नकली नोट छापने वालों को पांच साल की कैद

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नकली नोट और प्रिंटर मशीन के साथ पकड़े गए पांच आरोपियों को बुधवार को जिला कोर्ट ने पांच-पांच साल कारावास व पांच-पांच हजार रुपए के अर्थदंड की सजा सुनाई है। पैसा जमा नहीं करने पर छ: महीने की अतिरिक्त सजा भुगतनी पड़ेगी

राजनांदगांव जिला की डोंगरगढ़ पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि जिले में कुछ युवक नकली नोट छापने में सक्रिय हैं। नोट छापने के लिए उनके पास इलेक्ट्रानिक मशीन भी रखी हुई है। डोंगरगढ पुलिस ने टीम बनाकर अगस्त 2014 को ग्राम छीपा निवासी रोहित पिता ओमप्रकाश वर्मा 20 वर्ष और चंद्रशेखर वर्मा पिता प्रीतम वर्मा के मकान में छापामार कार्रवाई की। कार्रवाई के दौरान पुलिस ने पवंदूर निवासी मोतीराम वर्मा पिता जोहिद राम 28 वर्ष,तुम्दीबांदी के मनीष दास पिता एमएन दास 27 वर्ष व कांपा के रहने वाला दीपक साहू पिता गोविंद साहू 25 वर्ष को पकड़ा था। पुलिस को घटना स्थल पर एक प्रिंटिंग मशीन, एक कम्प्यूटर के साथ नगदी तीस हजार से भी अधिक नकली नोट मिले थे। इनमें 100,500,1000 के नकली नोटों को जब्त किया गया था। पुलिस ने पांचों अारोपियों को गिरफ्तार कर धारा 489 बी, 489 सी के तहत अपराध दर्ज किया था। बुधवार को डोंगरगढ़ पुलिस ने उन्हें जिला कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने सुनवाई के दौरान पांचों आराेपियों को पांच-पांच साल के कारावास और पांच-पांच हजार रुपए अर्थदंड की सजा सुनाई।

खबरें और भी हैं...