• Hindi News
  • National
  • हाथियों का आतंक कोरकोमा मार्ग पर आमाडांड के प्लांटेशन में डटे रहे 34 हाथी, अंधेरे में ढेंगुरडीह जं

हाथियों का आतंक कोरकोमा मार्ग पर आमाडांड के प्लांटेशन में डटे रहे 34 हाथी, अंधेरे में ढेंगुरडीह जंगल गए

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सड़क किनारे 4 घंटे दो मतवाले हाथियों की मस्ती, दहशत में मकान तक हुए खाली
कोरबा के जंगल में घूम रहा हाथियों का झुंड शुक्रवार को कोरकोमा मार्ग पर आमाडांड में सड़क किनारे पहुंच गया। इसे देखने लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। दोपहर 3 बजे से शाम 7 बजे तक लोग डटे रहे। ग्रामीण हाथी के पास न जाएं इसके लिए वन अमले को मशक्कत करनी पड़ी।

दो हाथी प्लांटेशन की फेंसिंग के किनारे अठखेलियां करते रहे। बाद में 34 हाथियों का झुंड शाम 7 बजे सड़क पार कर ढेंगुरडीह जंगल की ओर चले गए। शहर से 5 किलोमीटर दूर कोरकोमा-कुदमुरा मार्ग पर आमाडांड में सड़क से 50 मीटर दूर 395 हेक्टेयर में प्लांटेशन है। जहां हाथियों का झुंड सुबह से घूम रहा था। दोपहर 3 बजे दो दंतैल फेंसिंग के किनारे आ गए। हाथियों को देखकर आसपास गांव के लोग पहुंच गए। साथ ही सड़क से गुजर रहे लोग भी हाथियों को देखते रहे। चार घंटे तक हाथी किनारे में ही थे। हाथियों को देख मवेशी उनके पास जाने की कोशिश करते रहे। जिसे हाथी ने भगा दिया। अंधेरा होने के बाद हाथी सड़क पार कर ढेंगुरडीह जंगल में चले गए। वन परिक्षेत्राधिकारी पीके तिवारी, सहायक परिक्षेत्राधिकारी बीके तिवारी समेत वन अमले को लोगों को हाथियों के पास जाने से रोकना पड़ा।

वन अमले ने आठ मकान खाली कराए
वन अमले ने दंतैल हाथी के उत्पात को देखते हुए भुलसीडीह के 8 मकानों को खाली करा दिया। यहां के लोगों को दूसरी बस्ती में भेज दिया ताकि दंतैल नुकसान न करे। सुबह होने तक हाथी आसपास ही घूम रहा था। उड़नदस्ता के साथ हाथी मित्रदल हाथी को जंगल में ले जाने के लिए मशाल जलाकर प्रयास करते रहे। सुबह होने के बाद दंतैल अपने आप ही जंगल की ओर चला गया।

गुरुवार की रात 12 बजे दंतैल हाथी ने भुलसीडीह में जमकर उत्पात मचाया। अवधराम चौहान के मकान को तोड़ने के बाद दंतैल हाथी बुंदेली चला गया। जहां एक पक्के मकान को दांत से तोड़ने का प्रयास किया। लेकिन सफल नहीं हुआ। इसके बाद पुन: गांव लौट आया और भुलसीडीह के बस्ती में घूमता रहा। वन अमला उसके पीछे ही लगा रहा। इस दौरान कई लोगों के बाउंड्रीवाल को भी क्षतिग्रस्त करते हुए खेत में लगाए धान की नर्सरी को रौंद दिया।

भुलसीडीह में दंतैल ने रातभर मचाया उत्पात
वन अमला हाथियों को गांव में प्रवेश से रोकने लिए लालमिर्च का धुआं कर रहा है। साथ ही मशाल जलाकर गांव के बाहर लगाया जा रहा है। लेकिन दंतैल पर इसका असर नहीं हो रहा है। बाकी हाथी गांव में नहीं घुसते। दंतैल ही अभी तक गांव में घुसकर नुकसान पहुंचा रहा है। हाथी मित्र दल हाथियों के झुंड को धान के साथ ही कटहल खिला रहे हैं। इसकी वजह से झुंड जंगल में ही रह रहा है।

लालमिर्च का धुआं के

साथ जलाया मशाल
दोनों हाथियों की धमाचौकड़ी देखने के लिए जुटी भीड़ को वन अमला संभालता रहा
खबरें और भी हैं...