पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • एसईसीएल के खिलाफ नारे लगाए व बैनर में सांसद विधायक निशाने पर

एसईसीएल के खिलाफ नारे लगाए व बैनर में सांसद-विधायक निशाने पर

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सोमवार को एसईसीएल से प्रभावित 41 गांवों के भू-विस्थापितों ने सर्वमंगला मंदिर से जन आक्रोश रैली निकाली। कोरबा, कुसमुुंडा, दीपका परियोजना से प्रभावित गांवों की महिला, पुरुष हजारों की संख्या में शामिल हुए। रैली मेंे शहर विधायक जयसिंह अग्रवाल के साथ दूसरे संगठनों के लोग भी थे। भू-विस्थापितों ने एसईसीएल प्रबंधन पर वादा-खिलाफी का आरोप लगाते हुए जमकर नारेबाजी की। रैली के पोस्टर व बैनर में सांसद व कटघोरा विधायक भू विस्थापितों के निशाने पर रहे।

पुलिस ने सर्वमंगला चौकी के पास बेरिकेट्स लगा भू-विस्थापितों को रोकने की तैयारी की थी। भू-विस्थापित मंदिर की ओर से सीढ़ियों से मुख्य मार्ग तक पहुंचे फिर रैली आगे बढ़ी। सर्वमंगला पुल से पास 500 मीटर आगे बढ़ने के बाद विधायक जयसिंह अग्रवाल भी अपने समर्थकों के साथ रैली में शामिल हो लिए। रैली को ब्रिज से आगे बढ़ते देख पुिलस ने भू-विस्थापितों को कलेक्टोरेट की ओर आगे बढ़ने से राेकने के लिए सुनालिया नहर चौक के पास ही बेरिकेट्स लगा दिए। बेरिकेट्स देख भू-विस्थापित सड़क पर ही बैठ गए और एसईसीएल प्रंबंधन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। सुनालिया नहर चौक के पास ही एसडीएम देवंेंद्र पटेल को इन्होंने अपनी मांगों का ज्ञापन सौंपा।

ट्रैफिक व्यवस्था न बिगड़े इसलिए बीच में ज्ञापन
41 गांव के भू-विस्थापितों का 1 साल में दूसरा आंदाेलन
ऊर्जाधानी भू-विस्थापित कल्याण समिति के पदाधिकारियों ने कहा रैली में हजारों भू-विस्थापित शामिल हुए। रैली सर्वमंगला मंदिर से कलेक्टोरेट तक जाना था। प्रशासन ने ट्रैफिक व्यवस्था का हवाला दे सुनालिया चौक पर ही ज्ञापन लिया है।

41 गांवों के भू-विस्थापितों का साल भर में यह दूसरा बड़ा आंदोलन है। इससे पहले गेवरा साइलो ठप करने हजारों की संख्या में भू-विस्थापित एकत्रित हुए थे। इसके बाद घोषित चरणबद्ध आंदाेलन के पहले चरण में जनाक्रोश रैली में हजारों की संख्या में ग्रामीण शामिल हुए।

आभार जता कहा- कोई राजनीति करने नहीं आया था
ऊर्जाधानी भू-विस्थापित कल्याण समिति के अध्यक्ष सुरेंंद्र कुमार राठौर ने जनाक्रोश रैली में शामिल होने वाले विधायक जयसिंह अग्रवाल, जनता कांग्रेस (जे), माकपा, छग बचाओ आंदोलन, व्यापारी संघ, स्वयं सेवी संगठन सार्थक के लक्ष्मी चौहान, इंटक, एटक व अन्य संगठनों के सदस्यों का आभार जताते हुए कहा कि सबके समर्थन से जनाक्रोश रैली सफल रही, कोई राजनीति करने नहीं बल्कि भू-विस्थापितों के सहयोग के लिए आए थे। भू-विस्थािपतों की रैली के दौरान रामसिंह अग्रवाल व केदारनाथ अग्रवाल भी दिखे।

विधायक बोले- ये तो ट्रेलर है आगे पिक्चर अभी बाकी है
भू-विस्थापितों की नौकरी, मुआवजा और पुनर्वास की मांग
ज्ञापन सौंपने से पहले भू-विस्थापितों को संबोधित करते हुए विधायक जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि यातायात व्यवस्था न बिगड़े इसलिए पुलिस व प्रशासन के निवेदन पर ज्ञापन यहीं सौंपा जा रहा है। अगर भू-विस्थापितों की नहीं सुनी गई तो आने वाले दिनों में कलेक्टोरेट का घेराव किया जाएगा। भू-विस्थापितों की आज की रैली सफल रही। ये तो सिर्फ एक ट्रेलर था पिक्चर अभी बाकी है।

जनाक्रोश रैली के दौरान भू-विस्थापितों ने कलेक्टर के नाम एसईसीएल कोरबा, कुसमुंडा, दीपका व गेवरा क्षेत्र के प्रभावितों को नौकरी, मुआवजा व पुनर्वास की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा है। भू-विस्थापितों ने 15 मई 2016 को कलेक्टोरेट में जिला पुनर्वास समिति की बैठक में बनी सहमति को एसईसीएल प्रभावित गांव में लागू करने की मांग की है।

नहर चौक पर एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, भू-विस्थापितों ने कहा- हमने दिखाई ताकत
खबरें और भी हैं...