पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bhilai
  • दुकान संचालक एजेंट बनाकर बेच रहे गांव में शराब जिम्मेदारों को सब मालूम लेकिन मूंद ली है आंखें

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दुकान संचालक एजेंट बनाकर बेच रहे गांव में शराब जिम्मेदारों को सब मालूम लेकिन मूंद ली है आंखें

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिले में 3 सौ से ज्यादा स्थानों पर ठिहा बनाकर अवैध शराब की बिक्री

सिटी रिपोर्टर| दुर्ग

जिले में अवैध शराब की बिक्री धड़ल्ले से हो रही है। नगपुरा क्षेत्र में इसका खुलासा होने के बाद अब पूरा प्रशासनिक महकमा इसे ढ़कने में जुट गया है। पुलगांव थानाक्षेत्र नगपुरा में सामने आया यह अवैध कारोबार पहला नहीं है। न ही ग्रामीणों ने पहली बार शिकायत की है। लगातार शिकायतों व घटनाओं के बाद भी प्रशासनिक चुप्पी के चलते अवैध शराब का यह कारोबार धड़ल्ले से जिले में चल रहा है। दिलचस्प बात .ये है कि यहां पकड़े कोचिये ने सीधे शराब दुकान का नाम लिया और बताया कि उन्हें इसे बेचने पर दिन में 5 सौ रुपए और दो बोतल शराब दी जाती है। इसकी लालच में वह काम करते। बावजूद इसके कार्रवाई करने के प्रशासनिक महकमे ने विरोध करने वाले लोगों पर ही अपराध दर्ज करा दिया।

अवैध शराब बिक्री मामले में जब दैनिक भास्कर ने पड़ताल की तो बात यह सामने आई कि पूरे जिले में अवैध शराब का यह कारोबार संचालित हो रहा है। शराब कोचिये से लेकर कारोबार से जुड़े लोग ही पुलिस व प्रशासनिक जिम्मेदारों के साथ अप्रत्यक्ष सांठगांठ कर अवैध कारोबार को संचालित होने दे रहे। ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों की मदद से पूरे जिले में भास्कर ने ऐसे 322 स्पॉट चिह्नित किए, जहां अलग-अलग तरीके से अवैध शराब की बिक्री की जा रही। इनमें से कुछ स्पॉट तक भास्कर की टीम पहुंची भी, जहां शराब बेचते लोग भी मिले।

एसपी व जनप्रतिनिधियों में हो चुकी है कहासुनी: अवैध शराब का कारोबार जनप्रतिनिधियों के लिए भी सिरदर्द बना हुआ है। पिछले दिनों सांसद ताम्रध्वज साहू ने जिला सतर्कता समिति की बैठक में इस मामले को उठाया। पुलिस की अवैध शराब बिक्री की संलिप्तता पर एसपी नाराजगी भी जताए थे।

23 अंग्रेजी दुकान

इन इलाकों पर गुर्गों के संरक्षण में बिकते मिली अवैध शराब
अवैध शराब का यह पूरा खेल गुर्गे के संरक्षण में चलता है। भास्कर की टीम को दुर्ग शहर के 12 स्पॉट का जायजा भी लिया। इसमें कसारीडीह फोकटपारा, चंडी मंदिर चौक मठपारा, हरनाबांधा मुक्तिधाम मार्ग, शंकर नगर लोहा पुल, नयापारा, कंडरपारा, पंचशील नगर, राजीव नगर, गया नगर, राम नगर, सिकोलाबस्ती, कैलाश नगर, तितुरडीह, शक्तिनगर व भिलाई के लक्षमण नगर, शिवाजी नगर, केम्प-दो बस्ती एरिया आदि।

शिकायत पर सख्त कार्रवाई का आदेश पर पालन नहीं
सरकार की है नैतिक जिम्मेदारी है कि अवैध शराब पर अंकुश लगाए

सरकार की नैतिक जिम्मेदारी है कि वह अवैध शराब बिक्री पर अंकुश लगाएं। एसपी ने इस बारे कहा था कि जिम्मेदारी आबकारी विभाग की है, वे केवल सहयोगी हो सकते हैं। शराब एक सामाजिक बुराई है, इसे लेकर सरकार को कोई टार्गेट तय नहीं करना चाहिए। इस तरफ ध्यान देने की जरूरत है। इस तरह से खुलेआम शराब बिक्री जिले के लिए सही बात नहीं। ताम्रध्वज साहू, सांसद दुर्ग

कलेक्टर ने इस मुद्दे पर नियमित मॉनीटरिंग का दिया है निर्देश

दो दिन पहले हुए घटनाक्रम को लेकर जानकारी मिली है। मामले को लेकर टीएल बैठक में भी चर्चा हुई। कलेक्टर मैडम में सहायक आयुक्त आबकारी को इसे लेकर निर्देश जारी किए हैं। मैडम ने कहा है कि जहां से शिकायत आ रही है, वहां से बार-बार कम्प्लेन है। इन जगहों पर वे जरूर जाकर देखें और कार्रवाई करें। कलेक्टर ने नियमित मॉनीटरिंग की भी बात कही है। केके अग्रवाल, अपर कलेक्टर दुर्ग

इधर, नगपुरा में अवैध शराब बिक्री के मामले को लेकर ग्रामीणों के खिलाफ हुई कार्रवाई को लेकर सोमवार को ग्रामीणों ने पुलगांव थाने का घेराव कर विरोध-प्रदर्शन किया। मौके पर सीएसपी एनपी उपाध्याय सहित अन्य अधिकारी पहुंचे। ग्रामीण टीआई नरेश पटेल के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर अड़े रहे। मामले में एसपी अमरेश मिश्रा से जल्द चर्चा व आवश्यक कार्रवाई के आश्वासन के बाद मौके से ग्रामीण हटे।

70 फीसदी स्पॉट को पुलिस भी है जानती
कंट्रोल रूम तो बना है पर कार्रवाई बहुत कम
जिले में अवैध शराब की बिक्री रोकने के लिए आबकारी विभाग के तरफ से कंट्रोल रूम बनाया गया है। सहायक आबकारी आयुक्त अरविंद पाटिले के निर्देश पर यह कंट्रोल रूम बनाया गया। मोबाइल नंबर 7882325836 पर 24 घंटों में कभी भी फोन कर सूचना अवैध कारोबार की जानकारी दी जा सकती है। आईएस मंडावी को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है। बावजूद अवैध शराब को लेकर कोई बड़ा मामला सामने नहीं आया। हर बार छिटपुट ही कार्रवाई देखने को मिलती है।

नियम तो है लेकिन पालन नहीं किया जा रहा
आवंटित शराब की दुकान के अलावा कहीं पर भी शराब बिक्री होते हुए पाये जाने पर धारा 34 आबकारी एक्ट के तहत कार्रवाई की जाती है। इसमें अधिकतम दो साल तक की सजा का प्रावधान है। पुलिस और आबकारी विभाग दोनों को अवैध शराब बेचने वालों के खिलाफ कार्रवाई का अधिकार है। वे प्रकरण तैयार कर सीधे कोर्ट में प्रस्तुत कर सकते हैं। नियम के तहत अगर कोई 6 बड़ी बोतल शराब लेकर कहीं आता-जाता है तो वह अवैध। इस पर कार्रवाई का प्रावधान है।

जानिए, किस तरह से अवैध शराब का गोरखधंधा किया जा रहा ऑपरेट
जिले के अधिकांश इलाकों में अवैध शराब बेचने का गोरखधंधा चल रहा है। इसका खुलासा नगपुरा-अंजोरा ढाबा के पास शनिवार को पकड़े कोचिए ने भी किया। ग्रामीणों के सामने ही कोचिए ने उरला शराब दुकान से शराब लाने की भी बात कही। करीब 5 पेटी देशी शराब इस दौरान मौके से जब्त भी की गई। भागने की घटना के चलते ग्रामीणों ने मौके पर ही विरोध-प्रदर्शन शुरू कर दिया। तो उन्हीं के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई की। यही नहीं सोमवार को भास्कर की टीम नगपुरा के जालबांदा से होकर गुजरी तो अवैध शराब खुलेआम बेचते हुए मिली। कोचिए बोरे में भरकर शराब की बोतलें रखते हैं आने-जाने वालों से इशारे में बात कर उसे लोगों से पैसे लेकर बेची जा रही है। इन्हें पुलिस का भी कोई डर नहीं है। इनका कहना है कि पुलिस जानती हैं।

सुबह 10 बजे से रात तक चलता है ये कारोबार
दुर्ग जिले के जनप्रतिनिधियों का कहना है कि दुर्ग के 70 फीसदी स्पॉट जहां पर अवैध शराब की बिक्री होती है इसे पुलिस व आबकारी विभाग भी जानता है। इस दावे की पड़ताल करने दैनिक भास्कर की टीम निकली तो कई स्पॉट मिले तो शहर के बीच में थे और बेधड़क कोचिए शराब बेचते मिले। जिला पंचायत सदस्यों का दावा है कि 322 से अधिक छोटे-बड़े जगहों पर अवैध रूप से देशी व अंग्रेजी शराब बिक्री की जानकारी मिली। लेकिन कार्रवाई नहीं की जाती है।

नगपुरा में अवैध शराब बेच रहे कोचिए के खिलाफ ग्रामीणों के प्रदर्शन पर पुलिस की कार्रवाई से नाराज लोगों ने थाने को घेरा
देशी, अंग्रेजी शराब दुकानें व बार जिले में

जिले में शराब की खपत को आंकड़ों में समझें

38 देशी दुकान

सीधी बात
ऐसा कुछ नहीं है, विभाग लगातार इन पर कार्रवाई कर रहा
क्या कारण है कि जिले में अवैध शराब बिक्री के मामले थम नहीं रहे?

- ऐसा नहीं है विभाग लगातार कार्रवाई कर रहा।

अप्रैल से अब तक विभाग के तरफ से कितनी कार्रवाई की गई?

-936 मामले बनाए गए। इसमें 80 मामले अवैध शराब के हैं, इनके 23 आरोपी जेल में है।

भास्कर ने ऐसे स्थान ट्रेस किए जहां, अवैध शराब बिक रही। इसमें चंडी मंदिर, नयापारा, हरनाबांधा, फोकटपारा सहित अन्य कई हैं। वहां क्यों कार्रवाई नहीं होती?

-आपने बताया है तो वहां भी दबिश दी जाएगी। कार्रवाई वहां भी होगी।

ग्रामीण क्षेत्रों में भी इस प्रकार की शिकायत आती है, वहां खुलेआम अवैध शराब बिक रही?

- आबकारी विभाग ने कंट्रोल रूम बनाया है, शिकायत करें। जरूर कार्रवाई होगी।

नगपुरा में अवैध शराब बेचते नाबालिग।

जालबांधा रोड पर खुलेआम रोज बिकती है शराब।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों में आपकी व्यस्तता बनी रहेगी। किसी प्रिय व्यक्ति की मदद से आपका कोई रुका हुआ काम भी बन सकता है। बच्चों की शिक्षा व कैरियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी संपन...

    और पढ़ें