पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • डीआर स्कीम बच्चों की मेडिकल सुविधा में कटौती से आक्रोश

डीआर स्कीम बच्चों की मेडिकल सुविधा में कटौती से आक्रोश

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्टीलइंप्लाइज यूनियन इंटक ने डीआर स्कीम इनसेंटिव एवं कर्मियों के बच्चों के मेडिकल सुविधा में कटौती पर नाराजगी व्यक्त की

बैठक को संबोधित करते हुए यूनियन के महासचिव एसएम पांडेय ने कहा कि फैक्ट्री एक्ट में यह प्रावधान है कि कर्मियों एवं उनके आश्रित को मेडिकल, शिक्षा एवं चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराना प्रबंधन की जिम्मेदारी है। एनजेसीएस में ऐसे कई समझौते हुए है जिनको स्थानीय यूनियन के साथ सहमति बनते हुए उसे प्रबंधन क्रियान्वित नहीं करता था। इस बार कर्मियों के 25 वर्ष के बच्चों के मेडिकल सुविधा को रोकने से पहले प्रबंधन ने स्थानीय यूनियनों से बातचीत नहीं की इंटक यूनियन प्रबंधन के इस फैसले का विरोध करती है। श्री पांडेय ने कहा कि इस वर्ष पहली तिमाही में डेली रिवार्ड स्कीम लागू नहीं किया गया, दूसरी तिमाही (जुलाई- सितंबर) में लागू किया गया लेकिन सिर्फ एक विभाग में दो हजार से अधिक मिला,ज्यादातर विभागों में कर्मियों को 285 रुपए ही मिला, कई विभागों में तो कर्मियों को डीआर मिला ही नहीं। तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) के लिए अभी तक डीआर स्कीम नहीं आई है इसी प्रकार संयंत्र में 30-40 वर्ष पुरानी इनसेंटिव स्कीम अभी भी चल रही है। इसमें श्रमिकों का बहुत कम राशि इनसेंटिव के रूप में मिल रही है। संयंत्र में ई-0, वीआर एवं डि रिजर्वेशन के कारण बहुत सारे पद खाली है, लेकिन कर्मियों को एक्सटेंडेड क्लस्टर में रखा गया है। जिस विभाग में विस्तारीकरण हो रहा है वहां के कर्मियों को नई यूनिट में भेजा जा रहा है, लेकिन इन कर्मियों को मॉडेक्स का अतिरिक्त लाभ नहीं दिया जा रहा है जबकि पूर्व के वर्षों में दिया जा चुका है। इन सबके कारण संयंत्र के कर्मियों में आक्रोश है।