पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • महंत कड़क अध्यक्ष हंै भूपेश, डर से लोग पार्टी छोड़ रहे, भूपेश बोले रमन व जोगी हैं संगवारी

महंत-कड़क अध्यक्ष हंै भूपेश, डर से लोग पार्टी छोड़ रहे, भूपेश बोले-रमन व जोगी हैं संगवारी

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिला कांग्रेस के तत्वावधान में सोमवार को नोटबंदी के खिलाफ रामपुर में आयोजित जनवेदना सम्मेलन में पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी भी निशाने पर रहे। रामपुर विधानसभा के नोनबिर्रा की सभा को लेकर पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ. चरणदास महंत ने जोगी का बिना नाम लिए कहा कि अभी से बोकरा, मुर्गा खिलाने वाले सक्रिय हैं। प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल काफी कड़क है। इसी वजह से कई लोग पार्टी छोड़कर चले गए। अभी भी जिनको जाना है वे चले जाएं। दूसरी ओर बघेल ने भी निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश की रमन सरकार व जोगी संगवारी है। इसी वजह से 14 साल बाद भी जोगी की जाति पर सरकार निर्णय नहीं ले पाई। अब बहकावे में नहीं आना है।

रामपुर के स्कूल मैदान में आयोजित जनवेदना सम्मेलन में लोगों की भीड़ कम थी। भीड़ बढ़ाने 30 से अधिक करमा दलों को बुलाया गया था। करमा के संबंध में कहा कि वे नाच-गाकर अपनी पीड़ा बता रहे हैं। जब पीसीसी अध्यक्ष व डॉ. महंत के साथ पदाधिकारी पहुंचे तब शोर से अव्यवस्था रही। सम्मेलन में रामपुर विधायक श्यामलाल कंवर, धरमजयगढ़ विधायक लालजीत राठिया, प्रदेश कांग्रेस महामंत्री गिरीश देवांगन, नपाध्यक्ष राजेश अग्रवाल, जिला कांग्रेस अध्यक्ष हरीश परसाई, शहर अध्यक्ष राजकिशोर प्रसाद, धरम निर्मले, प्रशांत मिश्रा, घासीिगरी गोस्वामी, प्रमोद राठौर, श्यामनारायण सोनी, हरीश तिवारी, रफीक मेमन, एस मूर्ति, दिनेश सोनी, महेश अग्रवाल अादि मौजूद थे।

कार्यकर्ताओं ने नेताओं को बताई पीड़ा
कांग्रेस कार्यकर्ता उमा यादव, जोगीपाली सरपंच रामभरोस राठिया ने अपनी पीड़ा बताई। कार्तिकराम बरेठ ने गाने के माध्यम से जोगी पर निशाना साधा। पीसीसी अध्यक्ष ने आह्वान करते हुए कहा कि अगले चुनाव में भाजपा को इसका जवाब देना होगा।

नोटबंदी नहीं यह मोदी की लूटबंदी : कंवर
विधायक श्यामलाल कंवर ने कहा कि नोटबंदी के कारण सभी लूट गए। नोट को मोदी सरकार ने बैंकों में डलवाकर एक तरह से लूटबंदी की है। लोग विवाह नहीं कर पा रहे हैं। इलाज के लिए परेशान होना पड़ रहा है। किसानों को घुमाया जा रहा है।

नोनबिर्रा के सम्मेलन को लेकर होती रही चर्चा
कांग्रेस के जनवेदना सम्मेलन में ग्राम नोनबिर्रा में पिछले महिने पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की सभा की चर्चा रही। सभा को पूर्व जनपद उपाध्यक्ष रज्जाक अली ने कराया था। जिसमें जोगी ने कहा था कि 45 से 40 हजार की भीड़ है। दूसरी ओर रज्जाक का कहना है कि 50 हजार से अधिक लोग आए थे। लोगों के लिए वेज व नॉनवेज दोनों की व्यवस्था थी। इस पर भी नेता टिप्पणी करते रहे।

रमन सरकार ने सभी को ठगा अब सबक सिखाएं: राठिया
धरमजयगढ़ विधायक लालजीत राठिया ने नोटबंदी पर कहा कि मोदी व रमन सरकार ने लोगों को ठगा है। धान खरीदी में नए नियम लागू कर पहले परेशान किया। बाद में किसान धान ही नहीं बेच पाए। पहले कांग्रेस सरकार ने किसानों व गरीबों को मुफ्त बिजली मिलती थी अब बिल भेज रही है। बीमा के नाम पर भी ठगा गया है। वर्ष 2018 के चुनाव में भाजपा सरकार को सबक सिखाना है।

41 प्रतिशत बढ़ गया आत्महत्या का ग्राफ : चरणदास महंत
पूर्व केन्द्रीय राज्य मंत्री डॉ. चरणदास महंत ने कहा कि मोदी सरकार के ढाई साल के कार्यकाल में आत्महत्या का ग्राफ 41 प्रतिशत तक बढ़ गया है। फसल उगाने, बचाने व बेचने की व्यवस्था नहीं होने के कारण किसानों को नुकसान हो रहा है। मोदी सरकार कांग्रेस सरकार की योजनाओं का नाम बदलकर वाहवाही लूट रही है। लोगों को मजदूरी नहीं मिल पा रही है। सड़कों पर बाहर के लोग काम कर रहे हैं। मशीन से ही काम हो रहा है।

उद्योगपतियों का ऋण माफ तो किसानों का क्यों नहीं
पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का हाल यह है कि एक झूठ बोलने के लिए उसे सच बनाने हजारों झूठ बोल रहे हैं। नोटबंदी के फैसले ने सबको लाइन में लगा दिया। जब उद्योगपतियों का 1 लाख 40 हजार करोड़ ऋण माफ किया जा सकता है तो किसानों का ऋण माफ होना चाहिए। कांग्रेस सरकार ने 70 हजार करोड़ रुपए किसानों का ऋण माफ किया था। नौजवानों को 6 माह तक वेतन दिया जाए। पहले मोदी ने लोगों को स्वच्छता के नाम पर झाडू पकड़ाया फिर टायलेट बनाने की बात कही। लेकिन पानी ही नहीं है तो टायलेट का कोई मतलब ही नहीं है। जब मोदी व रमन ठेकेदारों को एडवांस में पैसा दे सकते हैं तो पंचायतों को टायलेट बनाने रुपए क्यों नहीं दे रहे हैं।

सामने बच्चों को स्कूल ड्रेस में ही बिठा दिया।

शोर सुनकर खड़े हो गए डॉ. महंत, मंच पर बैठे रहे पीसीसी अध्यक्ष बघेल व विधायक कंवर।

रामपुर के स्कूल मैदान में आयोजित जनवेदना सम्मेलन में लोगों की भीड़ काफी कम थी, स्कूली बच्चों को भी बिठा दिया गया
खबरें और भी हैं...