• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • आग से बचने छत से छलांग फिर भी नहीं बच पाया शहर के इंजीनियर की गोंदिया के होटल में मौत

आग से बचने छत से छलांग फिर भी नहीं बच पाया शहर के इंजीनियर की गोंदिया के होटल में मौत

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
महाराष्ट्र के गोंदिया में होटल में भीषण आग लगने से जिन 6 लोगों की मौत होई, उनमें शहर का भी एक इंजीनियर युवक शामिल था। वह जाॅब करता था और इसी सिलसिले में वहां गया था।

खपरगंज गोलबाजार निवासी अरजीत दीक्षित पिता रमेशचंद्र दीक्षित 24वर्ष इंजीनियरिंग करने के बाद रायपुर के बुलर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में जाॅब कर रहा था। वह शहर से ही अप डाइन करता था। शनिवार को घर आता था फिर सोमवार को चला जाता था। कंपनी के काम से उसे हमेशा बाहर दौरे पर जाना पड़ता था। मंगलवार को वह महाराष्ट्र के गोंदिया में था। यहां एक होटल में ठहरा था। देर रात इस होटल में गैस सिंलेडर फटने से आग लग गई। इससे 6 लोगों की मौत हो गई। अरजीत भी इनमें शामिल था। वह होटल की तीसरी मंजिल पर ठहरा था। नीचे से आग की लपटें बढ़ते देखकर वह उपर से जमीन पर कूद पड़ा। इस कोशिश में उसका शरीर बिजली के तार में फंस गया और सिर जमीन पर पड़ा। इससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया और उसकी मौत हो गई। घटना की जानकारी परिजनों को दी गई तो वह गोंदिया गए। वहां से शव लेकर बिलासपुर आने के लिए रवाना हो गए हैं। अरजीत दीक्षित शहर के चौकसे कालेज में मैकेनिकल इंजीनियरिंग से बीई किया था। वह कांग्रेस नेत्री अरुणा दीक्षित का भतीजा था। उसकी एक दो साल छोटी बहन है। अरजीत का हाल में ही जाॅब लगा था। वह अच्छा फुटबाल प्लेयर था। वह आग से बचने इसीलिए छत से जंप लगा दिया था।

अरजीत दीक्षित

हादसा
खबरें और भी हैं...