निजी जिंदगी से प्रेरित होकर प्रकाश झा ने बनाई ज्यादातर फिल्में / निजी जिंदगी से प्रेरित होकर प्रकाश झा ने बनाई ज्यादातर फिल्में

प्रकाश झा ने समाज की अलग अलग समस्याओं पर आधारित फिल्में बनाई हैं। प्रकाश झा कह चुके हैं कि उन्हें फिल्मों की प्रेरणा अपनी रियल लाइफ से मिलती है और उन्हें सामाजिक मुद्दों पर फिल्में बनाकर कम से कम इशूज को तो सामने लाया जा सकता है।

dainikbhaskar.com

Feb 27, 2015, 12:50 PM IST
प्रकाश झा प्रकाश झा
सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर फिल्में बनाने वाले प्रकाश झा अपने आस पास घट रही घटनाओं और समस्याओं को स्क्रीन पर उतारने की कोशिश करते हैं या यूं कहें कि वो असल जिंदगी से प्रेरित होकर फिल्में बनाते हैं। बिहार के चंपारण जिले में 27 फरवरी 1952 को जन्में प्रकाश झा ने बॉलीवुड को कई बेहतरीन फिल्में दी हैं।
प्रकाश झा ने समाज की अलग- अलग समस्याओं पर आधारित फिल्में बनाई हैं। जहां अपहरण और गंगाजल जैसी फिल्मों के जरिए उन्होंने समाज में बढ़ रहे अपराध को दिखाया है, वहीं उन्होंने दामुल, मृत्‍युदंड, गंगाजल, अपहरण, चक्रव्‍यूह, राजनीति और आरक्षण के जरिए नक्सली समस्या, राजनीतिक गंदगी, आरक्षण जैसे कई सोशल इश्यूज को खुलकर दिखाया। प्रकाश झा कह चुके हैं कि उन्हें फिल्मों की प्रेरणा अपनी रियल लाइफ से मिलती है। उनके मुताबिक सामाजिक मुद्दों पर फिल्में बनाकर कम से कम इश्यूज पर खुलकर चर्चा करके उनका समाधान ढूंढने की कोशिश की जा सकती है।
प्रकाश झा की बनाई बेस्ट फिल्मों पर बात करने से पहले नजर डालते हैं उनकी जिन्दगी पर...
करियर की शुरुआत
प्रकाश झा ने अपनी पढ़ाई बोकारो शहर के केंद्रीय विद्यालय नं.1 और कोडरमा जिले के तिलैया में स्थित सैनिक स्कूल से की। बाद में दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कॉलेज से बी.एस.सी. में ऑनर्स किया।
1974 में अपने प्रोफेशनल कोर्स के बीच में ही प्रकाश्‍ा ने फ‍िल्‍मों पर काम करना शुरू कर दिया था। इस दौरान उन्होंने 1975 में अपनी पहली डॉक्‍युमेंट्री फ‍िल्‍म 'अंडर द ब्लू' बनाई। उन्होंने 'फेसेज आफ्टर स्टॉर्म' जैसी कई राजनीतिक डॉक्‍युमेंट्री भी बनाईं। इन फ‍िल्‍मों ने बतौर बेस्‍ट नॉन फीचर फ‍िल्‍म, नेशनल फ‍िल्‍म अवॉर्ड भी जीता।
निजी जिंदगी
असल जिंदगी को केंद्रित कर फिल्में बनाने वाले प्रकाश झा ने 1985 में बॉलीवुड एक्ट्रेस दीप्ति नवल से शादी की थी। इसके बाद इन्‍होंने एक बेटी को गोद भी लिया था, जिसका नाम दिशा रखा। प्रकाश झा का एक बेटा प्रियरंजन भी है। हालांकि, आपसी मतभेदों के कारण वर्ष 2002 में दोनों अलग हो गए और 2005 में तलाक ले लिया।
दीप्ति नवल: एक्ट्रेस दीप्ति नवल की गिनती बॉलीवुड की गंभीर एक्ट्रेसेस में की जाती है। विदेश से पढ़ाई कर बॉलीवुड में आईं दीप्ति अमृतसर की रहने वाली हैं। दीप्ति ने 1977 में ‘जलियांवाला बाग’ से अपना करियर शुरू किया। 1981 में बनी फिल्म ‘चश्मेबद्दूर’ से हिट हुई दीप्ति ने ‘श्रीमान-श्रीमती’, ‘अंगूर’, ‘मोहन जोशी हाजिर हो’, ‘कमला’, ‘हिप-हिप हुर्रे’, ‘फासले’, ‘दामुल’, ‘मिर्च-मसाला’, ‘दुश्मनी’,'लीला’, ‘यात्रा’ समेत करीब 70 फिल्मों में अभिनय किया।
दिशा: प्रकाश झा की बेटी दिशा सिंगिंग में करियर बना रही हैं। वो अपने पिता की फिल्म ‘राजनीति’ में बतौर कॉस्ट्यूम डिजाइनर भी काम कर चुकी हैं। बीच में दिशा को लेकर खबरें आ रही थीं कि वो रोमांटिक फिल्मों का निर्देशन करना चाहती हैं।
प्रकाश झा ने किन सोशल इश्यूज पर बनाई फिल्में, आगे की स्लाइड्स में पढ़ें...
दामुल दामुल
दामुल (1984)  
सब्जेक्ट: मजदूरी और गरीबी

अनु कपूर, श्रीला मजुमदार, मनोहर सिंह, दीप्‍ति नवल और रंजन कामथ के साथ बनी दामुल एक ऐसे मजदूर की कहानी है, जिसको अपने भू-स्‍वामी के लिए चोरी करने के लिए मजबूर किया जाता है। मालिक उससे जिंदगी भर गुलामी करवाता है। 
 
फ‍िल्‍म जाति पर आधारित राजनीति और बंधुआ मजदूरों एवं निचली जातियों के उत्पीड़न पर फोकस करती है। फिल्म को रियल टच देने के लिए 1984 का बिहार दिखाया गया है।
मृत्‍युदंड मृत्‍युदंड
मृत्‍युदंड (1997)  
सब्जेक्ट: सामाजिक और लैंगिक अन्याय 
 
प्रकाश झा को पहली बार बड़ी पहचान 'मृत्युदंड' फिल्म से मिली। फिल्म में माधुरी दीक्षित, शबाना आजमी, अयूब खान, मोहन आगाशे और ओम पुरी की बेजोड़ एक्टिंग के साथ सामाजिक और लैंगिक अन्याय को बखूबी दिखाया गया है। आनंद मिलिंद और रघुनाथ सेठ द्वारा फिल्म में अर्द्ध शास्त्रीय संगीत का बेहतरीन तालमेल दिया गया है, जिसे जावेद अख्‍तर ने शब्‍द दिए हैं।
गंगाजल गंगाजल
गंगाजल (2003)
सब्जेक्ट: राजनीति और अपराध
 
पूरी फिल्म 'गंगाजल' राजनीति के अपराधीकरण पर टिकी है। अजय देवगन, ग्रेसी सिंह और मुकेश तिवारी स्‍टारर ये फ‍िल्‍म बॉलीवुड में एक्‍शन ड्रामा फ‍िल्‍मों का सबसे बड़ा उदाहरण है।
 
फ‍िल्‍म में तेजाब को गंगाजल के नाम से संबोधित किया गया है। इसके साथ ही गांव में इसी गंगाजल से सभी गलत काम करने वालों को पवित्र करने वाली प्रथा को दिखाया गया है। फ‍िल्‍म को आखिर में सॉल्यूशन भी देने की कोशिश की गई है, जिसमें गंगाजल (तेजाब) से नहलाकर गांव में अराजकता फैलाने वालों का अंत किया गया है। अपनी फिल्‍म 'गंगाजल' के लिए खूब सराहना बटोर चुके प्रकाश झा अब इस फिल्‍म का सिक्‍वल 'गंगाजल पार्ट-2' भी लेकर आ रहे हैं।
अपहरण अपहरण
अपहरण (2005)  
सब्जेक्ट: बिहार में अपहरण
 
'अपहरण' फिल्म में बिहार में चल रहे अपहरण उद्योग का घिनौना चेहरा दिखाने की कोशिश की गई है।
 
फ‍िल्‍म में अजय देवगन, बिपाशा बसु और नाना पाटेकर ने एक्टिंग की है। फिल्म को और संजीदा बनाने के लिए बिहार के पूर्वी क्षेत्रों में ज्यादातर शूटिंग की गई है।
चक्रव्‍यूह चक्रव्‍यूह
चक्रव्‍यूह (2012) 
सब्जेक्ट: नक्सली समस्या
 
'चक्रव्यूह' फिल्म में प्रकाश झा ने नक्सली समस्या और उसके न खत्म होने की वजहों पर चर्चा की है। अर्जुन रामपाल, मनोज बाजपेयी, कबीर बेदी, अंजली पाटिल और अभय देओल स्‍टारर ये फ‍िल्‍म नक्सलियों के मुद्दों पर आधारित एक तरह का सामाजिक कमेंट है।
 
फ‍िल्‍म का प्‍लॉट 1973 में निर्देशक ऋषिकेश की अमिताभ बच्‍चन और राजेश खन्‍ना स्‍टारर फ‍िल्‍म 'नमक हराम' से प्रेरित है। 
 
Current Issues inspires prakash jha to make films
राजनीति (2010) 
सब्जेक्ट: अवसरवादी राजनीति
 
'राजनीति' फिल्‍म अवसरवादी राजनीति दिखाने की एक सटीक कोशिश है। फिल्म में दिखाया गया है कि किस कदर राजनीति लोगों के स्वार्थी बना देती है।
 
फिल्म को अजय देवगन, नाना पाटेकर, रण्‍ाबीर कपूर, कैटरीना कैफ, अर्जुन रामपाल, मनोज बाजपेयी और नसीरुद्दीन शाह जैसे मंजे कलाकारों के बेजोड़ अभिनय ने सुपरहिट बनाया। फिल्म कुछ हद तक 'महाभारत' की कहानी से प्रेरित है, जिसमें आगे बढ़ने और राज्‍य की चाह में अपने ही अपनों को मारते और पछाड़ते चले जाते हैं। इस फिल्‍म का सीक्‍वल भी बनाया जा रहा है।
 
Current Issues inspires prakash jha to make films
आरक्षण (2011) 
सब्जेक्ट: संस्थानों में जाति आधारित आरक्षण
 
'आरक्षण' फिल्म में प्रकाश झा ने आरक्षण के दोनों पहलुओं को रखा है। अमिताभ बच्‍चन, सैफ अली खान और दीपिका पादुकोण स्‍टारर फ‍िल्‍म एक रोमांटिक ड्रामा है।
 
भारत सरकार की ओर से सरकारी नौकरी और शिक्षण संस्थान में जाति आधारित आरक्षण की विवादास्पद नीति पर आधारित है। फ‍िल्‍म में प्रतीक बब्‍बर और मनोज बाजपेयी ने भी काम किया है।
 
X
प्रकाश झाप्रकाश झा
दामुलदामुल
मृत्‍युदंडमृत्‍युदंड
गंगाजलगंगाजल
अपहरणअपहरण
चक्रव्‍यूहचक्रव्‍यूह
Current Issues inspires prakash jha to make films
Current Issues inspires prakash jha to make films
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना