पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Illegal Liquor Is Selling In The Streets Of The State

पूरे राज्य की गली-गली में बिक रही है अवैध शराब

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रायपुर। प्रदेश में अवैध शराब को लेकर बुधवार को विधानसभा में जमकर हंगामा हुआ। विपक्ष ने आरोप लगाया कि प्रदेश में गली -गली शराब बिक रही है। यहां तक की राजिम कुंभ में पान ठेलों तक में चोरी छिपे शराब बेची जा रही है।
विधानसभा में पहले प्रश्नकाल और फिर ध्यानाकर्षण में यह मुद्दा गूंजा।
मोहम्मद अकबर ने प्रश्नकाल में आबकारी मंत्री को घेरा। उन्होंने कहा कि कबीरधाम व बलौदाबाजार जिले में अवैध शराब धड़ल्ले से बिक रही है। एक लावारिस शराब जब्त करने के प्रकरण में अकबर ने मंत्री पर सवालों की झड़ी लगा दी। उन्होंने कहा कि आबकारी एक्ट में यह मामला दर्ज कर लिया गया जबकि नियमत: ऐसा नहीं किया जा सकता।
उन्होंने पर अधूरी जानकारी देने का भी आरोप लगाया। मंत्री ने कहा कि वे इस मामले का परीक्षण करा लेंगे। उनके उत्तर से असंतुष्ट होकर शिव डहरिया, चैतराम साहू, धरमजीत सिंह आदि कई विधायक खड़े होकर बोलने लगे कि गांव -गांव में कोचियों के जरिए शराब बेची जा रही है।
लेखराम साहू ने कहा कि राजिम कुंभ जाते समय अभनपुर के आगे बैरियर लगा कर शराब बेची जा रही है वहां इतनी भीड़ रहती है कि पियक्कड़ गाड़ी से टकरा जाते हैं। साहू ने धमतरी जिले में हाइवे व भखारा में मेन रोड से शराब दुकानें हटवाने की मांग की।
साहू ने कहा कि शराब की वजह से ही विधायक अमितेष शुक्ल ने राजिम कुंभ का बहिष्कार कर दिया है। धरमजीत सिंह ने कहा कि वहां पान ठेलों मे शराब बेची जा रही है। स्पीकर ने सदस्यों के एक साथ बोलने पर आपत्ति की। मंत्री ने कहा कि अवैध शराब के साक्ष्य जुटाना कठिन है।
कबीरधाम में अवैध शराब के 178 प्रकरण बनाए गए हैं। शासन की मंशा किसी को बचाने की नहीं है। लावारिस शराब वाले प्रकरण में 6.3 लीटर शराब साइकिल पर मिली थी। अवैध शराब के मामलों में करीब 100 लोग जेल में हैं।
185 मामलों में जब्त हुई केवल 101 लीटर शराब
ध्यानाकर्षण के दौरान विधायक राजकमल सिंघानिया ने यह मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि कसडोल विधानसभा क्षेत्र में अवैध शराब बिक रही है। इस वजह से अपराध बढ़ रहे हैं। महिलाओं के साथ र्दुव्‍यवहार हो रहा है।
मंत्री के जवाब में बताया गया है कि 185 प्रकरण में 101 लीटर शराब जब्त की गई है। इस उत्तर से पता चलता है कि विभाग कितना मुस्तैद है। उन्होंने शराब माफियों को संरक्षण देना बंद करने और कड़ी कार्रवाई की मांग की।
विधायक ने यह भी जानना चाहा कि शराब ठेकेदारों के गुर्गे लाठी-बंदूकें रखते हैं। इसकी इजाजत क्या सरकार ने दी है? विभागीय मंत्री आरोपों को नकार दिया। उन्होंने कहा कि विभाग अपना काम तत्परता से कर रहा है।