पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

छोटे बच्चों को ऐसे पढ़ाएं कि किताब न लाना पड़े

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
छत्तीसगढ़ सरकार के बाद अब केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने बस्ते के वजन को लेकर चिंता जाहिर की है। बच्चों के पीठ पर लदे बस्तों का वजन करने के लिए सीबीएसई ने मंगलवार को 18 बिंदुओं का सुझाव दिया है । जिसका पालन स्कूल प्रबंधन के साथ शिक्षकों व पालकों को भी करने कहा है। साथ ही स्कूल प्रबंधन से कहा है कि उक्त बिंदुओं के अलावा अगर उनके पास को और तरीका है जिससे बस्ते का वजन कम किया जा सकता है तो उसका भी अनुसरण कर सकते हैं।

8 सितंबर से रायपुर में प्राइमरी व मिडिल स्कूल के बच्चों के बस्तों का वजन कम करने की प्रशासनिक कवायद शुरू हो चुकी है। कलेक्टर ने सरकारी व गैर सरकारी सभी स्कूलों के लिए गाइडलाइन जारी किया है। जिसके तहत नर्सरी के विद्यार्थियों के बस्ते का वजन 1 किलोग्राम से अधिक नहीं होने निर्देश दिए हैं। इसी प्रकार प्राइमरी क्लास के बस्ते का वजन 3 किलो और मिडिल क्लास के विद्यार्थी का बस्ता 4 किलोग्राम से अधिक नहीं होने की बात कही है। इसी क्रम में अब सीबीएसई ने भी बस्तों का वजन कम करने टिप्स जारी किए हैं। सीबीएसई के डॉयरेक्टर केके चौधरी के अनुसार स्कूल के दिनों में ही बच्चों के शारीरिक विकास का समय होता है। इस दौरान ही उनकी रीड़ की हड्‌डी पर असर पड़ता है।

पालक को भी दिए सुझाव
पालक हल्के वजन का स्कूल बैग खरीदें। यह सुनिश्चित करें की दोनों कंधे में बैग लटकाया जा सके।

बच्चों का बैग रोजाना चेक कर देंखें की टाइम टेबल के अनुसार ही कॉपी किताब बैग में भरा गया हो। कोई खिलौना व अन्य अनावश्यक सामाग्री न रखा हो।

बच्चों की पीठ पर बैग अच्छे से लटका हो। नीचे की तरफ झूलता बैग शारिरिक समस्या खड़ा कर सकता है।

शिक्षक इस पर दें ध्यान
पढ़ाने के लिए उपयोग किए जाने वाली अपनी प्रति स्वयं ले कर आएं। बच्चों से किताबें न मंगवाएं।

छोटे बच्चों को पढ़ाने का ऐसे तरीके का उपयोग करें जिसमें उन्हें किताब लाने की आवश्यक्ता न पड़े।

वर्क बुक के लिए खुल्ले पन्नों का उपयोग करवाएं। इससे बच्चों के बैग का वजन कम होगा। उन्हें पूरे पन्नों को बंडल लेकर न आएं।

टाइम टेबल के अनुसार आधी-अाधी किताबें दोनों को लाने कहें।

ये करें स्कूल प्रबंधन
टाइम टेबल के अतिरिक्त कोई कॉपी किताब न मंगाएं।

असेंबली में बच्चों को वजनी स्कूल बैग से होने वाली परेशानी से अवगत कराएं।

स्टूडेंट को प्रोत्साहित करें कि वे रोज अपना बैग जमाकर लाएं। ताकी अनावश्यक काॅपी किताब बैग में भरा न रह जाए।

बीच बीच में स्कूल बैग चेक कर देखें कि बच्चे अनावश्यक सामग्री लेकर तो नहीं आ रहे हैं।

सीबीएसई के टिप्स

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति पूर्णतः अनुकूल है। बातचीत के माध्यम से आप अपने काम निकलवाने में सक्षम रहेंगे। अपनी किसी कमजोरी पर भी उसे हासिल करने में सक्षम रहेंगे। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और...

    और पढ़ें