पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Six Years Incomplete Aaditoriam Will Now Complete

छह साल से अधूरा आॅडिटोरियम अब पूरा होगा, 2015 में पूरा करने का दावा

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
(2011 में ऐसा था ऑडिटोरियम)
बिलासपुर. न्यायधानी की सांस्कृतिक गतिविधियों को आयाम देने सर्वसुविधायुक्त ऑडिटोरियम का सालों से रुका काम जल्द शुरू होने की उम्मीद है। शासन ने इसके लिए टेंडर को हरी झंडी दे दी है। नगर निगम ने अधूरे कार्य पूरे करने के लिए रेट एप्रूव करने शासन के पास प्रस्ताव भेजा था। शासन की मंजूरी मिलते ही निगम ने कोलकाता के सिंघल इंटरप्राइजेस को वर्कआॅर्डर जारी कर दिया है। दावा है कि यह काम सालभर में पूरा हो जाएगा। सत्यदेव दुबे, शंकर शेष, श्रीकांत वर्मा जैसे नामचीन कला, साहित्यिक मनीषियों के शहर बिलासपुर में ऑडिटोरियम की कमी अरसे से है।
मंत्री अमर अग्रवाल की पहल पर राघवेंद्र राव सभा भवन के पीछे यूनाइटेड क्लब को मिली 52,375 वर्गफीट नजूल जमीन के पट्टे की अवधि खत्म होने के बाद उसका नवीनीकरण नहीं किया गया। इसे ऑडिटोरियम के लिए आरक्षित कर दिया गया। नगर निगम ने वर्ष 2008 में अॉडिटोरियम निर्माण के लिए 11 सितंबर 2008 को वर्कआॅर्डर जारी किया। डिजाइन संबंधी खामियों के चलते सुरक्षा पर सवाल देख एनआईटी रायपुर से इसका परीक्षण करवाया गया। लंबी प्रक्रिया के बीच ऑडिटोरियम का काम पांच साल से अधिक समय से ठप है। एनआईटी से नई डिजाइन स्वीकृत होने के बाद आॅडिटोरियम के बाकी काम पूरे करने के लिए निगम ने टेंडर करवाया।
ऑडिटोरियम एक नजर में
लागत: 18.2 करोड़
सिटिंग केपेसिटी: ओपन थिएटर और कवर्ड हॉल में क्रमश: 500-500
पार्किंग: डबल बेसमेंट में 150 कारें और 300 बाइक
एरिया: 52,375 वर्गफीट जमीन पर चल रहा है निर्माण कार्य
ये काम बाकी हैं
निगम कार्यपालन अभियंता पीके पंचायती ने बताया कि इस पर अब तक करीब छह करोड़ खर्च किए जा चुके हैं। ग्राउंड फ्लोर से 24 फीट की गहराई में डबल बेसमेंट पार्किंग बन चुकी है। पार्किंग के लिए वाहन रैंप के सहारे दो फ्लोर पर उतारे जाएंगे। अब ग्राउंड फ्लोर पर बालकनी सहित अन्य निर्माण किए जाएंगे। इसके लिए 11.52 करोड़ का वर्क आॅर्डर सिंघल इंटरप्राइजेस को दिया जा चुका है।
रेट को एप्रूवल दे दिया है
ऑडिटोरियम के बाकी काम के टेंडर के रेट एप्रूव करते हुए राज्य शासन ने नगर निगम को काम शुरू करवाने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए प्रशासकीय और वित्तीय स्वीकृति पहले ही दी जा चुकी है।
-एसके जैन, चीफ इंजीनियर, नगरीय प्रशासन व विकास विभाग
(आगे की स्लाइड में देखें अब कैसा है ऑडिटोरियम)