• Hindi News
  • National
  • चश्मदीद गवाह से मिले एसपी, बोले 48 घंटे में सुलझ सकती है गुत्थी

चश्मदीद गवाह से मिले एसपी, बोले- 48 घंटे में सुलझ सकती है गुत्थी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ग्राम तेलीनसत्ती में तिहरा हत्याकांड के चश्मदीद गवाह चित्रोक सिन्हा (11) अब सदमे से बाहर आ चुका है। इसकी खबर एसपी मनीष शर्मा को मिली, तब उन्होंने स्वयं शुक्रवार को दोपहर 12 बजे एमएमआई पहुंचकर उससे मुलाकात की। इस दौरान एसपी ने करीब एक घंटे तक त्रिलोक से बातचीत की। सूत्रों की मानें, तो एसपी को इस बातचीत से अहम सुराग मिले हैं, जिनके बूते अगले 48 घंटे में ट्रिपल मर्डर कांड का पर्दाफाश हो जाने की संभावना है।

एसपी मनीष शर्मा ने दैनिक भास्कर को बताया कि पुलिस की 8 टीमें हर पहलू पर गंभीरता से जांच कर रही हैं। कुछ अहम सुराग मिले हैं, जिनके आधार पर कार्रवाई आगे बढ़ रही है। घटना का चश्मदीद गवाह केवल एक बच्चा ही है। मैं बच्चे को देखने रायपुर गया था। उम्मीद है कि 48 घंटे के भीतर मामले का खुलासा हो जाएगा। अर्जुनी थाना क्षेत्र के ग्राम तेलीनसत्ती में गुरुवार तड़के 3 से 4 बजे के बीच अज्ञात लोगों ने महेन्द्र सिन्हा समेत उसकी प|ी उषा सिन्हा व छोटे पुत्र महेश उर्फ लक्की की ताबड़तोड़ वार कर हत्या कर दी थी। इस वारदात में त्रिलोक भी गंभीर रूप से घायल हो गया था, जिसका इलाज रायपुर के एमएमआई में चल रहा है। शुक्रवार को दोपहर करीब 12 बजे एसपी मनीष शर्मा ने एमएमआई रायपुर पहुंचकर त्रिलोक से बातचीत की। इसके बाद उन्होंने उसकी सुरक्षा में तैनात जवानों को 24 घंटे सजग रहने के निर्देश दिए और पूरी व्यवस्था का निरीक्षण किया। उन्होंने डॉक्टरों से भी चर्चा कर त्रिलोक काे बेहतर इलाज सुविधा मुहैया कराने कहा।

डॉक्टरों का कहना है कि त्रिलोक के सिर पर बार-बार वार किया गया था, जिससे गहरी चोंटे आई हैं, इसलिए उसके सिर में 15 टांके लगाए गए हैं। उसकी आंख में भी गंभीर चोट है, जिसका ऑपरेशन शुक्रवार की शाम करीब 4 बजे किया गया। एमएमआई में न्यूरो सर्जन डॉक्टर टावरे समेत उनकी टीम की निगरानी में त्रिलोक का उपचार चल रहा है। उसकी सुरक्षा के लिए निरीक्षक संतोष मिश्रा, एएसआई दुलालनाथ साहू समेत 6 आरक्षक तैनात हैं।

जमीन विवाद या कुछ और
घटना के बाद से तेलीनसत्ती में दहशत का माहौल है। भास्कर टीम शुक्रवार को ग्राम तेलीनसत्ती पहुंची, तब इस मामले को लेकर ग्रामीणों के बीच तरह-तरह की चर्चा हो रही थी। कुछ लोग इस कांड का कारण परिजनों के साथ मृतक के जमीन विवाद को बता रहे थे, तो कुछ का कहना था कि पुरानी रंजिश के चलते किसी ने हत्या कर दी। फिलहाल हत्यारे का पर्दाफाश होने के बाद ही सही कारण का खुलासा हो पाएगा।

8 टीमें कर रहीं जांच
इस ट्रिपल मर्डर की गुत्थी सुलझाने के लिए एसपी मनीष शर्मा, एएसपी केपी चंदेल, डीएसपी पीएस महिलांगे, मीता पवार, प्रशिक्षु डीएसपी उदयन बेहार, कर्ण कुमार उइके समेत कोतवाली, अर्जुनी, क्राइम ब्रांच अफसरों की 8 टीमें बनाई गई है, जो मामले की हर पहलू की पड़ताल कर रही है।

धमतरी। गांव पहुंचकर एसपी समेत अन्य अफसर परिजनों व ग्रामवासियों से लगातार कर रहे हैं पूछताछ।

खबरें और भी हैं...