पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • ज्यादा बच्चे पैदा करें हिंदू, कोई कानून नहीं रोकता: भागवत

ज्यादा बच्चे पैदा करें हिंदू, कोई कानून नहीं रोकता: भागवत

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने हिंदुओं को ज्यादा बच्चे पैदा करने की सलाह दी है। इस पर राजनीतिक विवाद पैदा हो गया। खासकर चुनावी माहौल में रंग रहे उत्तरप्रदेश में बसपा और कांग्रेस ने भागवत के बहाने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला।

भागवत ने शनिवार को एक कार्यक्रम में कहा कि ऐसा कोई कानून नहीं है, जो हिंदुओं की आबादी बढ़ने से रोके। उन्होंने कहा, ‘जब दूसरे धर्म वाले इतने बच्चे पैदा कर रहे हैं तो हिंदुओं काे किसने रोक रखा है।’ भागवत चार दिन आगरा में रहकर समाज के विभिन्न वर्गों से रूबरू हो रहे हैं। हिंदुओं की ‘घटती आबादी’ पर उन्होंने कहा कि इसकी वजह सामाजिक माहौल है। कौनसा कानून कहता है कि हिंदुओं की आबादी नहीं बढ़नी चाहिए? जब दूसरों की आबादी बढ़ रही है तो हिंदुओं को कौन रोक रहा है? शेष|पेज 9





वहीं, रविवार को करीब दो हजार युवा दंपतियों से बातचीत के दौरान भागवत ने आह्वान किया कि अपने बच्चों में पारिवारिक मूल्य और देशभक्ति के भाव भरें।

विरोधियों को मिला भाजपा पर हमले का बहाना


ज्यादा बच्चों के खाने का इंतजाम क्या मोदी करेंगे: माया :

बसपा प्रमुख मायावती ने भागवत के बयान के बहाने भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने आगरा में एक रैली में पूछा कि ज्यादा बच्चे खाना कहां खाएंगे। भागवत पीएम नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार से पूछ लें कि क्या वह इन बच्चों के खाने का इंतजाम कर देंगे।

--

कांग्रेस बोली, देश को बांटने की सोचते हैं भागवत:

लखनऊ|कांग्रेस ने भी भागवत की खिंचाई की। पार्टी महासचिव गुलाम नबी आजाद ने कहा कि भागवत धर्म की खाते हैं। वह सोते, जागते, खाते देश को बांटने की सोचते हैं। उनके नेता 10 करोड़ रोजगार देने के दावे करते हैं, लेकिन मिलता एक भी नहीं।

--------------------

भागवत की सफाई- मैं भाजपा या सरकार का दूत नहीं:

बयान पर विवाद बढ़ता देख भागवत ने खुद को सरकार और भाजपा से अलग दिखाने की कोशिश की। रविवार को शिक्षकों ने जब शिक्षा नीति और आरक्षण पर सवाल पूछे तो उन्होंने कहा, “”मैं भाजपा या सरकार का दूत नहीं हूं। आप सीधे केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को लिखें।’’

-------------------------------------

कहीं संघ की कोई चुनावी रणनीति तो नहीं:

पिछले साल बिहार चुनाव से ऐन पहले मोहन भागवत ने वहां आरक्षण पर विवाद छेड़ दिया था। माना जाता है कि इससे पार्टी को चुनाव में नुकसान हुआ। यूपी में भी अगले साल चुनाव हैं। यह बयान यूपी में वोटों के ध्रुवीकरण की रणनीति से जोड़कर देखा जा रहा है। हालांकि, योगी आदित्यनाथ, साध्वी प्राची जैसे कई भाजपा नेता भी पहले ऐसे बयान देते रहे हैं।

-----------------------------------

मोहन भागवत

खबरें और भी हैं...