बच्ची से अश्लील हरकत, फास्ट ट्रैक कोर्ट ने सुनाई सजा

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

बिलासपुर. अदालत ने बच्ची से अश्लील हरकत करने वाले आरोपी को 3 साल सश्रम कारावास व 5000 रुपए जुर्माने की सजा दी है। कोतवाली थाना क्षेत्र के इस मामले की सुनवाई अपर सत्र न्यायाधीश गिरिजा देवी मेरावी की फास्ट ट्रैक कोर्ट में हुई।

40 वर्षीय संतोष विश्वकर्मा उर्फ पवन पिता रामलाल कोतवाली थानांतर्गत तेलीपारा में आरके बूट हाउस के पास रहता है। घटना 29 अपै्रल 2013 की है। इसी मोहल्ले का एक व्यक्ति अपने परिचित के यहां शादी समारोह में शामिल होने नूतन कालोनी सरकंडा जा रहा था। मोटरसाइकिल में उसके साथ उसकी 12 वर्षीय बेटी भी थी। आरोपी संतोष को भी उसी शादी समारोह में जाना था। परिचित होने के नाते वह उन्हीं के साथ मोटरसाइकिल में बैठ गया। रात करीब 11:30 बजे वे घर लौट रहे थे। बालिका बीच में बैठी थी, पिता मोटरसाइकिल चला रहा था। संतोष सबसे पीछे बैठा था। संतोष रास्ते में बालिका से गलत हरकत करने लगा।

बालिका ने रोते हुए यह बात पिता को बताई, जिसके बाद पिता ने आरोपी को मोटरसाइकिल से उतार दिया। घर पहुंचने के बाद पिता ने संतोष को खरी-खोटी सुनाई और उसके घर वालों को उसके दुष्कर्म की जानकारी दी। इससे दोनों परिवारों में जमकर झगड़ा हुआ। पीडि़त ने सुबह घटना की रिपोर्ट कोतवाली थाने में की।

पुलिस ने संतोष के खिलाफ भादवि की धारा 354 एवं लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम की धारा 7 व 8 के तहत अपराध दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार किया था। इस मामले में अदालत ने संतोष विश्वकर्मा को लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम के तहत 3 साल सश्रम कारावास व 5000 रुपए जुर्माने की सजा दी है।
जुर्माने की रकम नहीं पटाने पर 6 माह अतिरिक्त कारावास का आदेश दिया गया है। मामले में शासन की ओर से विशेष लोक अभियोजक नरेश सिंह ने पैरवी की।