• Hindi News
  • National
  • परियोजना स्तरीय खेलकूद में अव्यवस्था हावी

परियोजना स्तरीय खेलकूद में अव्यवस्था हावी

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
एकीकृत आदिवासी विकास परियोजना विभाग के तत्वावधान में परियोजना स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता में पांचों ब्लाक से 310 बालक व बालिका खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। प्रतियोगिता के बेहतर संपादन में ब्लाकों से कुल 12 खेल शिक्षक सहयोग कर रहे हैं।

जिले की आदिवासी प्रतिभाओं को मुकाम देने व खेल में आगे बढ़ाने के लिए शासकीय पीजी कॉलेज के खेल मैदान में रविवार से प्रतियोगिता चल रही है। जिसके दूसरे दिन सोमवार को बालक व बालिका खिलाड़ियों ने अपने-अपने ब्लाक का नाम ऊंचा करने के लिए विविध प्रतियोगिताएं संघर्ष करते रहे। स्पर्धा का विशेष आकर्षण रहा पहाड़ी कोरवा युवाओं को खेल से जोड़ना। वनांचल के चयनित पहाड़ी कोरवा युवाओं ने तिरंदाजी का बेहतर प्रदर्शन किया। प्रतियोगिता में एथलेटिक्स, खो-खो, कबड्‌डी, बालीबाल, तिरंदाजी व रस्साकसी शामिल है। एथलेटिक्स में दौड़, ऊंची कूद, लंबी कूद, भाला फेंक, गोला फेंक व अन्य प्रतियोगिताएं हुईं।

परियोजना स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता में हुई कबड्‌डी में जोर आजमाती करती बालिका टीम।

खेल नहीं आैपचारिकता की जा रही थी: पीजी कॉलेज के ग्राउंड में ही सभी खेल हो रहे थे। सोमवार को दोपहर मंे खेल इतनी जल्दी जल्दी समाप्त करा लिए जा रहे थे कि किसी को समझ में ही नहीं आ रहा था। एक तरफ ऊंची कूद तो दूसरी तरफ भाला फेंक, बगल में बालक व बालिका टीम के बीच बालीबाल ही नहीं रिले रेस भी चल रही थी। इतना ही नहीं कबड्‌डी में बालिका खिलाड़ी भिड़ रही थीं तो कोरवा युवा तीरंदाजी में हुनर दिखा रहे थे। मैदान में अगर कोई खेल देखने पहंुंचा था वह एक से अधिक खेल नहीं देख पा रहा था। प्रतियोगिता को 12 खेल शिक्षक संपन्न करा रहे थे। यहां समझा जा सकता है कि एक साथ एक ही ग्राउंड में 8 मैच किस तरह हुए होंगे।

पानी के लिए टैंकर तो खाना खाने की व्यवस्था 3 किमी दूर
प्रतियोगिता में भाग लेने आए बच्चों की सुविधा का ख्याल भी महज दिखावा था। एक बच्चे के पीछे विभाग से कितनी राशि मंजूर थी खेल के दौरान यह तो वहीं जानें लेकिन पीने के पानी के लिए ग्राउंड में निगम का टैंकर जरूर था। ऐसा नहीं कि बच्चे भूखे रहे। बालिका खिलाड़ियों के लिए रामपुर स्थित कस्तूरबा आश्रम में व्यवस्था थी जहां पैदल ही आना-जाना कर रही थीं। जबकि बालकों के लिए खाने की व्यवस्था 3 किलोमीटर दूर डाइट में थी।

आज होगा समापन
प्रतियोगिता का समापन 31 जनवरी को दोपहर 12 बजे होगा। इस अवसर पर प्रतियोगिता के विजेता उपविजेता ब्लाकों के खिलाड़ियों को पुरस्कृत किया जाएगा।

परियोजना स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता में पांचों ब्लाक से 310 बालक व बालिका खिलाड़ी हो रहे शामिल
सर हम खेलेंगे करतला से कबड्‌डी
प्रतियोगिता का दूसरा दिन था। लेकिन यह तय नहीं था कि किस ब्लाक से कौन सा खेल कौन खिलाड़ी खेलेंगे। टीम आई भी है या नहीं यह भी बताने वाला कोई नहीं था। ऐसे में जब बालक कबड्‌डी टीम की बात सामने आई थो एक खेल शिक्षक ने बताया कि सीनियर बालक कबड्‌डी टीम केवल कटघोरा से आई है। इसलिए उसे वीनर घोषित कर दिया जाए। यह सुनना था कि तीन बच्चे बगल से मंच तक पहुंचे और कहने लगे सर...करतला ब्लाक से हम कबड्‌डी खेलने आए हैं। सीनियर टीम है हमारी। इतना सुनना था कि कटघोरा को वीनर बनाने की घोषणा करने वाले खेल शिक्षक पीछे हट गए और कहने लगे ठीक है आए हो तो खेलो।

कहां से कितने खिलाड़ी ले रहे हिस्सा
ब्लाक बालक बालिका कुल

कोरबा 44 41 85

कटघोरा 44 12 56

करतला 19 22 40

पाली 35 34 69

पोड़ी उपरोड़ा 26 33 59

कुल 168 142 310

खबरें और भी हैं...