--Advertisement--

सीजे ने राह दिखाई, इन पर चलना चुनौती, सोलर प्लांट, ऑनलाइन आॅर्डर

वर्षों से उजाड़ पड़ी आवासीय कॉलोनी को आबाद करने का क्रेडिट भी सीजे यतींद्र सिंह को ही जाता है।

Dainik Bhaskar

Oct 08, 2014, 06:10 AM IST
CJ showed the path, walk on these challenging
बिलासपुर. तारीख- 9 दिसंबर 2012, समय- दोपहर करीब 3 बजे, जगह- पुराने हाईकोर्ट की लाइब्रेरी, कार्यक्रम- नए चीफ जस्टिस यतींद्र सिंह का हाईकोर्ट बार एसोसिएशन द्वारा सम्मान समारोह... पहली बार वकीलों से रू-ब-रू होते हुए चीफ जस्टिस यतींद्र सिंह ने इस मौके पर कुछ घोषणाएं कीं। जजों, न्यायिक अधिकारियों और कर्मचारियों की संपत्ति सार्वजनिक करने, फुलकोर्ट के मिनट्स वेबसाइट पर अपलोड करने या फिर हाईकोर्ट कैंपस को सोलर प्लांट से रोशन करने का मामला हो, सभी फैसलों, घोषणाओं पर अमल शुरू हो गया है। इनसे हमारे हाईकोर्ट की अलग पहचान बनी। वर्षों से उजाड़ पड़ी आवासीय कॉलोनी को आबाद करने का क्रेडिट भी सीजे यतींद्र सिंह को ही जाता है।
12 साल के हो रहे छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के लिए ये फैसले कई मायने में ऐतिहासिक और मील का पत्थर हैं। न्यायपालिका क्षेत्र में पारदर्शिता के लिए इतने बड़े फैसले पहली बार लिए गए। इसमें से अधिकांश घोषणाओं पर अमल हो रहा है। सीजे ने 22 अक्टूबर 2012 को यहां ज्वॉइन किया था। वे 8 अक्टूबर को रिटायर हो रहे हैं। अब हाईकोर्ट प्रशासन के सामने इन्हें बरकरार रखना बड़ी चुनौती होगा।
जजों की संपत्ति हुई ऑनलाइन
हाईकोर्ट और सब-आॅर्डिनेट कोर्ट के जजों, अधिकारियों और कर्मचारियों की संपत्ति की जानकारी वेबसाइट पर सार्वजनिक है। 10 जनवरी 2013 को सबसे पहले सीजे ने अपनी संपत्ति सार्वजनिक की। इसके बाद हाईकोर्ट समेत प्रदेश के सभी जजों ने ऐसा किया। हाईकोर्ट कर्मचारियों की संपत्ति की जानकारी वेबसाइट पर है।
हाईकोर्ट कॉलोनी आबाद हुई
छत्तीसगढ़ आने के बाद रायपुर से बिलासपुर आने के दौरान सीजे ने हाईकोर्ट की आवासीय कॉलोनी देखी। उन्होंने इसे शहर की सबसे सुंदर कॉलोनी बनाने की घोषणा की। 31 अक्टूबर 2012 को न्यायिक अधिकारियों और कर्मचारियों से विकल्प मांगा गया। सबसे पहले खुद कॉलोनी में शिफ्ट हुए। यहां प्लेग्राउंड, इनडोर गेम्स की सुविधा, बच्चों और महिलाओं के लिए कंप्यूटर ट्रेनिंग की व्यवस्था की। कैंपस हरा करने बड़ी संख्या में पौधे लगवाए। साल में एक बार खास आयोजन भी हुए।
वकीलों को मिले चेंबर
हाईकोर्ट में बने चेंबर का मामला सालों से अधर में पड़ा था। वकील सालों से इनकी मांग कर रहे थे। कई बार कोशिश की गई, लेकिन आवंटन नहीं हो पाया। चेंबर आवंटन को लेकर महाधिवक्ता की अध्यक्षता में कमेटी बनाई गई। कमेटी ने नियम व शर्तें तय की। प्रक्रिया पूरी होने के बाद वकीलों को चेंबर आवंटित कर दिए गए।
सोलर प्लांट से रोशन हो रही बिल्डिंग
हाईकोर्ट में छत्तीसगढ़ अक्षय ऊर्जा विकास निगम (क्रेडा) ने 500 किलोवॉट क्षमता के सोलर पॉवर प्लांट की स्थापना की है। 4 मार्च 2013 को इसकी घोषणा की गई थी। प्लांट में बैटरी बैंक नहीं है और यह सीधे बिजली सप्लाई के लिए लगाए गए पॉवर ग्रिड से जुड़ा है। यानी प्लांट में उत्पादन के बाद हाईकोर्ट को सीधे बिजली मिल रही है। बाकी बिजली पॉवर ग्रिड में जाती है। प्लांट से हर रोज 2000 यूनिट बिजली का उत्पादन हो रहा है, जिसका उपयोग हाईकोर्ट में किया जा रहा है। इससे करीब हर साल 40 लाख रुपए की बचत होगी।
दुष्कर्म मामलों की सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट
दुष्कर्म से जुड़े मामलों की सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट की स्थापना का निर्णय लिया गया। जजों की कमेटी ने दुष्कर्म के मामलों की जल्द सुनवाई और निपटारे के लिए प्रदेश की सभी निचली अदालतों में फास्ट ट्रैक कोर्ट की स्थापना करने की अनुशंसा की थी। फुल कोर्ट ने इन मामलों में अधीनस्थ अदालतों में ट्रायल के स्तर और हाईकोर्ट में अपील के स्तर पर मॉनिटरिंग करने का भी फैसला लिया है।
रायपुर और कोरबा में इवनिंग कोर्ट को मंजूरी
फुल कोर्ट ने प्रदेश में इवनिंग कोर्ट शुरू करने की दिशा में पहल करते हुए दि इवनिंग कोर्ट रूल्स 2013 को मंजूरी दी। इसके तहत राजधानी रायपुर और कोरबा में फुल कोर्ट खोलने के लिए संबंधित जिला एवं सत्र न्यायाधीश को तारीख तय करने के निर्देश दिए गए।
ओपन सोर्स सिस्टम को बढ़ावा दिया
सीजे कंप्यूटर के एक्सपर्ट हैं। इलाहाबाद हाईकोर्ट की तर्ज पर उन्होंने छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट की वेबसाइट तैयार करवाई। उन्होंने ओपन सोर्स सिस्टम को बढ़ावा दिया, यानी इसके लिए साॅफ्टवेयर खरीदने की जरूरत नहीं है। इंटरनेट पर मुफ्त में उपलब्ध साॅफ्टवेयर का ज्यादातर उपयोग किया जा रहा है।
ये भी रहे महत्वपूर्ण फैसले
छत्तीसगढ़ स्टेट ज्यूडिशियल एकेडमी की नई बिल्डिंग को मंजूरी
जजों के तबादले के लिए नई नीति जारी की गई
अधीनस्थ न्यायालयों में जजों के खाली पदों पर भर्ती की मंजूरी
राज्य के सभी जिला न्यायालयों में विजिलेंस सेल को मंजूरी
नक्सल क्षेत्रों में विशेष फास्ट ट्रैक कोर्ट का प्रस्ताव मंजूर
कई जिलों में फैमिली कोर्ट शुरू करने का प्रस्ताव मंजूर
10 जिलों में स्पेशल एट्रोसिटी कोर्ट खोलने को मंजूरी
हाईकोर्ट में कवर्ड पाथ-वे की वकीलों की मांग मंजूर की
फैसले और मिनट्स ऑनलाइन हुए
9 दिसंबर 2012 को हुए समारोह में एक दिन पहले फुल कोर्ट के फैसले सार्वजनिक किए गए थे। इसके बाद अब तक फुल कोर्ट की जितनी भी मीटिंग्स हुई हैं, उनमें हुई चर्चा व फैसलों की पूरी जानकारी वेबसाइट पर उपलब्ध करवाई जा रही है। हाईकोर्ट के फैसले भी ऑनलाइन हो रहे हैं।
रेलवे का रिजर्वेशन काउंटर खुलवाया
रिटायरमेंट से एक दिन पहले ही सीजे यतींद्र सिंह ने हाईकोर्ट कॉलोनी समेत क्षेत्र की जनता को रेलवे रिजर्वेशन काउंटर की सौगात दिलवाई। इसकी पहल उन्होंने खुद की थी और कहा था कि इसे सिर्फ कॉलोनी वालों के बजाय पूरे इलाके के लोगों के लिए खोला जाए।
X
CJ showed the path, walk on these challenging
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..