पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • खुटगांव के नवनिर्मित हनुमान मंदिर में हुई प्राण प्रतिष्ठा

खुटगांव के नवनिर्मित हनुमान मंदिर में हुई प्राण प्रतिष्ठा

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
विश्वहिंदू परिषद प्रखण्ड समिति कुनकुरी द्वारा प्रखण्ड के अन्तर्गत पांच मंदिरों के निर्माण हेतु लिये गये संकल्प के अन्तर्गत प्रथम मंदिर के रूप में ग्राम खुटगांव में श्री राम भक्त हनुमान के भव्य मंदिर निर्माण को एक माह के अंदर पूर्ण कराकर समारोहपूर्वक प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान एवं भंडारा आयोजित किया गया।

समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में रामकृष्ण आश्रम बगीचा के ज्योतिरानंद महाराज एवं अध्यक्ष के रूप में विहिप प्रांतीय कार्यकारी अध्यक्ष सुभाष अग्रवाल तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में प्रांतीय संगठन मंत्री वनवासी कल्याण आश्रम देवनंदन सिंह, बीरबल सिंह, पूर्व विधायक जगेश्वर राम भगत, कल्याण आश्रम से सविता रा, सुषमा मिश्रा, श्यामा ताम्रकार शामिल हुए।

मंच का संचालन विहिप प्रखण्ड समिति के अध्यक्ष राजेश गुप्ता द्वारा किया गया समस्त आयोजन में प्रखण्ड के महामंत्री नागेश्वर पाठक एवं सदस्यों का सक्रिय योगदान रहा। अतिथियों द्वारा समारोह में उपस्थित श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए अपनी संस्कृति की रक्षा करते हुए अपनी परंपराओं का पालन करने का आव्हान किया तथा नशे से दूर रहकर भावी पीढ़ी को संस्कारवान बनाकर उन्नति के मार्ग पर चलने योग्य बनाने का भी संदेश दिया। मंदिरों को आस्था के साथ साथ संस्कार एवं विकास केन्द्र के रूप में विकसित कर इसके माध्यम से अपने धर्म संस्कृति की रक्षा करते हुए विकास के मार्ग पर आगे बढ़ने का संकल्प भी लिया गया। विश्व हिन्दू परिषद प्रखंड समिति कुनकुरी द्वारा इस नवनिर्मित मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा 6 नवंबर की सुबह सात बजे समारोहपूर्वक विशाल भंडारे के साथ की गई। नवनिर्मित हनुमान मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम पांच नवंबर बुधवार की सुबह छह बजे कलश यात्रा के साथ प्रारंभ हुआ था। 7 बजे कलश स्थापना के बाद 24 घंटे का अष्ट प्रहरी अखण्ड कीर्तन भी आयोजित किया गया।

इस आयोजन के सभी धार्मिक कार्यक्रम नागेश्वर पाठक द्वारा सम्पन्न कराए गए। इस मंदिर के निर्माण के लिए 3 अक्टूबर को विहिप के प्रखण्ड अध्यक्ष राजेश गुप्ता एवं मंत्री नागेश्वर पाठक द्वारा भूमि पूजन किया गया था, एक माह के ही अल्प समय में इस मंदिर का निर्माण कार्य पूर्ण कर लिया गया।

पांच मंदिरों में बने पहले मंदिर में की गई हनुमान प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा।