पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • सिर्फ दो मकान हटाए, बाकी लोगों ने डर से कर दिया चक्काजाम

सिर्फ दो मकान हटाए, बाकी लोगों ने डर से कर दिया चक्काजाम

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अरपापार सीपत रोड में रिकांडो बस्ती के पीछे निगम ने अवैध रूप से बने दो मकानों का बेजा कब्जा क्या हटाया, बस्ती के 100 से अधिक महिला, बच्चे और युवा सड़क पर उतर आए। उन्होंने खुद का बेजा-कब्जा हटने के डर से मोपका रोड पर चक्काजाम शुरू कर दिया। दो मकानों का अतिक्रमण हटाने के लिए निगम का अमला सीमित पुलिस बल के साथ पहुंचा था, लेकिन एकाएक भीड़ के चक्काजाम कर देने से रिस्पाॅन्स टीम बुलाई गई। करीब डेढ़ घंटे तक जाम करने के बाद लोगों ने खुद ही रास्ता खोल दिया।

रिकांडो बस्ती से झुग्गी-झोपड़ियों को हटाकर उनके स्थान पर आईएचएसडीपी योजना के अंतर्गत नगर निगम ने 250 से अधिक आवास बनवाए हैं। पक्के मकानों के पीछे बेजा-कब्जा में बने दो मकानों को हटाने के लिए नगर निगम के असिस्टेंट इंजीनियर सुरेश कुमार बरुआ, भोजराज नायडू प्रमिल शर्मा अतिक्रमण दस्ते के साथ बुधवार को मौके पर पहुंचे थे। पुलिस बल नहीं मिलने से टीम बैरंग लौट आई थी। गुरुवार को पुलिस बल मिलने पर अधिकारी निगम अमले के साथ दोबारा मौके पर पहुंचे। यहां शुकवारा बाई कृष्णा देवांगन के मकान को जेसीबी से गिरवाया गया। इसके बाद आस-पास में बेजा-कब्जे में रह रहे 60-70 लोग मोपका रोड पर खड़े हो गए। अपना मकान बचाने की जुगत में महिलाओं ने बच्चों युवाओं के साथ सड़क जाम कर दी। चक्काजाम 11.40 बजे से 1.15 बजे तक चला। नायब तहसीलदार नरेंद्र बंजारा, टीआई तोबियस खाखा ने पहुंचे और लोगों को समझाने की कोशिश की। नारेबाजी गाली-गलौज पर उतारू भीड़ का रवैया देखकर पुलिस मूकदर्शक बनी रही। अतिरिक्त बल मांगा गया, लेकिन वह नहीं पहुंचा। डेढ़ घंटे से अधिक समय तक जाम लगाने के बाद जब लोगों को पता चला कि उनका कब्जा नहीं हटाया जाएगा तो वे खुद ही वहां से हट गए।

रिकांडो बस्ती में तोड़े गए अवैध मकान और मेन रोड पर चक्काजाम करती भीड़।