पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • नेटवर्क की समस्या ही बीएसएनएल की पहचान बनी

नेटवर्क की समस्या ही बीएसएनएल की पहचान बनी

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
समीपस्थग्राम चिनौरी में बीएसएनएल का टावर लगा है लेकिन यह मात्र दिखावे का लगता है। गांव में टावर लगने के बाद भी गांव के अंदर बात नहीं हो पाती। आसपास के गांव की बात तो बहुत दूर है। इसी तरह लखनपुरी में बीएसएनएल का टावर लगा है। एक्सचेंज है इसके बाद भी समीपस्थ 1 किलोमीटर में बसे ग्राम पिपरौद बोदेली में नेटवर्क में समस्या हमेशा बनी रहती है बीएसएनएल की लचर सेवा से अंचल के उपभोक्ता परेशान हैं।

ग्राम चिनौरी में कहने को तो टावर है लेकिन हमेशा खराब खराबी के चलते दो तीन महीने से मोबाइल में सिग्रल नहीं मिल रहा है। अधिकारियों को सूचना दी जाती है लेकिन कभी सुधारने ध्यान नहीं दिया जाता। गांव के अन्दर टावर होने के बाद भी घर के भीतर सिग्रल नहीं मिलता।

लखनपुरी को छोड बाकी सुदुर गांव उड़कूड़ा चिनौरी जेपरा, खैरखेड़ा, हल्बा बाबूकोहका में बीएसएनएल के टावर खडे हैं किंतु ये सारे के सारे दिखावे मात्र के लिए हैं। गांवों में आए दिन सिग्रल की समस्या बनी रहती है। बार बार मोबाईल से यही रटा रटाया जवाब आता है इस रूट की सभी लाईनें व्यस्त हैं कृपया थेाडी देर बाद काल करें बीएसएनएल द्वारा हर बड़े बाजार वाले गांवों में मेला लगा कर विभाग हजारों सिम बेचती है। किंतु सेवा में जैसा लाभ उपभोक्ताओं को मिलना चाहिए वैसा लाभ नहीं मिल रहा है। यही कारण है कि उपभोक्ताओं का रूझान निजी कंपनी के मोबाइल सेवा पर है। कई ग्रामीण उपभोक्ताओं ने डब्लूएलएल के कनेक्शन लिए हैं लेकिन विगत एक माह से यह सेवा भी ठप पड़ी है।

नहींमिल रही इंटरनेट सुविधा : अंचलके उपभोक्ताओं को ईंटरनेट की सुविधा भी नहीं मिल रही है। सिर्फ लखनपुरी में ही वर्षोंं पूर्व बमुश्किल 100 मीटर के दायरे में लेंडलाईन बिछी हुई है, इसी से दो चार उपभोक्ताओं ने ब्राड बैंड कनेक्शन लिए हैं बाकि उपभोक्ता चाहकर भी इन्टरनेट नहीं चला पा रहे हैं।

लैंडलाईन का विस्तार किया गया और ही नई टेक्रालाजी के वाईमेक्स मशीनरी लखनपुरी एक्सचेंज में लगाई गई। यदि लखनपुरी में स्थापित टावर में वाईमेक्स सिस्टम लगा दिया जाता है तो केवल लखनपुरी बल्कि अंचल के चिनौरी, झाीपाटोला, पिपरौद, बोदेली, तारसगांव, उडकूडा, गढियापारा, तेलगरा, कानापोंड, कोटतरा, गांडागौरी, बड़ेगौरी, अरौद, कोटेला, खैरखेड़ा आदि गावों के लोगों को इस तकनीक का लाभ मिल जाता।

इसी तरह यदि हल्बा टावर में वाईमेक्स तकनीक के यंत्र लग