पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • कार्तिक पूर्णिमा पर स्नान कर लिया वनभोज का आनंद

कार्तिक पूर्णिमा पर स्नान कर लिया वनभोज का आनंद

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कार्तिकपूर्णिमा पर गुरूवार को श्रद्धालुओं ने अलसुबह से नदी में स्नान कर मंदिरों में की पूूजा अर्चना की। पूर्णिमा नहाने वालों की सुबह 4 बजे से भीड़ लगी रही। लोग काफी संख्या में चांपा के हसदेव नदी के डोंगाघाट, महादेव घाट, तपसीबाबा घाट, चंद्रपुर शिवरीनारायण महानदी में बड़ी संख्या में पूर्णिमा स्नान करने पहुंचे थे। श्रद्धालु नहाकर मंदिर में पूजा करने पहुंच रहे थे।

दान ग्रहण करने वाले गरीब लोगों की नदी जाने के रास्ते में लाईन लगी थी। लोग नहाकर वापस जाते समय दान करते जा रहे थे। नगर के अधिकतर परिवार ने वन भोज भी किया। पोड़ीदल्हा, हनुमान धारा, केराझरिया, मदनपुरगढ़, दमऊदहरा, मुनुंद के पास मड़वारानी पिकनिक स्पाट सहित अन्य पिकनिक स्पाट में मेला जैसे माहौल रहा। गुरूवार को सुबह से लोग वन के लिए अपना स्थान सुरक्षित रखने पहुंचे थे। दोपहर 12 बजे तक पिकनिक स्पाटों में सभी पेड़ के नीचे लोगों ने अपना डेरा बना लिया था। इसके बाद आने वालों को धूप में ही बैठना पड़ रहा था। अलग-अलग टोलियों में लोग वन भोजन के लिए यहां पहुंचे। कोई दोस्तों की टीम लेकर, तो कोई अपने परिवार के साथ। देर से आने वालों को अच्छे स्थान के लिए भटकना पड़ रहा था। सुबह से लोग वन के लिए अपना स्थान सुरक्षित रखने पहुंचे थे। इन पिकनिक स्पाटों में देर से आने वालों को अच्छे स्थान के लिए भटकना पड़ रहा था।

पिकनिक मनाते समाज की महिलाएं।

हनुमान धारा केराझरिया में रही भीड़

हनुमानधारा और तपसी बाबाधाम केरा झरिया दर्शनीय पिकनिक स्पाॅट के रुप में विकसित होते जा रहा है। यहां पिकनिक मनाने आने वालों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। आम दिनों में भी लोक यहां पिकनिक मनाने आते हैं, लेकिन कार्तिक पूर्णिमा के दिन खासी भीड़ रही। पिकनिक मनाने आने वालों में अधिकतर लोगों ने यहीं आकर भोजन बनाया।

हनुमानधारा में मेले जैसे माहौल

तपसीधाम केराझरिया में भी पिकनिक मनाने आए लोगों की अच्छी भीड़ थी। हनुमान धारा में चल रहे विष्णु महायज्ञ का अंतिम दिन होने के कारण यहां भंडारा भी लगाया गया था। यहां मेला लगा था, जिसमें झूले और अन्य खाने पीने के सामान के दुकान भी लगे हुए थे।