• Hindi News
  • National
  • संस्कृति बचाने बच्चों को अपनी बोली सिखाएं: केदार

संस्कृति बचाने बच्चों को अपनी बोली सिखाएं: केदार

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सांसद निधि की 5 लाख राशि से ग्राम ढोलगी में बनेगा सामाजिक भवन: सांसद लखन लाल साहू ने कहा की छत्तीसगढ़ के प्रथम स्वतंत्रा संग्राम सेनानी शहीद वीर नारायण सिंह है। केंद्र सरकार समाज की संस्कृति को बचाने के लिए कार्निवाल करता है। उन्होने सांसद निधि से ग्राम ढोलगी में सामाजिक भवन बनाने 5 लाख की राशि देने घोषण की।

दिल्ली के यूथ हॉस्टल में पढ़ सकते हैं आदिवासी छात्र
राष्ट्रपति ने छत्तीसगढ़ के 13 जिलों को अनुसूचित बताया
गर्ल्स हाॅस्टल व हाईस्कूल खोलने की घोषणा
शिक्षामंत्री कश्यप ने कहा दिल्ली में बने यूथ हाॅस्टल में आदिवासी छात्र रहकर हायर एजुकेशन हासिल कर सकते हैं। यहां छात्र-छात्राएं रहकर आईआईटी, एनआईटी व यूपीएससी की तैयारी और पढ़ाई कर सकते हैं। नक्सल क्षेत्र के होनहार छात्र आज शिक्षा में अग्रणी भूमिका निभा रहे हंै।

अनुसुचित जाति आयोग के अध्यक्ष जीआर राना ने कहा देश के 36 राज्य में से 31 राज्य में जनजाति समाज के लोग रहते है। राष्ट्रपति ने 20 फरवरी 2003 को छत्तीसगढ़ राज्य के 13 जिलों को अनुसूचित क्षेत्र घोषित किया है। इसमें बैगा जनजाति को अतिसंरक्षित श्रेणी में रखा गया है।

शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने पोस्ट मैट्रिक आदिवासी गर्ल्स हॉस्टल, कोतरी में हायर सेकेंडरी स्कूल, ग्राम झाफल, मोहबंधा, लीलापुर व बोड़तराकला में हाईस्कूल, ग्राम सारिसताल, ढोलगी व परसवारा में मिडिल स्कूल, ब्वायज हाईस्कूल में कृषि संकाय शुरू करने की घोषणा की।

भास्कर संवाददाता|लोरमी

आदिवासियों की संस्कृति सबसे प्राचीन है, अपने संस्कार से भावी पीढ़ी को समृद्व बनाने का कार्य करें। सभी भाषाओं में बच्चों को पढ़ाओ हायर एजुकेशन दिलाओ इसके साथ ही अपनी भाषा का ज्ञान बच्चों को जरूर दें।

इससे हमारी संस्कृति बची रहेगी। केंद्र सरकार की तरह रायपुर में भी कार्निवाल का भव्य आयोजन होगा। यह बात स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने आयोजित शहीद वीर नारायण सिंह जयंती समारोह में कही। ग्राम ढोलगी में बुधवार को शहीद वीर नारायण सिंह जंयती समारोह का आयोजन हुआ। मुख्य अतिथि कश्यप ने कहा समाज के शहीदों के सपनों को पूरा करने कार्य करें।

जनजाति समाज को जो प्रावधान मिला है, उसका सम्मान करना चाहिए। इस अवसर पर संसदीय सचिव तोखन साहू ने लोगों को शराब से दूर रहने का आहवान करते कहा आदिवासी समाज की गौरवशाली परंपरा है। समाज की बुराइयों को दूर करने शहीद दिवस मनाते हैं।

आयोजन
खबरें और भी हैं...