्ट किया। यानी हर कस्टमर को लगे कि कहीं मिले या न मिले Chaayos में उनकी पसंद की चाय जरूर मिलेगी। मुंबई से अपनी सक्सेस स्टोरी शुरू करने वाले Chaayos के देश के चार बड़े शहरों में 11 आउटलेट चल रहे हैं। दिसंबर 2015 तक टारगेट इन्हें बढ़ाकर 25 और मई 2016 तक 50 करने का है।
ऐसे आया Chaayos का आइडिया
वास्तव में ये आइडिया नितिन सलूजा का था। IIT से निकलने के बाद कुछ समय तक राघव वर्मा ने जॉब के साथ करियर शुरू किया। संयोग से नितिन सलूजा भी साथ थे। वे दिल्ली IIT से निकले थे और नितिन IIT बॉम्बे से। जॉब के बहाने दोनों करीब आए, लेकिन बिजनेस आइडिया पर कुछ बात नहीं बनी। इसके बाद एक कॉमन फ्रेंड के जरिए दोनों साथ आए। तब तक नितिन टी-आउटलेट शुरू करने के आइडिया पर काम शुरू कर चुक थे। उन्हें एक अच्छे साथी की जरूरत थी और राघव भी स्टार्टअप के लिए खुद को तैयार कर चुके थे। इस तरह 12 नवंबर 2012 को जन्मा Chaayos
12 हजार टेस्ट, 20 मिनट में डिलिवरी
अदरक, तुलसी, इलायची, दालचीनी जैसे ट्रेडिशनल टेस्ट के साथ Chaayos में आम-पापड़ और हरी मिर्च के टेस्ट वाली चाय भी मिलती है। कुल मिलाकर 12 हजार जायकों के साथ एक्सपेरिमेंट कर चुकी है Chaayos की टीम जो दावा करती है कि आप बस ऑर्डर करें और हम 20 मिनट में आप तक गरमागरम्र 'मेरी वाली चाय' पहुंचा देंगे।
पहले लोगों ने उड़ाया मजाक
हमारे यहां लोग घर से बाहर चाय पीना तो चाहते हैं, लेकिन शर्तों के साथ। एक क्लास ऐसी भी है जो घर में चाय पसंद करती है, लेकिन घर के बाहर कॉफी ही पीती है। ऐसे लोगों के बीच जब Chaayos पहुंचा तो लोगों ने कहा कि, ये सही बिजनेस आइडिया नहीं है। प्राइस और क्वालिटी को लेकर बेहद संकोची इंडियन अपनी पसंद को अपनी ही प्राइस पर चाहते हैं। ऐसे में सवाल था कि लोग Chaayos में क्यों आएंगे ? राघव बताते हैं कि, हमारे सामने बड़ा चैलेंज था और हमने इसके लिए कस्टमर की च्वॉइस को कस्टमाइज करने का फैसला किया। हमनें नए-नए जायके बनाए और पीने वालों को टेस्ट कराए। धीरे-धीरे लोगों को जायके पसंद आने लगे और हमारा स्टार्टअप चल निकला।
Chaayos का सक्सेस फॉर्मूला
DB SPOTLIGHT में अपना सक्सेस फॉर्मूला शेयर करते हुए राघव कहते हैं - हम सिर्फ PLAN A बनाते हैं। PLAN B जैसा सेकंड ऑप्शन हम न सोचते हैं और न ही सोचने की इच्छा है। हम सिंपल आइडिया पर काम करते हैं और उसे बड़ा बनाकर अपने कस्टमर की च्वॉइस के हिसाब से कस्टमाइज़ करते हैं। टेक्नोलॉजी के बेस्ट यूज के साथ चाय जैसे नॉर्मल बेवरेज को भी 'मेरी वाली चाय' जैसी फीलिंग देना ही हमारी सक्सेस है।
X
DB SPOTLIGHT on Chaayos Co founder Raghav Verma
Astrology

Recommended

Click to listen..