पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • बाल वैज्ञानिकों ने मॉडल में दिखाया हुनर

बाल वैज्ञानिकों ने मॉडल में दिखाया हुनर

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
एकदिन पहले बच्चों ने अपने आसपास की सामग्री से विज्ञान के उपकरण बनाने और कार्यविधि सीखा। दूसरे दिन उन्होंने बड़ी ही बखूबी से अपने मॉडल केवल प्रदर्शित किया बल्कि इस संबंध में जानकारी भी विस्तार से दी। संभाग स्तरीय विज्ञान मेला के दूसरे दिन 200 बच्चों ने मॉडल की कार्यपद्धति और इसके सिद्धांत के विषय में जानकारी हासिल की।

नागपुर की संस्था एसोसिएशन फार रिसर्च एंड ट्रेनिंग इन बेसिक साइंस एजुकेशन ने इस शिविर का आयोजन राज्य माध्यमिक शिक्षा मिशन के सहयोग से किया है। साडा कन्या हायर सेकेंडरी स्कूल परिसर में आयोजित इस शिविर का समापन शुक्रवार को होगा। पहले दिन संस्था के प्रशिक्षकों ने मेजबान कोरबा, बिलासपुर, मुंगेली, रायगढ़, चांपा-जांजगीर, जिले के चयनित 40-40 बच्चों को मॉडल का प्रशिक्षण दिया। दूसरे दिन इन बच्चों ने अपने मॉडल का प्रदर्शन किया। बोतल शॉवर के माध्यम से बच्चों ने बताया कि हवा का दाब शुरू में बाहर के हवा के बराबर ही रहता है। इसलिए जब बोतल में पानी भरा जाता है तो इसके छिद्र से गिरने लगता है। लेकिन जब बोतल के शीर्ष को बंद किया जाता है तो छिद्र से रिसाव रूक जाता है। इसी तरह एक प्लास्टिक की बोतल में मुरमुरा भरा जाता है। इसमें एक प्लास्टिक की छोटी बाल मुरमुरा के भीतर रखा जाता है। बाद में ऊपर एक कांच की गोली रखने के बाद जब बोतल को हिलाया जाता है तब प्लास्टिक की छोटी बाल मुरमुरे के ऊपर जाता है और कांच की गोली भीतर समा जाती है। यह सब घनत्व के सिद्धांत को प्रदर्शित करता है। इसी तरह हडि्डयों को ध्वनि का अच्छा वाहक भी सामान्य मॉडल के माध्यम से समझाया गया। एक लचीली लकड़ी में रस्सी बांध कर उसे धनुष का आकार दिया जाता है। जब इसे किसी वाद्य यंत्र की तरह बजाया जाता है तो रस्सी के कंपन से ध्वनि उत्पन्न होती है। लेकिन इसकी आवाज काफी कम सुनाई देती है। आकृति के एक छोर को जब हाथ की कोहनी पर रखकर फिर इस यंत्र को बजाया जाता है और एक कान को बंद किया जाता है तब दूसरे कान में इसकी आवाज काफी तेज सुनाई देती है। इसी तरह एक कागज का फुल बनाकर उसे पानी में रखा जाता है, जैसे-जैसे कागज में पानी प्रवेश करता है, उसके ऊपर का सिरा फुल की तरह खिलने लगता है। इस तरह छोटे-छोटे आसपास के दैनिक उपयोग के सामान से मॉडल तैयार कर प्रयोग की एक बड़ी उपयोगी विधि समझाई गई। विज्ञान के इस चमत्कार को बच्चों ने बड़े ही सहज ढं