पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मैनेजर के खिलाफ एफआईआर दर्ज

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बिलासपुर। जिले में धान की रिकार्ड अफरा-तफरी करने के मामले में कलेक्टर की फटकार के बाद कार्रवाई का सिलसिला शुरू हो गया है। बिल्हा की मोहतरा सोसायटी के प्रबंधक के खिलाफ सहकारी बैंक प्रबंधन ने थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। इस सोसायटी में 20 लाख रुपए का 1621 क्विंटल धान गायब है। जिले में गायब धान की कीमत 26 करोड़ रुपए से अधिक है। किसी सोसायटी के खिलाफ एफआईआर की यह पहली कार्रवाई है। आरोप-प्रत्यारोप, कलेक्टर की फटकार और काफी हो-हंगामे के बाद आखिरकार बिल्हा शाखा की मोहतरा सोसायटी के प्रभारी प्रबंधक बद्री सिंह ठाकुर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है। थानेदार ने पर्याप्त सबूत के अभाव में उसके खिलाफ जुर्म दर्ज करने से इनकार कर दिया था। जिला सहकारी बैंक के अफसरों ने धान की अफरा-तफरी की छानबीन की। सोसायटी के कंप्यूटर से धान की कमी का आंकड़ा निकाला और रिपोर्ट तैयार कर थाना पहुंचे। इसमें सोसायटी प्रबंधक के खिलाफ पर्याप्त सबूत मिलने के कारण जुर्म दर्ज किया गया। पिछले एक सप्ताह में बिल्हा क्षेत्र शार्टेज धान की शिकायत पर बैंक के नोडल अधिकारियों ने कई सोसायटियों का निरीक्षण कर धान खरीदी की जांच की। मोहतरा सोसायटी में समर्थन मूल्य से 32,722 क्विंटल धान खरीदा गया था। इसमें 29021.80 क्विंटल मोटा, 3011.20 क्विंटल पतला तो 689.60 क्विंटल सरना धान शामिल है। मार्कफेड और राइस मिलर्स ने सोसायटी से 31,100 क्विंटल धान उठाया। करीब 5 फीसदी धान का उठाव और होना था, लेकिन वहां धान ही नहीं मिला। 1621.72 क्विंटल धान गायब था। मार्कफेड के अफसरों ने तब ध्यान नहीं दिया, लेकिन जब मिलान में कमी मिलने पर वे सकते में आ गए। सोसायटी के प्रभारी प्रबंधक ठाकुर ने पूछताछ करने पर धान सूखने को कारण बताया। अब 60 की बारी बिलासपुर और मुंगेली को मिलाकर 61 सोसायटियों में धान घोटाले का मामला प्रकाश में आया था। मोहतरा सोसायटी के खिलाफ एफआईआर होने के बाद अभी भी 60 सोसायटियों के प्रबंधकों पर कार्रवाई बाकी है। लोरमी शाखा की 16, बिल्हा की 7, कोटा की 7, मस्तूरी की 8 और सीपत की 2 सोसायटियों के अलावा मुंगेली जिले की कुछ सोसायटियों में कुल 26.27 करोड़ का धान कम मिला है। निलंबित मैनेजर बना रहे दबाव धान घोटाले में ही बैंक के सीईओ राजेंद्र शर्मा ने मुंगेली जिले की लोरमी शाखा के शाखा प्रबंधक संतोष कौशिक, बिलासपुर जिले की करगीरोड सोसाइटी के शाखा प्रबंधक जयंत कौशिक, मस्तूरी शाखा के प्रबंधक सालिस्टर साहू, बिल्हा शाखा के प्रबंधक माधोसिंह, जांजगीर-चांपा जिले की जैजैपुर शाखा के प्रबंधक अंतराम चंद्राकर व डभरा के राजेंद्र शुक्ला को निलंबित कर दिया था। इसके बाद से ही निलंबित अधिकारी सोसायटी प्रबंधकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए दबाव बना रहे हैं। भास्कर ने किया था खुलासा धान घोटाले का खुलासा भास्कर ने किया था। 12 जून के अंक में ‘चूहे खा गए सवा छह करोड़ रुपए का धान’ शीर्षक से खबर प्रकाशित की गई थी। इसके बाद एक-एक कर कई सोसाइटियों में धान की गड़बड़ी सामने आती गई। जांजगीर जिले में भी करोड़ों के धान का हिसाब नहीं है। गड़बड़ी करने वाले सोसायटी प्रबंधकों के पास अभी भी समय है। वे यदि शार्टेज धान की रकम बैंक में जमा कर देंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाएगी। अगर उन्होंने ऐसा नहीं किया तो उनके खिलाफ कार्रवाई तय है। किसी को बख्शा नहीं जाएगा। सहकारिता मंत्री और कलेक्टर के आदेश के बाद मोहतरा सोसायटी के प्रबंधक के खिलाफ कार्रवाई की गई है। -राजेंद्र शर्मा, सीईओ, जिला सहकारी बैंक कलेक्टर की नाराजगी रंग लाई सोसायटियों में शार्टेज धान के मामले में कलेक्टर ने बैंक के अफसरों को अपने दफ्तर में बुलाकर जमकर फटकार लगाई थी। उन्होंने गड़बड़ी करने वाले सोसायटी प्रबंधकों के खिलाफ तत्काल एफआईआर कराने के निर्देश दिए थे। उन्होंने यह भी कहा था कि यदि वे जुर्म दर्ज नहीं कराएंगे तो प्रशासन खुद ही यह जिम्मेदारी उठाएगा। कलेक्टर की फटकार के बाद मोहतरा सोसायटी के खिलाफ यह कार्रवाई की गई। इससे पहले बैंक के अफसर इस मामले में टाल-मटोल कर रहे थे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

और पढ़ें